Artwork

Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
Player FM - पॉडकास्ट ऐप
Player FM ऐप के साथ ऑफ़लाइन जाएं!

Vastutah | Bhawani Prasad Mishra

2:15
 
साझा करें
 

Manage episode 394000752 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

वस्तुतः | भवानी प्रसाद मिश्र

मैं जो हूँ

मुझे वही रहना चाहिए।

यानी

वन का वृक्ष

खेत की मेंड़

नदी की लहर

दूर का गीत

व्यतीत

वर्तमान में

उपस्थित भविष्य में

मैं जो हूँ

मुझे वही रहना चाहिए

तेज़ गर्मी

मूसलाधार वर्षा

कड़ाके की सर्दी

ख़ून की लाली

दूब का हरापन

फूल की जर्दी

मैं जो हूँ

मुझे वही रहना चाहिए

मुझे अपना

होना

ठीक-ठीक सहना चाहिए

तपना चाहिए

अगर लोहा हूँ

तो हल बनने के लिए

बीज हूँ

तो गड़ना चाहिए

फल बनने के लिए

मैं जो हूँ

मुझे वही बनना चाहिए

धारा हूँ अन्तःसलिला

तो मुझे कुएँ के रूप में

खनना चाहिए

ठीक ज़रूरतमन्द हाथों से

गान फैलाना चाहिए मुझे

अगर मैं आसमान हूँ

मगर मैं

कब से ऐसा नहीं

कर रहा हूँ

जो हूँ

वही होने से डर रहा हूँ!

  continue reading

383 एपिसोडस

Artwork
iconसाझा करें
 
Manage episode 394000752 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

वस्तुतः | भवानी प्रसाद मिश्र

मैं जो हूँ

मुझे वही रहना चाहिए।

यानी

वन का वृक्ष

खेत की मेंड़

नदी की लहर

दूर का गीत

व्यतीत

वर्तमान में

उपस्थित भविष्य में

मैं जो हूँ

मुझे वही रहना चाहिए

तेज़ गर्मी

मूसलाधार वर्षा

कड़ाके की सर्दी

ख़ून की लाली

दूब का हरापन

फूल की जर्दी

मैं जो हूँ

मुझे वही रहना चाहिए

मुझे अपना

होना

ठीक-ठीक सहना चाहिए

तपना चाहिए

अगर लोहा हूँ

तो हल बनने के लिए

बीज हूँ

तो गड़ना चाहिए

फल बनने के लिए

मैं जो हूँ

मुझे वही बनना चाहिए

धारा हूँ अन्तःसलिला

तो मुझे कुएँ के रूप में

खनना चाहिए

ठीक ज़रूरतमन्द हाथों से

गान फैलाना चाहिए मुझे

अगर मैं आसमान हूँ

मगर मैं

कब से ऐसा नहीं

कर रहा हूँ

जो हूँ

वही होने से डर रहा हूँ!

  continue reading

383 एपिसोडस

All episodes

×
 
Loading …

प्लेयर एफएम में आपका स्वागत है!

प्लेयर एफएम वेब को स्कैन कर रहा है उच्च गुणवत्ता वाले पॉडकास्ट आप के आनंद लेंने के लिए अभी। यह सबसे अच्छा पॉडकास्ट एप्प है और यह Android, iPhone और वेब पर काम करता है। उपकरणों में सदस्यता को सिंक करने के लिए साइनअप करें।

 

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका