Artwork

Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
Player FM - पॉडकास्ट ऐप
Player FM ऐप के साथ ऑफ़लाइन जाएं!

Aparibhashit | Ajay Jugran

2:36
 
साझा करें
 

Manage episode 412262573 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

अपरिभाषित | अजेय जुगरान

बारह - तेरह के होते - होते कुछ बच्चे

खो जाते हैं अपनी परिभाषा खोजते - खोजते

किसी का मन अपने तन से नहीं मिलता

किसी का तन बचपन के अपने दोस्तों से।

ये किशोर कट से जाते हैं आसपास सबसे

और अपनी परिभाषा खोजने की ऊहापोह में

अपने तन पर लिखने लगते हैं

सुई काँटों टूटे शीशों से

एक घनघोर तनाव - अपवाद की भाषा

जो आस्तीनों - मफ़लरों के नीचे से यदाकदा झलक

कभी - कहीं उनकी माँओं को आ ही जाती है नज़र।

तब उनसे बंद कमरों में शुरू होती है ऐसी बातचीत

जिसे बाहर दरवाज़े से कान लगा सुन

सुन्न हो जाते हैं कई सहमे हुए बाप

और फिर वो रोने - कोसने लगते हैं

अपने आप, अपनी क़िसमत, और परिभाषाओं को।

ऐसे में अभिभावक अकसर भूल जाते हैं

प्रकृति में शरीर रूप - रचनाओं की अनेकता

और ठहराने लगते हैं ज़िम्मेदार एक दूसरे को।

अफसोस इस सारी कटु क़वायद के केंद्र में

“लोग क्या कहेंगे” से डरा अस्वीकार होता है

कोई अपरिभाष्य किशोर नहीं।

इस कारण सुलझती नहीं ये पहेली

बस असुलझी सुलगती रहती है

धुएँ के एक काले बादल नीचे

और अफसोस फिर मिलतीं हैं

नस कटी, रेल के पहियों तले और पंखों पर लटकीं

लाशें कई अपरिभाषित - अर्धनारीश्वरीय संतानों की

जो सरल स्वीकार से जी सकतीं थीं होकर परिभाषित।

  continue reading

438 एपिसोडस

Artwork
iconसाझा करें
 
Manage episode 412262573 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

अपरिभाषित | अजेय जुगरान

बारह - तेरह के होते - होते कुछ बच्चे

खो जाते हैं अपनी परिभाषा खोजते - खोजते

किसी का मन अपने तन से नहीं मिलता

किसी का तन बचपन के अपने दोस्तों से।

ये किशोर कट से जाते हैं आसपास सबसे

और अपनी परिभाषा खोजने की ऊहापोह में

अपने तन पर लिखने लगते हैं

सुई काँटों टूटे शीशों से

एक घनघोर तनाव - अपवाद की भाषा

जो आस्तीनों - मफ़लरों के नीचे से यदाकदा झलक

कभी - कहीं उनकी माँओं को आ ही जाती है नज़र।

तब उनसे बंद कमरों में शुरू होती है ऐसी बातचीत

जिसे बाहर दरवाज़े से कान लगा सुन

सुन्न हो जाते हैं कई सहमे हुए बाप

और फिर वो रोने - कोसने लगते हैं

अपने आप, अपनी क़िसमत, और परिभाषाओं को।

ऐसे में अभिभावक अकसर भूल जाते हैं

प्रकृति में शरीर रूप - रचनाओं की अनेकता

और ठहराने लगते हैं ज़िम्मेदार एक दूसरे को।

अफसोस इस सारी कटु क़वायद के केंद्र में

“लोग क्या कहेंगे” से डरा अस्वीकार होता है

कोई अपरिभाष्य किशोर नहीं।

इस कारण सुलझती नहीं ये पहेली

बस असुलझी सुलगती रहती है

धुएँ के एक काले बादल नीचे

और अफसोस फिर मिलतीं हैं

नस कटी, रेल के पहियों तले और पंखों पर लटकीं

लाशें कई अपरिभाषित - अर्धनारीश्वरीय संतानों की

जो सरल स्वीकार से जी सकतीं थीं होकर परिभाषित।

  continue reading

438 एपिसोडस

सभी एपिसोड

×
 
Loading …

प्लेयर एफएम में आपका स्वागत है!

प्लेयर एफएम वेब को स्कैन कर रहा है उच्च गुणवत्ता वाले पॉडकास्ट आप के आनंद लेंने के लिए अभी। यह सबसे अच्छा पॉडकास्ट एप्प है और यह Android, iPhone और वेब पर काम करता है। उपकरणों में सदस्यता को सिंक करने के लिए साइनअप करें।

 

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका