Artwork

Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
Player FM - पॉडकास्ट ऐप
Player FM ऐप के साथ ऑफ़लाइन जाएं!

Kavi Ki Atmahatya | Devansh Ekant

2:41
 
साझा करें
 

Manage episode 397950125 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

कवि की आत्महत्या | देवांश एकांत

अभिनेता अभिनय करते-करते

मृत्यु का मंचन करने लगता है

आप उन्मत्त होते हैं अभिनय देख

पीटना चाहते हैं तालियाँ

मगर इस बार वह नही उठता

क्योंकि जीवन के रंगमंच में

एक ही ‘कट-इट’ होता है

कोई हँसते-हँसाते

शहर के पुल से छलाँग लगा देता है

और तब पिता के साथ

नवका विहार में आया लड़का जान पाता है

पानी की सतह पर मछलियाँ ही नहीं

आदमी भी तैरता है

हर वजन को अपनी हद में रखने वाला वैज्ञानिक

आत्मा के ख़ालीपन से दबकर मर जाता है,

कुछ घरों में उजाला सूरज से नही

कई दिनों बाद गरम रोटी की चमक से होता है

सुबह रात के जाने से नही

मजूर बाप के आधी रात लौटने से होती है

माफ़ कीजिए ये दरअसल घर नही हैं

संग्रहालयों में रखे चित्र की व्याख्या है

आपने यह चित्र जीवंत देखा क्या ?

मेरी आँखों का कालापन

शायद राख है काफ़्का के उन पत्रों की

जो उसने मिलेना को भेजने से पहले

अपनी हीनता के बोध में जला डाले होंगे

रात्रि के झींगुर नाद के मध्य

जब तुम कर रहे होगे

अपनी कविताओं में कांट छाँट

तुम अचानक पाओगे कि

मुक्ति का साधक मुक्तिबोध

सबसे अधिक बंधा था बेड़ियों में

ब्रह्मराक्षस आज भी करता है

नरक में उसका पीछा

देह में रक्त ही नही

प्रतीक्षा भी दौड़ती है

रक्तचाप से अधिक

प्रतीक्षा झँझोड़ती है

यह मैंने ड्योढ़ी पे बैठे उस दरवेश से जाना

बह गयी जिसकी प्रेमिका गाँव की बाढ़ में

जल्द लौटने का वादा कर

भीतर की एक-एक नस

थरथरा उठती है यह सोचकर कि

एक दिन नही होगी माँ, नहीं होंगे पिता

तब कौन पुकारेगा बेटा

तब कौन लेगा भूख का संज्ञान

यह सोचते-सोचते

हर रात मेरे भीतर का कवि

कर लेता है आत्महत्या।

  continue reading

377 एपिसोडस

Artwork
iconसाझा करें
 
Manage episode 397950125 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

कवि की आत्महत्या | देवांश एकांत

अभिनेता अभिनय करते-करते

मृत्यु का मंचन करने लगता है

आप उन्मत्त होते हैं अभिनय देख

पीटना चाहते हैं तालियाँ

मगर इस बार वह नही उठता

क्योंकि जीवन के रंगमंच में

एक ही ‘कट-इट’ होता है

कोई हँसते-हँसाते

शहर के पुल से छलाँग लगा देता है

और तब पिता के साथ

नवका विहार में आया लड़का जान पाता है

पानी की सतह पर मछलियाँ ही नहीं

आदमी भी तैरता है

हर वजन को अपनी हद में रखने वाला वैज्ञानिक

आत्मा के ख़ालीपन से दबकर मर जाता है,

कुछ घरों में उजाला सूरज से नही

कई दिनों बाद गरम रोटी की चमक से होता है

सुबह रात के जाने से नही

मजूर बाप के आधी रात लौटने से होती है

माफ़ कीजिए ये दरअसल घर नही हैं

संग्रहालयों में रखे चित्र की व्याख्या है

आपने यह चित्र जीवंत देखा क्या ?

मेरी आँखों का कालापन

शायद राख है काफ़्का के उन पत्रों की

जो उसने मिलेना को भेजने से पहले

अपनी हीनता के बोध में जला डाले होंगे

रात्रि के झींगुर नाद के मध्य

जब तुम कर रहे होगे

अपनी कविताओं में कांट छाँट

तुम अचानक पाओगे कि

मुक्ति का साधक मुक्तिबोध

सबसे अधिक बंधा था बेड़ियों में

ब्रह्मराक्षस आज भी करता है

नरक में उसका पीछा

देह में रक्त ही नही

प्रतीक्षा भी दौड़ती है

रक्तचाप से अधिक

प्रतीक्षा झँझोड़ती है

यह मैंने ड्योढ़ी पे बैठे उस दरवेश से जाना

बह गयी जिसकी प्रेमिका गाँव की बाढ़ में

जल्द लौटने का वादा कर

भीतर की एक-एक नस

थरथरा उठती है यह सोचकर कि

एक दिन नही होगी माँ, नहीं होंगे पिता

तब कौन पुकारेगा बेटा

तब कौन लेगा भूख का संज्ञान

यह सोचते-सोचते

हर रात मेरे भीतर का कवि

कर लेता है आत्महत्या।

  continue reading

377 एपिसोडस

सभी एपिसोड

×
 
Loading …

प्लेयर एफएम में आपका स्वागत है!

प्लेयर एफएम वेब को स्कैन कर रहा है उच्च गुणवत्ता वाले पॉडकास्ट आप के आनंद लेंने के लिए अभी। यह सबसे अच्छा पॉडकास्ट एप्प है और यह Android, iPhone और वेब पर काम करता है। उपकरणों में सदस्यता को सिंक करने के लिए साइनअप करें।

 

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका