Artwork

Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
Player FM - पॉडकास्ट ऐप
Player FM ऐप के साथ ऑफ़लाइन जाएं!

Hawa Mein Pul | Madan Kashyap

4:50
 
साझा करें
 

Manage episode 395807873 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

हवा में पुल | मदन कश्यप

हवा में पुल था

इसीलिए हवा का पुल था

क्योंकि हवा का पुल ही

हवा में हो सकता था

(आप चाहें तो इस पाठ को बदल सकते हैं, वह इस प्रकार:

हवा का पुल था

इसीलिए हवा में पुल था

क्योंकि हवा का पुल

हवा में ही हो सकता था)....

वैसे पुल के होने के लिए

कहीं न कहीं धरती से उसका जुड़ा हुआ होना ज़रूरी होता है।

पुल क्या कोई भी ढाँचा

केवल हवा में नहीं होता

हवा भी हवा में नहीं होती

वह भी पृथ्वी के होने पर टिकी होती है

अपनी जगह पर इस सच के होने के बावजूद

यह सच था

कि हवा का पुल हवा में था

लोग हवा की सड़क से हवा के पुल पर आते थे

और उसे पार कर हवा की किसी दूसरी सड़क से

किसी तीसरी तरफ़ चले जाते थे

जब वे उसी पुल से वापस लौटते थे

तब हवा का वही पुल नहीं होता था

हर बार नयी हवा नया पुल बनाती थी

हवा के पुल पर चलते हुए लोगों को

अक्सर यह पता नहीं होता था

कि वे हवा के पुल पर चल रहे हैं

उनके पैरों के नीचे कोई नदी भी तो नहीं दिखती थी

हवा की एक नदी वहाँ होती थी

मगर, वह हवा के पुल से इस तरह जुड़ी होती थी

कि अलग से उसे पहचानना असम्भव होता था

इस तरह हवा में सब कुछ हवाई था

उसके हवाई होने के भी कुछ अपने नियम थे

इस हद तक बेकायदा था

कि बेकायदा नहीं था हवा में पुल

सारी चीज़ों की पहचान यही थी

कि वे अपनी-अपनी पहचान खो चुकी थीं

आदमी के लिए यह तय करना कठिन हो रहा था

कि पहचान खोकर सब कुछ पा लेने

और सब कुछ गँवाकर पहचान बचा लेने में

सही क्या है

जो पहचान बचा रहे थे

वे चीज़ो के लिए ललचा रहे थे और जो चीज़ें हथिया रहे थे

वे पहचान खोने पर पछता रहे थे

एक आपाधापी थी चारों ओर

कुछ लोग हवा का पुल पार कर

हवा में जा रहे थे

कुछ लोग हवा के पुल से लौटकर

हवा में आ रहे थे

हम ने भी कई-कई बार

हवा का पुल पार किया

हवा में कविता लिखी

हवा में क्रान्ति की

हवा को तरह-तरह से हवा देने की कोशिश की

हवा के पुल पर हमारे कदमों के निशान

इतने स्पष्ट और घने बनते थे

कि एक पल को ऐसा लगता

हवा का पुल कहीं पदचिह्नों का पुल न बन जाए

पर दूसरे ही पल इस तरह नहीं होते थे वे निशान

जैसे कभी थे ही नहीं

हवा में पुल

हवा होने के बाद भी हवा हो जाने वाला नहीं था

उसका न था कुछ ऐसा था

कि कई-कई हवाओं के गुज़र जाने के बावजूद

हवा में टिका हुआ था हवा का पुल !

  continue reading

418 एपिसोडस

Artwork
iconसाझा करें
 
Manage episode 395807873 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

हवा में पुल | मदन कश्यप

हवा में पुल था

इसीलिए हवा का पुल था

क्योंकि हवा का पुल ही

हवा में हो सकता था

(आप चाहें तो इस पाठ को बदल सकते हैं, वह इस प्रकार:

हवा का पुल था

इसीलिए हवा में पुल था

क्योंकि हवा का पुल

हवा में ही हो सकता था)....

वैसे पुल के होने के लिए

कहीं न कहीं धरती से उसका जुड़ा हुआ होना ज़रूरी होता है।

पुल क्या कोई भी ढाँचा

केवल हवा में नहीं होता

हवा भी हवा में नहीं होती

वह भी पृथ्वी के होने पर टिकी होती है

अपनी जगह पर इस सच के होने के बावजूद

यह सच था

कि हवा का पुल हवा में था

लोग हवा की सड़क से हवा के पुल पर आते थे

और उसे पार कर हवा की किसी दूसरी सड़क से

किसी तीसरी तरफ़ चले जाते थे

जब वे उसी पुल से वापस लौटते थे

तब हवा का वही पुल नहीं होता था

हर बार नयी हवा नया पुल बनाती थी

हवा के पुल पर चलते हुए लोगों को

अक्सर यह पता नहीं होता था

कि वे हवा के पुल पर चल रहे हैं

उनके पैरों के नीचे कोई नदी भी तो नहीं दिखती थी

हवा की एक नदी वहाँ होती थी

मगर, वह हवा के पुल से इस तरह जुड़ी होती थी

कि अलग से उसे पहचानना असम्भव होता था

इस तरह हवा में सब कुछ हवाई था

उसके हवाई होने के भी कुछ अपने नियम थे

इस हद तक बेकायदा था

कि बेकायदा नहीं था हवा में पुल

सारी चीज़ों की पहचान यही थी

कि वे अपनी-अपनी पहचान खो चुकी थीं

आदमी के लिए यह तय करना कठिन हो रहा था

कि पहचान खोकर सब कुछ पा लेने

और सब कुछ गँवाकर पहचान बचा लेने में

सही क्या है

जो पहचान बचा रहे थे

वे चीज़ो के लिए ललचा रहे थे और जो चीज़ें हथिया रहे थे

वे पहचान खोने पर पछता रहे थे

एक आपाधापी थी चारों ओर

कुछ लोग हवा का पुल पार कर

हवा में जा रहे थे

कुछ लोग हवा के पुल से लौटकर

हवा में आ रहे थे

हम ने भी कई-कई बार

हवा का पुल पार किया

हवा में कविता लिखी

हवा में क्रान्ति की

हवा को तरह-तरह से हवा देने की कोशिश की

हवा के पुल पर हमारे कदमों के निशान

इतने स्पष्ट और घने बनते थे

कि एक पल को ऐसा लगता

हवा का पुल कहीं पदचिह्नों का पुल न बन जाए

पर दूसरे ही पल इस तरह नहीं होते थे वे निशान

जैसे कभी थे ही नहीं

हवा में पुल

हवा होने के बाद भी हवा हो जाने वाला नहीं था

उसका न था कुछ ऐसा था

कि कई-कई हवाओं के गुज़र जाने के बावजूद

हवा में टिका हुआ था हवा का पुल !

  continue reading

418 एपिसोडस

सभी एपिसोड

×
 
Loading …

प्लेयर एफएम में आपका स्वागत है!

प्लेयर एफएम वेब को स्कैन कर रहा है उच्च गुणवत्ता वाले पॉडकास्ट आप के आनंद लेंने के लिए अभी। यह सबसे अच्छा पॉडकास्ट एप्प है और यह Android, iPhone और वेब पर काम करता है। उपकरणों में सदस्यता को सिंक करने के लिए साइनअप करें।

 

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका