Artwork

Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
Player FM - पॉडकास्ट ऐप
Player FM ऐप के साथ ऑफ़लाइन जाएं!

Dharti ka Shaap | Anupam Singh

2:27
 
साझा करें
 

Manage episode 408504849 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

धरती का शाप | अनुपम सिंह

मौत की ओर अग्रसर है धरती

मुड़-मुड़कर देख रही है पीछे की ओर

उसकी आँखें खोज रही हैं

आदिम पुरखिनों के पद-चिह्न

उन सखियों को खोज रही हैं

जिनके साथ बड़ी होती

फैली थी गंगा के मैदानों तक

उसकी यादों में घुल रही हैं मलयानिल की हवाएँ

जबकि नदियाँ मृत पड़ी हैं

उसकी राहों में

नदियों के कंकाल बटोरती

मौत की ओर अग्रसर है धरती

वह ले जा रही है अपने बचे खुचे पहाड़

अपने बटुए में रख लिये जंगल और घास के मैदान

अपनी बची हुई सारी चिड़ियाएँ

उड़ा रही है तुम्हारे बन्द पिंजड़े से

झील-झरना-ताल-तलैया—

सब रख लिया है अपने लोटे में

पेड़ों को कंधे पर रख

अपना सारा बीज बटोर

मौत की ओर अग्रसर है धरती

गरीबचंद की बेटियाँ झुकी हुई हैं निवेदन में

उसे रोकती,

बुहार रही हैं उसकी राह

जबकि उसके महान पुत्र

उसके तारनहार

अब भी चिमटे हैं उसकी छाती से

यदि अन्तिम क्षण भावुक नहीं हुई वह

जैसे माँएँ होती हैं

तो माफ़ नहीं करेगी

पलटकर शाप देगी धरती।

  continue reading

417 एपिसोडस

Artwork
iconसाझा करें
 
Manage episode 408504849 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

धरती का शाप | अनुपम सिंह

मौत की ओर अग्रसर है धरती

मुड़-मुड़कर देख रही है पीछे की ओर

उसकी आँखें खोज रही हैं

आदिम पुरखिनों के पद-चिह्न

उन सखियों को खोज रही हैं

जिनके साथ बड़ी होती

फैली थी गंगा के मैदानों तक

उसकी यादों में घुल रही हैं मलयानिल की हवाएँ

जबकि नदियाँ मृत पड़ी हैं

उसकी राहों में

नदियों के कंकाल बटोरती

मौत की ओर अग्रसर है धरती

वह ले जा रही है अपने बचे खुचे पहाड़

अपने बटुए में रख लिये जंगल और घास के मैदान

अपनी बची हुई सारी चिड़ियाएँ

उड़ा रही है तुम्हारे बन्द पिंजड़े से

झील-झरना-ताल-तलैया—

सब रख लिया है अपने लोटे में

पेड़ों को कंधे पर रख

अपना सारा बीज बटोर

मौत की ओर अग्रसर है धरती

गरीबचंद की बेटियाँ झुकी हुई हैं निवेदन में

उसे रोकती,

बुहार रही हैं उसकी राह

जबकि उसके महान पुत्र

उसके तारनहार

अब भी चिमटे हैं उसकी छाती से

यदि अन्तिम क्षण भावुक नहीं हुई वह

जैसे माँएँ होती हैं

तो माफ़ नहीं करेगी

पलटकर शाप देगी धरती।

  continue reading

417 एपिसोडस

सभी एपिसोड

×
 
Loading …

प्लेयर एफएम में आपका स्वागत है!

प्लेयर एफएम वेब को स्कैन कर रहा है उच्च गुणवत्ता वाले पॉडकास्ट आप के आनंद लेंने के लिए अभी। यह सबसे अच्छा पॉडकास्ट एप्प है और यह Android, iPhone और वेब पर काम करता है। उपकरणों में सदस्यता को सिंक करने के लिए साइनअप करें।

 

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका