Artwork

Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
Player FM - पॉडकास्ट ऐप
Player FM ऐप के साथ ऑफ़लाइन जाएं!

Bhatka Hua Akelapan | Kailash Vajpeyi

2:51
 
साझा करें
 

Manage episode 377418852 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

भटका हुआ अकेलापन - कैलाश वाजपेयी

यह अधनंगी शाम और

यह भटका हुआ

अकेलापन

मैंने फिर घबराकर अपना शीशा तोड़ दिया।

राजमार्ग—कोलाहल—पहिए

काँटेदार रंग गहरे

यंत्र-सभ्यता चूस-चूसकर

फेंके गए अस्त चेहरे

झाग उगलती खुली खिड़कियाँ

सड़े गीत सँकरे ज़ीने

किसी एक कमरे में मुझको

बंद कर लिया फिर मैंने

यह अधनंगी शाम और

यह चुभता हुआ

अकेलापन

मैंने फिर घबराकर अपना शीशा तोड़ दिया।

झरती भाँप, खाँसता बिस्तर, चिथड़ा साँसें

उबकाई

धक्के देकर मुझे ज़िंदगी आख़िर कहाँ

गिरा आई

टेढ़ी दीवारों पर चलते

मुरदा सपनों के साए

जैसे कोई हत्यागृह में

रह-रहकर लोरी गाए

यह अधनंगी शाम और

यह टूटा हुआ

अकेलापन

मैंने फिर उकताकर कोई पन्ना मोड़ दिया।

आई याद—खौलते जल में

जैसे बच्चा छूट गिरे।

जैसे जलते हुए मरुस्थल में तितली का पंख झरे।

चिटख़ गया आकाश

देह टुकड़े-टुकड़े हो बिखर गई

क्षण-भर में सौ बार घूमकर धरती जैसे

ठहर गई

यह अधनंगी शाम और

यह हारा हुआ

अकेलापन

मैंने फिर मणि देकर पाला विषधर छोड़ दिया।

  continue reading

335 एपिसोडस

Artwork
iconसाझा करें
 
Manage episode 377418852 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

भटका हुआ अकेलापन - कैलाश वाजपेयी

यह अधनंगी शाम और

यह भटका हुआ

अकेलापन

मैंने फिर घबराकर अपना शीशा तोड़ दिया।

राजमार्ग—कोलाहल—पहिए

काँटेदार रंग गहरे

यंत्र-सभ्यता चूस-चूसकर

फेंके गए अस्त चेहरे

झाग उगलती खुली खिड़कियाँ

सड़े गीत सँकरे ज़ीने

किसी एक कमरे में मुझको

बंद कर लिया फिर मैंने

यह अधनंगी शाम और

यह चुभता हुआ

अकेलापन

मैंने फिर घबराकर अपना शीशा तोड़ दिया।

झरती भाँप, खाँसता बिस्तर, चिथड़ा साँसें

उबकाई

धक्के देकर मुझे ज़िंदगी आख़िर कहाँ

गिरा आई

टेढ़ी दीवारों पर चलते

मुरदा सपनों के साए

जैसे कोई हत्यागृह में

रह-रहकर लोरी गाए

यह अधनंगी शाम और

यह टूटा हुआ

अकेलापन

मैंने फिर उकताकर कोई पन्ना मोड़ दिया।

आई याद—खौलते जल में

जैसे बच्चा छूट गिरे।

जैसे जलते हुए मरुस्थल में तितली का पंख झरे।

चिटख़ गया आकाश

देह टुकड़े-टुकड़े हो बिखर गई

क्षण-भर में सौ बार घूमकर धरती जैसे

ठहर गई

यह अधनंगी शाम और

यह हारा हुआ

अकेलापन

मैंने फिर मणि देकर पाला विषधर छोड़ दिया।

  continue reading

335 एपिसोडस

ทุกตอน

×
 
Loading …

प्लेयर एफएम में आपका स्वागत है!

प्लेयर एफएम वेब को स्कैन कर रहा है उच्च गुणवत्ता वाले पॉडकास्ट आप के आनंद लेंने के लिए अभी। यह सबसे अच्छा पॉडकास्ट एप्प है और यह Android, iPhone और वेब पर काम करता है। उपकरणों में सदस्यता को सिंक करने के लिए साइनअप करें।

 

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका