Artwork

Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
Player FM - पॉडकास्ट ऐप
Player FM ऐप के साथ ऑफ़लाइन जाएं!

Abhuwata Samaj | Rupam Mishra

3:19
 
साझा करें
 

Manage episode 409327135 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

अभुवाता समाज | रूपम मिश्र

वे शीशे-बासे से नहीं हरी कनई मिट्टी से बनी थीं

जिसमें इतनी नमी थी कि एक सत्ता की चाक पर मनचाहा ढाल दिया जाता

नाचती हुई एक स्त्री को अचानक कुछ याद आ जाता है

सहम कर खड़ी हो जाती है माथे के पल्‍्लू को और खींच कर

दर्द को दबा कर एक भरभराई-सी हँसी हँसती है

हमार मालिक बहुत रिसिकट हैं

हमरा नाचना उनका नाहीं नीक लगता

साथ पुराती दूसरी स्त्री भी चुप हो जाती

ये वही आखी-पाखी लड़कियाँ थीं जिनके दुख धरती की तरह थे

उसी की तरह नाच कर कुछ पल के लिए खुद को भूल जाना चाहती थीं

हालाँकि इनके नाचने से बहार नहीं लौटती

और बज़ झूरे में बादल भी घुमड़ कर नहीं बरसे कभी

ये रोतीं तो पवित्र ओस से धरती भीग जाती

छनछना कर पैर पटकरतीं तो अड़्हुल कनेर चटक कर खिल जाते

पर अब ये डरती हिरनियाँ हैं

जो कुलाँचे के लिए तरसती हैं

ये क्यों डरती हैं, बेहद डरती हैं किसी अपराध से नहीं

कभी किसी ब्याह, छठ बरही में डर भूलकर ये नाच उठती हैं

बम्बई में बैठा पति खूब गाली देता है डे

हरजाई पतुरिया की बेटी है बिना नाचे नहीं रहा जाता

फिर भी मोरनियाँ थीं जब भी कोई ननद जेठानी हुलस कर कहती

फलाने बहू बाजे पर तोहार नाच देखे बहुत दिन हो गया

फलाने बहू खुद को रोक नहीं पातीं हा

झमक कर नाच उठतीं

गाँव का कोई मनचला देवर फलाने को फोन करता

भौजी बाजे पर गजब नाचती हैं हंस कर कहता

फलाने अगिया-बैताल हो जाते

लौटने पर नचनिया की बेटी को खूब कूटने का वादा करते

'फलानेबहू की बूढ़ी माँ के साथ उनके पिता की जगह

खुद के सोने का फरमान जारी करते

साथ में सात साल की बिटिया को संस्कार देने का आदेश देते

एक अभुआता समाज कायनात की सारी बुलबुलों की गर्दन मरोड़ रहा है...!

  continue reading

417 एपिसोडस

Artwork
iconसाझा करें
 
Manage episode 409327135 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

अभुवाता समाज | रूपम मिश्र

वे शीशे-बासे से नहीं हरी कनई मिट्टी से बनी थीं

जिसमें इतनी नमी थी कि एक सत्ता की चाक पर मनचाहा ढाल दिया जाता

नाचती हुई एक स्त्री को अचानक कुछ याद आ जाता है

सहम कर खड़ी हो जाती है माथे के पल्‍्लू को और खींच कर

दर्द को दबा कर एक भरभराई-सी हँसी हँसती है

हमार मालिक बहुत रिसिकट हैं

हमरा नाचना उनका नाहीं नीक लगता

साथ पुराती दूसरी स्त्री भी चुप हो जाती

ये वही आखी-पाखी लड़कियाँ थीं जिनके दुख धरती की तरह थे

उसी की तरह नाच कर कुछ पल के लिए खुद को भूल जाना चाहती थीं

हालाँकि इनके नाचने से बहार नहीं लौटती

और बज़ झूरे में बादल भी घुमड़ कर नहीं बरसे कभी

ये रोतीं तो पवित्र ओस से धरती भीग जाती

छनछना कर पैर पटकरतीं तो अड़्हुल कनेर चटक कर खिल जाते

पर अब ये डरती हिरनियाँ हैं

जो कुलाँचे के लिए तरसती हैं

ये क्यों डरती हैं, बेहद डरती हैं किसी अपराध से नहीं

कभी किसी ब्याह, छठ बरही में डर भूलकर ये नाच उठती हैं

बम्बई में बैठा पति खूब गाली देता है डे

हरजाई पतुरिया की बेटी है बिना नाचे नहीं रहा जाता

फिर भी मोरनियाँ थीं जब भी कोई ननद जेठानी हुलस कर कहती

फलाने बहू बाजे पर तोहार नाच देखे बहुत दिन हो गया

फलाने बहू खुद को रोक नहीं पातीं हा

झमक कर नाच उठतीं

गाँव का कोई मनचला देवर फलाने को फोन करता

भौजी बाजे पर गजब नाचती हैं हंस कर कहता

फलाने अगिया-बैताल हो जाते

लौटने पर नचनिया की बेटी को खूब कूटने का वादा करते

'फलानेबहू की बूढ़ी माँ के साथ उनके पिता की जगह

खुद के सोने का फरमान जारी करते

साथ में सात साल की बिटिया को संस्कार देने का आदेश देते

एक अभुआता समाज कायनात की सारी बुलबुलों की गर्दन मरोड़ रहा है...!

  continue reading

417 एपिसोडस

सभी एपिसोड

×
 
Loading …

प्लेयर एफएम में आपका स्वागत है!

प्लेयर एफएम वेब को स्कैन कर रहा है उच्च गुणवत्ता वाले पॉडकास्ट आप के आनंद लेंने के लिए अभी। यह सबसे अच्छा पॉडकास्ट एप्प है और यह Android, iPhone और वेब पर काम करता है। उपकरणों में सदस्यता को सिंक करने के लिए साइनअप करें।

 

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका