Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
Player FM - पॉडकास्ट ऐप
Player FM ऐप के साथ ऑफ़लाइन जाएं!

Ab Wahan Ghonsle Hain | Damodar Khadse

2:46
 
साझा करें
 

Manage episode 382201806 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

अब वहाँ घोंसले हैं | दामोदर खड़से

एक सूखा पेड़

खड़ा था

नदी के किनारे विरक्त

पतझड़ की विभूति लगाए

काल का साक्षी

अंतिम घड़ियों के ख़याल में...

नदी,

वैसे अर्से से इस इलाके से

बहती है

नदी ने कभी ध्यान नहीं दिया

पेड़ के पत्ते

सूख कर

इसी नदी में बह लेते थे...

इस बरसात में जब वह जवान हुई

तब उसका किनारा

पेड़ तक पहुँचा

सावन का संदेशा पाकर

लहरों ने बाँध दिया एक झूला

पेड़ के पाँवों में...

पेड़ हरियाने लगा

उसकी भभूति धुलने लगी

और आँखों के वैराग्य ने

देखा एक छलकता दृश्य

नदी के हृदय की ऊहापोह...

भँवर...

फेनिल...

बस,

झूम कर झूमता रहा वह

अब वहाँ घोंसले हैं

चिड़ियाँ रोज चहचहाती हैं

नदी का किनारा वापस लौट भी जाए

कोई बात नहीं

-पेड़ की जड़ें

नदी की सतह में उतर चुकी हैं!

  continue reading

326 एपिसोडस

iconसाझा करें
 
Manage episode 382201806 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

अब वहाँ घोंसले हैं | दामोदर खड़से

एक सूखा पेड़

खड़ा था

नदी के किनारे विरक्त

पतझड़ की विभूति लगाए

काल का साक्षी

अंतिम घड़ियों के ख़याल में...

नदी,

वैसे अर्से से इस इलाके से

बहती है

नदी ने कभी ध्यान नहीं दिया

पेड़ के पत्ते

सूख कर

इसी नदी में बह लेते थे...

इस बरसात में जब वह जवान हुई

तब उसका किनारा

पेड़ तक पहुँचा

सावन का संदेशा पाकर

लहरों ने बाँध दिया एक झूला

पेड़ के पाँवों में...

पेड़ हरियाने लगा

उसकी भभूति धुलने लगी

और आँखों के वैराग्य ने

देखा एक छलकता दृश्य

नदी के हृदय की ऊहापोह...

भँवर...

फेनिल...

बस,

झूम कर झूमता रहा वह

अब वहाँ घोंसले हैं

चिड़ियाँ रोज चहचहाती हैं

नदी का किनारा वापस लौट भी जाए

कोई बात नहीं

-पेड़ की जड़ें

नदी की सतह में उतर चुकी हैं!

  continue reading

326 एपिसोडस

همه قسمت ها

×
 
Loading …

प्लेयर एफएम में आपका स्वागत है!

प्लेयर एफएम वेब को स्कैन कर रहा है उच्च गुणवत्ता वाले पॉडकास्ट आप के आनंद लेंने के लिए अभी। यह सबसे अच्छा पॉडकास्ट एप्प है और यह Android, iPhone और वेब पर काम करता है। उपकरणों में सदस्यता को सिंक करने के लिए साइनअप करें।

 

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका