Interviews सार्वजनिक
[search 0]
अधिक

Download the App!

show episodes
 
ये है नई धारा संवाद पॉडकास्ट। ये श्रृंखला नई धारा की वीडियो साक्षात्कार श्रृंखला का ऑडियो वर्जन है। इस पॉडकास्ट में हम मिलेंगे हिंदी साहित्य जगत के सुप्रसिद्ध रचनाकारों से। सीजन 1 में हमारे सूत्रधार होंगे वरुण ग्रोवर, हिमांशु बाजपेयी और मनमीत नारंग और हमारे अतिथि होंगे डॉ प्रेम जनमेजय, राजेश जोशी, डॉ देवशंकर नवीन, डॉ श्यौराज सिंह 'बेचैन', मृणाल पाण्डे, उषा किरण खान, मधुसूदन आनन्द, चित्रा मुद्गल, डॉ अशोक चक्रधर तथा शिवमूर्ति। सुनिए संवाद पॉडकास्ट, हर दूसरे बुधवार। Welcome to Nayi Dhara Samvaa ...
 
Interview of the people who have excelled in their field with their dedication, devotion and determination. In this podcast channel you might listen to writers, poets, doctors, teachers, professors, business professionals, psychologists, coaches etc who have started with several difficulties but at the end they got what they really dreamt of. Every guest has something unique to share which can ignite some sparks in you as well. While taking the interview I have a learnt a lot from each of th ...
 
Kahani Jaani Anjaani is a Hindi Stories (kahaani) podcast series narrated by theatre and voiceover artist, Piyush Agarwal. Following the mission of making sure no stories get lost he takes you to the world of Beautiful Hindi narrations & emotions. So stay tuned for new and old Hindi stories - every Friday! His weekly dramatized narrations of lesser known stories from popular authors like Premchand, Bhishm Sahani, Mannu Bhandari, Rabindranath Tagore along with curated stories by new-age hindi ...
 
फ़िल्मी दुनिया की दिलचस्प कहानियां, वो किस्से जो आपने अब तक नहीं सुने होंगे। तो देखिए सिनेमा, सुनिए किस्से। THE BOLLYWOOD RADIO सुनता है सारा इंडिया
 
𝗪𝗲𝗮𝘃𝗶𝗻𝗴 𝗦𝘁𝗼𝗿𝗶𝗲𝘀 in such a unique way that keep you Glued to your seat! A 𝗙𝗶𝗰𝘁𝗶𝗼𝗻 𝗣𝗼𝗱𝗰𝗮𝘀𝘁 Show Created & Produced by Ajay Tambe. Enjoy 3 Dimensional 𝗦𝘁𝗼𝗿𝘆𝘁𝗲𝗹𝗹𝗶𝗻𝗴 𝗘𝘅𝗽𝗲𝗿𝗶𝗲𝗻𝗰𝗲! Listen free audio Stories : 1. Popular Fiction Stories 2. Original Storie 3. Sponsored Audio Stories 4. Audio dramas Get immersed in the world of Characters In Top 100 Podcasts : Great Britain Canada , Portugal , Netherlands , India, Japan , UAE . Follow us : @podcastaudios Connect : https://creativeaudios.in Streaming in ...
 
H
Heart2Heart TALK

1
Heart2Heart TALK

kumar ABHISHEK upadhyay (Podcast)

Unsubscribe
Unsubscribe
मासिक+
 
Hi ! I am Kumar Abhishek, your host and friend on Anchor FM Podcast, who brings you "Heart to Heart Talk" which has some interesting tidbits for you to listen to, I share some poems, songs, interviews and inspiring stories. I keep doing You. नमस्ते ! मैं कुमार अभिषेक, आपका मेजबान और एंकर एफएम पॉडकास्ट पर दोस्त हूं, जो आपके लिए "हार्ट टू हार्ट टॉक" लेकर आया है, जिसमें कुछ दिलचस्प बातें हैं, कि आप इसे सुनें, मैं कुछ कविताओं, गीतों, साक्षात्कारों और प्रेरक कहानियों को साझा करता रहता हूं। Suppor ...
 
✅inkpaper&story , चैनल एक ऐसा चैनल है जो आपको आपके जीवन में आगे बढ़ने में सहायता करेगा। इसपे आप Motivation /Inspirational/Talks show/Interviews/Health/life/leadership जैसी बहुत सी बातें सीखेंगे। ✅ यहाँ हम जो भी बात करते है वह सीधे कही न कही हमारी लाइफ से जुडी होती है। दोस्तों हमे एक ही लाइफ मिली है इसमे हम क्या करते है यह बहुत मायने रखता है। इस चैनल पर आप कुछ सीखेंगे तो वह है अपने लाइफ को कैसे जीना है उसके बारे मे। ✅ डिसिप्लिन यानि अनुशासन (Discipline tips) जीना , खुश रहना और कुछ अच्छा करना ...
 
"सेल्स का तड़का" हिंदी भाषा में बिक्री पर सूचनात्मक पॉडकास्ट है। आप इसकी बी 2 बी या बी 2 सी बिक्री के बारे में सब कुछ जानेंगे। यह पॉडकास्ट उद्योग के प्रतिष्ठित मेहमानों का साक्षात्कार करेगा, जिसमें उन्होंने यह समझा होगा कि उन्होंने इसे बिक्री करियर में कैसे बनाया, कैसे वे प्रतिकूल परिस्थितियों और सफलता के लिए अपने मंत्र के साथ आगे बढ़ते हैं, जो हमें बिक्री और बिक्री प्रबंधन पर अधिक अंतर्दृष्टि प्राप्त करने में मदद करेगा।"सेल्स का तड़का" न केवल आपको अपने कौशल को सुधारने में मदद करेगा, बल्कि ब ...
 
Loading …
show series
 
राजेश खन्ना शुरू से ही काफी रिजर्व नेचर के थे. किसी से बहुत जल्दी नहीं घुलते थे. लेकिन उनके बारे में मशहूर था कि वो बड़े दिलवाले थे. जिसके ढेरों उदाहरण हैं.
 
साल 1990 में मूवी मैगज़ीन को दिए राजेश खन्ना के इंटरव्यू के अंश. जिसमें काका ने दिल खोल कर अपनी बात कही.
 
भरत ने चीन-ताइवान मुद्दे पर अभी तक आगे आ कर कुछ ठोस नहीं कहा है। माना जा रहा है कि अगर ये मुद्दा और आग पकड़ता है तो हमें शायद एक और "यूक्रेन-रूस" देखने मिल सकता है।इस विषय पर भारत का रवैया कैसा होना चाहिए... इसी पर है हमारी आज की पुलियाबाज़ी। ये हमारी नई कोशिश "एक सवाल, कई जवाब" का एक और अंक है। इस बार का सवाल है- "ताईवान मुद्दे पर भारत का रवैया क्या…
 
Rajesh Khanna के साथ जिन लोगों ने वक्त बिताया है वो सब राजेश खन्ना को एक मूडी इंसान कहते हैं. पटकथा लेखक सलीम खान कहते हैं कि आप राजेश खन्ना के बारे में ये पता नहीं लगा सकते कि वो अगले पल क्या करेंगे.
 
उन दिनों रेखा बहुत फिल्में साइन कर रही थीं. साल 1978 में रेखा की कुल 14 फिल्में रिलीज़ हुईं. इनमें से ज्यादातर के नाम भी आज किसी को याद नहीं. लेकिन इसी दौर में आई एक फिल्म घर ने सभी का ध्यान अपनी ओर खींच लिया.
 
हेमा मालिनी, जितेंद्र और महमूद साथ में एक फिल्म कर रहे थे वारिस. इस फिल्म में एक गाना है रॉक एंड रोल. इस गाने के बोल पर डांस करते हुए हेमा मालिनी बहुत असहज हो रही थीं लेकिन तभी महमूद ने कभी न भूलने वाली सलाह दी.
 
राजेश खन्ना अपने आखिरी दिनों में मुंबई में ही रहने लगे थे. बिल्कुल अकेले. उन दिनों काका के साथ उनके दोस्त का बेटा हर्ष रसीन रहता था जो कि मुंबई में फिल्म इंडस्ट्री में स्ट्रगल कर रहा था. काका के साथ गुजरे दो सालों का किस्सा हर्ष ने बताया.
 
राजेश खन्ना और अनीता आडवाणी का रिश्ता सुर्खियों में हमेशा रहा और इस बात से अनीता जितनी खुश होतीं काका उतना ही नाराज होते थे. अनीता आडवाणी खुद को राजेश खन्ना की पत्नी बताती थीं मगर काका ने कभी कुछ नहीं कहा.
 
राजेश खन्ना की सबसे बड़ी खासियत ये थी कि वो खुद से बहुत प्यार करते थे. एक बार अपने दोस्त भूपेश रसीन के बेटे हर्ष रसीन के साथ अपने बंगले आशीर्वाद के थिएटर में अमर प्रेम देखकर राजेश खन्ना खुश हो गए थे. बोले - बहुत खूब राजेश!
 
राजेश खन्ना उन दिनों दिल्ली में रहा करते थे. एक दिन पता चला कि घर में काम करने वाली नौकरानी परेशान है उसकी बहन की सर्जरी होनी है. राजेश खन्ना को पता चला तो रात एक बजे मदद करने के लिए निकल पड़े.
 
राजेश खन्ना को जब लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड मिला तो लगा कि अब वो अपनी फिल्मी पारी जी चुके हैं. आइफा का लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड तो खुद अमिताभ बच्चन ने ही राजेश खन्ना को दिया.
 
ढूंढिए अपने मन में छुपे चोर को , डॉ विनोद शाही जी कि लिखी 'अंतरात्मा का चोर' के साथ | Lets find that hidden us inside us, with 'Antaratma ka chor' by Dr Vinod Shahi Ji. If you like the stories of Kahani Jaani Anjaani, please do leave us a review on Apple Podcasts. You can also write to us ahello@piyushagarwal.com and to contribute to our self funde…
 
राजेश खन्ना अपने आखिरी दिनों में बहुत अकेले हो गए थे. परिवार और फिल्म इंडस्ट्री दोनों ही साथ नहीं दे रहे थे. राजेश खन्ना फिल्मों में काम करना चाहते थे मगर उनके पास अच्छी फिल्में भी नहीं थीं. उनके पास सिर्फ अकेलापन था.
 
राजेश खन्ना नई दिल्ली सीट से सांसद तो बन गए थे मगर राजीव गांधी की हत्या के बाद उनकी सियासत ढलने लगी थी. 1996 का लोकसभा चुनाव हारने के बाद कांग्रेस ने काका को राज्यसभा भेजने से मना कर दिया. राजेश खन्ना फिर उम्मीदों का पहाड़ लेकर बंबई पहुंचे.
 
राजेश खन्ना चुनाव तो जीत गए थे मगर राजीव गांधी की हत्या के बाद कांग्रेस बदल चुकी थी. उनकी हैसियत एक सांसद से ज्यादा कुछ नहीं थी. अमिताभ बच्चन अभी भी गांधी परिवार के करीबी बने हुए थे. ये बात राजेश खन्ना को खटकती थी
 
भारत के श्रम कानूनों को कैसे बेहतर बनाया जाए, इसी विषय पर चर्चा भूवना आनंद के साथ। In this episode, Bhuvana Anand, co-founder and director of Trayas, explains how well-meaning laws often create barriers to employment. She also discusses laws that specifically exclude women’s employment. We discuss some reform trajectories. Read more: State of Discr…
 
राजेश खन्ना बीजेपी के लाल कृष्ण आडवाणी से 1991 का लोकसभा चुनाव हारने के बाद इसी सीट से होने वाले उप चुनाव में बीजेपी के शत्रुघ्न सिन्हा से आमना सामना कर रहे थे. इसी दौरान एक डीसीपी ने काका की ठन गई.
 
लाल कृष्ण आडवाणी और राजेश खन्ना के बीच 1991 के चुनाव में मुकाबला कड़ा था. जब वोटों की गिनती शुरू हुई तो सातवें राउंड तक राजेश खन्ना बीजेपी के कद्दावर नेता आडवाणी पर भारी रहे. फिर अचानक बाजी पलट गई. राजेश खन्ना बीजेपी के लाल कृष्ण आडवाणी से चुनाव हार गए.
 
साल 1991 का चुनाव राजेश खन्ना बीजेपी के लाल कृष्ण आडवाणी से हार गए थे. हालांकि ये अंतर बहुत मामूली था. लाल कृष्ण आडवाणी दो सीट से चुनाव लड़े थे. लिहाजा उन्होंने नई दिल्ली सीट से इस्तीफा देकर गुजरात की गांधीनगर सीट को चुना. राजेश खन्ना को उप चुनाव में फिर मौका मिला, इस बार काका का मुकाबला शत्रुघ्न सिन्हा से था.…
 
राजेश खन्ना के दिल्ली में चुनाव प्रचार का आखिरी दिन था. इस दिन चुनाव प्रचार के लिए डिंपल कपाड़िया और बेटी ट्विंकल खन्ना भी आई थीं. राजेश खन्ना ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस रखी. जिसमें डिंपल कपाड़िया तो कुछ नहीं बोलीं मगर ट्विंकल ने खूब जवाब दिया.
 
राजेश खन्ना राजधानी दिल्ली की नई दिल्ली सीट से लाल कृष्ण आडवाणी के सामने चुनाव मैदान में थे. उनकी चुनावी रैलियों में खूब भीड़ नज़र आती, इनमें ज्यादातर महिलाएं हुआ करती थीं. लेकिन दिल्ली की मीडिया से काका खुश नहीं थे.
 
सियासत में उतरने पर राजेश खन्ना के आसपास फिर वही भीड़ लगने लगी थी जो कभी गोल्डन पीरियड में हुआ करती थी. काका का मुकाबला लाल कृष्ण आडवाणी से था. दिल्ली से ज्यादा राजेश खन्ना के बंबई दफ्तर में भीड़ जमा थी. कद्रदान अब कार्यकर्ता में बदल गए थे.
 
फिल्मी करियर में ढलान के बाद राजेश खन्ना ने सियासत का रुख किया. कांग्रेस के टिकट पर काका ने नई दिल्ली सीट से पर्चा भरा. राजीव गांधी ही राजेश खन्ना को राजनीति में लेकर आए. लेकिन सियासत काका को रास नहीं आई.
 
90 के दशक में मूवी मैगज़ीन ने राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन का एक इंटरव्यू किया. उस दौर में इसे असंभव माना जाता था मगर ये हुआ. इस इंटरव्यू में राजेश खन्ना दिल से बोले थे और अमिताभ बच्चन दिमाग से.
 
मीना कुमारी अगर आज जिंदा होतीं तो 89 साल की होतीं. महज 36 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया. मीना कुमारी के करियर की आखिरी फिल्म पाकीजा थी। 16 जुलाई 1956 को शुरू हुई फिल्म जब 4 फरवरी 1972 को रिलीज हुई। इस फिल्म को बनाने में लगे इतने वक्त के पीछे की वजह मीना कुमारी और कमाल के बीच की अनबन थी। वैसे तो फिल्म पाकीजा से जुड़े इतने किस्से हैं कि उन…
 
राजेश खन्ना ने नब्बे के दशक में अपनी पत्नी डिंपल कपाड़िया के साथ एक फिल्म बनाई. नाम था - जय शिव शंकर. हालांकि ये फिल्म कभी रिलीज़ नहीं हुई. इन्हीं दिनों एक फिल्म मैगज़ीन ने अमिताभ बच्चन और राजेश खन्ना का साथ में इंटरव्यू करने का जोखिम उठाया.
 
राजेश खन्ना का सितारा तब तक डूबने लगा था. सलमान खान, कुमार गौरव, संजय दत्त, आमिर खान जैसे सितारे चमक रहे थे. एक दिन निराश राजेश खन्ना अचानक 17 साल बाद अंजू महेंद्रू से मिलने पहुंचे.
 
अपने समकालीन कलाकारों से प्रतिद्वंद्विता होना सामान्य बात है. कई बार ये सब चीजें फिल्मी मैगज़ीन के जरिए भी की जाती हैं. ऐसी ही बातें मोहम्मद रफी और किशोर कुमार के बीच होती थी. ये तुलना की जाती कि दोनों में बड़ा गायक कौन है? फिर अचानक एक दिन रफी साहब ने गाना छोड़ दिया.
 
राजेश खन्ना और टीना मुनीम की फिल्म सौतन कामयाब रही थी. डायरेक्टर सावन कुमार ने एक बार फिर राजेश खन्ना और टीना मुनीम को लेकर फिल्म सौतन की बेटी बनाने का फैसला लिया. दोनों ने फिल्म साइन कर ली. कुछ हिस्से शूट भी हुए मगर तभी काका और टीना का ब्रेकअप हो गया. बाद में ये फिल्म जितेंद्र और जया प्रदा को लेकर बनाई गई.…
 
राजेश खन्ना और डिंपल कपाड़िया ने तब तक तलाक तो नहीं लिया था लेकिन दोनों अब अलग अलग रहने लगे थे. राजेश खन्ना की फिल्में लगातार फ्लॉप हो रही थी. इन्हीं दिनों डिंपल कपाड़िया ने फिल्म में उतरने का एलान कर दिया. फिल्म थी बॉबी के हीरो ऋषि कपूर के साथ सागर.
 
Happy Birthday Sanjay Dutt: संजय दत्त के अफेयर्स के किस्से | Tina Munim | Rekha | Manyta Dutt Sanjay Dutt Birthday: बॉलीवुड इंडस्ट्री के हैंडसम और स्टाइलिश एक्टर्स में से एक संजय दत्त 29 जुलाई के दिन 63 साल के हो गए हैं। अभिनेता की फिटनेस देखकर उनकी उम्र का अंदाजा लगाना काफी मुश्किल है। संजय दत्त हमेशा से ही अपनी प्रोफेशनल के साथ-साथ पर्सनल लाइफ के…
 
क्या उपहार लेगा हामिद ईद की खुशी में, जानिये मुंशी प्रेमचंद की लिखी बहुचर्चित रचना ईदगाह में | What gift will Hamid buy on the occassion of Eid, Listen to the popular story by Munshi Premchand. If you like the stories of Kahani Jaani Anjaani, please do leave us a review on Apple Podcasts. You can also write to us ahello@piyushagarwal.com and to con…
 
राजेश खन्ना का कम बैक कुछ खास नहीं रहा. सौतन, अवतार के अलावा बाकी फिल्में अपना असर छोड़ने में नाकामयाब रहीं. इस बीच राजेश खन्ना ने खुद फिल्म बनाने का फैसला किया. ये फिल्म थी - अलग अलग.
 
राजेश खन्ना ने सौतन और अवतार के रूप में दो अच्छी फिल्मों के साथ कम बैक किया. लेकिन पुरानी गलतियों से सबक न लेते हुए राजेश खन्ना ने एक बार फिर खूब फिल्में साइन करनी शुरू कर दी. राजेश खन्ना की 1983-84 में 19 फिल्में रिलीज़ हुई.
 
साल 1984 में राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन की दो फिल्में रिलीज़ हुईं. अमिताभ की इंकलाब और राजेश खन्ना की आज का एमएलए दोनों साथ में रिलीज़ के लिए तैयार थीं. लेकिन अमिताभ बच्चन पर ये आरोप लगा कि उन्होंने अपने राजनीतिक रसूख का फायदा उठाते हुए अपनी फिल्म सेंसर बोर्ड से पास करवाई है.
 
जब राजेश खन्ना ने तीन सुपरहिट फिल्मों के साथ कम बैक किया तो अचानक से अमिताभ बच्चन की तीन फिल्में संयोग से फ्लॉप हो गई. राजेश खन्ना खुश थे लेकिन अमिताभ बेचैन हो गए. इस बीच मीडिया में राजेश खन्ना बराबर अमिताभ बच्चन पर तंज कसते रहते.
 
Rajesh Khanna अपनी फिल्म सौतन की कामयाबी से बहुत खुश थे. उनका स्टारडम लौट आया था. इसी साल आई अवतार ने भी कामयाबी के झंडे गाड़े. लेकिन इस कामयाबी के पीछे राजेश खन्ना ने टीना मुनीम को एक बड़ी वजह बताया.
 
हाल ही में खबर आई थी कि 2021 में 1 लाख 60 हज़ार भारतीयों ने नागरिकता त्याग दी। देखा जाए तो ये कहानी पहली बार नहीं दोहराई जा रही। एमिग्रशन एक सत्य है और ऐसे विषय पर सौरभ और प्रणय की पुलियाबाज़ी तो बनती है। ये हमारी नई कोशिश "एक सवाल, कई जवाब" का एक और अंक है। इस बार का सवाल है- "क्या एमिग्रशन से भारत का नुक़सान हो रहा है?" Recently there was news that …
 
करीब दस साल साथ रहने के बाद डिंपल कपाड़िया ने राजेश खन्ना का घर आशीर्वाद छोड़ दिया. डिंपल कपाड़िया अभी जवान थीं, उनके पास फिल्मों के ऑफर थे. लेकिन उनका घर छोड़ना राजेश खन्ना को परेशान कर रहा था.
 
फिल्म सौतन की शूटिंग के दौरान ही डिंपल कपाड़िया ने राजेश खन्ना को छोड़ने का तय कर लिया. इसके पीछे दो वजहें बताई गईं. एक तो राजेश खन्ना टीना मुनीम के काफी करीब आ गए थे और दूसरा ये कि डिंपल कपाड़िया ने फिल्मों में काम करने की ख्वाहिश छोड़ी नहीं थी. मनोज कुमार का एक ऑफर अभी भी उनके पास पड़ा था.
 
Rajesh Khanna अपने करियर की ढलान में आते आते काफी बदल चुके थे. ऐसा फिल्म सौतन के डायरेक्टर सावन कुमार को लगता था. लेकिन जब मॉरिशस के एक होटल में राजेश खन्ना ने शराब पीने के बाद गालियाँ देने शुरू की तो सावन कुमार को भी गुस्सा आ गया. प्राण ने बीच बचाव किया. तब कहीं जाकर ये झगड़ा शांत हुआ.
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका

Google login Twitter login Classic login