show episodes
 
फ़िल्मी दुनिया की दिलचस्प कहानियां, वो किस्से जो आपने अब तक नहीं सुने होंगे। तो देखिए सिनेमा, सुनिए किस्से। THE BOLLYWOOD RADIO सुनता है सारा इंडिया
 
सिनेमा हमारे जीवन की एक ऐसी प्रतिध्वनि है जो जीवन से सीख कर फिर उसे समझने और समझाने की प्रक्रिया उजागर करती है | हँसते, खिल-खिलाते, रोते, बूझते, लड़ाईयों और प्यार के बीच कहानियों और संवेदनाओं का यह पिटारा हमारे देश को १०० से भी अधिक वर्षों से बांधे हुए है | मनुष्य के संघर्षों और सोच को दर्शाने वाला यह माध्यम हर किसी का अपना निजी इतिहास बयान करता है| कहानियों और उनसे निकलने वाली सोच हर घर में चाय की चुस्की और समोसे के स्वाद में भर जाती हैं और हम सब किसी न किसी बहाने उनके होने वाले असर पर चर्चा ...
 
Ek Kahaani Aisi Bhi is an internationally acclaimed series of spine chilling original ghost stories. The stories are so impactful and real that one can visualise the incidents happening in front of their eyes thanks to the extremely powerful narration by RJ Praveen and the sound effects and background score used. List of acclaims- New York Festival award for Best Innovation in 2015 & 2016, New York Festival finalist for Best Narration & ACEF Award for Creativity.
 
Shudh Desi Chai is a fortnightly fun conversational podcast, where our hosts Himannshu Sharma & Chef Harpal Singh Sokhi sit across with some amazing guests to have amazing conversations and where they share some interesting facts about food & nutrition with their listeners. शुद्ध देसी चाय एक मजेदार संवादात्मक पॉडकास्ट है, जहां हिमांशु शर्मा और हरपाल सिंह सोखी अपने मेहमानों के साथ कुछ अद्भुत और सार्थक बातचीत करते हैं और जहां वे अपने श्रोताओं के साथ भोजन और पोषण के बारे में कुछ रोचक तथ्य साझा ...
 
B
Bhailu

1
Bhailu

Red FM

Unsubscribe
Unsubscribe
मासिक
 
Bhailu: Bhailu is a character who is a PJ Master, he can connect to anything and everything and he always has a PJish take on any situation or person. Bhailu takes out 2 meanings out of one word or a sentence, though the most decent double meanings.
 
S
Shendi

1
Shendi

Red FM

Unsubscribe
Unsubscribe
मासिक
 
Shendi is the greatest equalizer! From Bollywood superstars to their Jabra fans, from business tycoons to their drivers, from doctors to their patients no matter who you are and where you come from; If you have a phone, you are a prospective target of Red FM’s Kaan Phaad ‘Abhilash’! One of the most versatile voices of all time, effortlessly gets into the skin of a plethora of characters, while he pranks unsuspecting innocent mortals and pushes them to the limit of believing that their world ...
 
He is your friendly neighbourhood bhai! Known as Sabka Bhai, Mawali Bhai, The flamboyant bhai has an interesting perspective on everything under the Sun! With the voice that never fails to tickle the funny bone, Mawali Bhai’s power packed punch lines are the perfect remedy to any dull moment. When Bhai talks, the world listens, laughs and sometimes ponders on the message he hit you with a humour coated bullet. Mawali bhai is also known for his ability to link conventionally un-linkable objec ...
 
मिंग राजवंश के लेखक वू छङअन की रचना《पश्चिम की तीर्थयात्रा》चीन का एक प्रसिद्ध पौराणिक उपन्यास है, जिसमें थांग राजवंश के धर्माचार्य सानचांङ (ह्वेनसांग) और उसके तीन शिष्यों यानी वानर, शूकर तथा भिक्षु रेतात्मा के उस समय के साहसिक कार्यों का चित्रण है, जब बौद्धिक सूत्रों की खोज के लिए उन्होंने पश्चिम की तीर्थयात्रा की थी। 《पश्चिम की तीर्थयात्रा》का हिंदी संस्करण चीनी संस्कृति प्रेमियों को एक मंच प्रदान करता है।
 
Kisi bhi ladki ke liye uski shaadi me sabse zyada zaroori hota hai uska wedding lehenga...phir chaahe wo koi actress hi kyu na ho...aaiye aaj hum is video me baat karte hai bollywood actress ke expensive and gorgeous wedding lehenge ke baare me...ki kis actress ne kya pehna tha aur wo wedding outfit ki price kya hai. Number 1 : Aishwarya Rai Bachchan Aishwarya rai bachchan is list me sabse top par hai...unka wedding outfit sabse mehenga tha...aish ka wedding outfit ka price tha 75 lakhs...je ...
 
c
chubhan.today

1
chubhan.today

Bhawana Ghai

Unsubscribe
Unsubscribe
साप्ताहिक
 
मेरी कोशिश रहेगी कि मैं अच्छे से अच्छे और चुभते हुए विषयो को उठाऊं और उनपर विशेषज्ञ लोगों से बात कर अपने श्रोताओं तक पहुंचाऊं।मेरे कार्यक्रमों को सुनकर नीचे वेबसाइट के लिंक को क्लिक कर ब्लॉग पर जाना न भूलें और वहां संबंधित पोस्ट पर अपने सुझाव और प्रतिक्रिया अवश्य दें। डॉ. भावना घई
 
Loading …
show series
 
स्टार टैलेंट हंट जीतने के बाद भी राजेश खन्ना को कोई काम नहीं मिला. काफी संघर्ष के बाद रमेश सिप्पी के पिता जीपी सिप्पी ने अपनी फिल्म राज़ के लिए राजेश खन्ना को कास्ट करते हुए कहा कि ये एक दिन बड़ा स्टार बनेगा.
 
भावना सोमाया की किताब 'हेमा मालिनी - एक अनकही कहानी' में भूमिका लिखते हुए गुलज़ार साहब हेमा मालिनी के साथ साए की तरह रहने वाली शांता आंटी का किस्सा सुनाते हैं. जिन्हें वो कैप्टन आंटी कहते थे.
 
कान्स फिल्म फेस्टिवल (2022 Cannes Film Festival)... ये नाम सुनते ही सामने उकरता है रेड कार्पेट, उस पर एक से बढ़कर एक खूबसूरत ड्रेसेस पहनकर चलती हसीनाएं... उन्हें कैमरे में कैद करने के लिए खड़े ढेर सारे फोटोग्राफर्स। कुछ ऐसी ही इमेज आपके भी दिमाग में बनती होगी! लेकिन सालों पहले ऐसा नहीं था। पहले कान्स फिल्म फेस्टिवल का मतलब होता था, अच्छी फिल्में। त…
 
खिलाड़ियों के पास न बैटिंग पिच, न बॉल की रफ्तार मापने की मशीन: U-19 क्रिकेटर ने बताई समस्याएंद्वारा The Quint
 
फिल्म पत्रकार भावना सोमाया की किताब 'हेमा मालिनी - एक अनकही कहानी' की भूमिका गुलज़ार साहब ने लिखी है. इसमें हेमा के साथ अपने अनुभवों को साझा करते हुए गुलज़ार ने हेमा के मजबूत व्यक्तित्व का वर्णन किया है.
 
राजेश खन्ना का बचपन बहुत ही लाड प्यार से बीता था. राजेश खन्ना के पिता चुन्नीलाल खन्ना रेलवे में कॉन्ट्रेक्टर थे और कॉटन सप्लाई किया करते थे. बहुत संघर्ष के बाद उन्होंने ये दर्जा हासिल किया था. लेकिन काक बचपन से ही जिद्दी थे जिसकी हर मांग पूरी होती थी.
 
राजेश खन्ना बचपन गिरग्राम बंबई में बीता, राजेश खन्ना अपने माँ बाप की इकलौती संतान थे मगर वो राजेश खन्ना के असली माँ बाप नहीं थे. चुन्नीलाल खन्ना ने राजेश खन्ना को गोद लिया था.
 
राजेश खन्ना तब तक सुपरस्टार बन चुके थे. अंजू महेंद्रू के साथ पांच साल से अधिक का समय हो चुका था. लेकिन अब शायद दोनों के लिए ही एक दूसरे के लिए समय नहीं था.
 
राजेश खन्ना की जिंदगी का किस्सा सुनाते हुए सलीम खान कहते हैं कि काका बहुत दरियादिल थे. अपने दोस्तों को तोहफे में गाड़ी और घर तक दे दिया करते थे.
 
साल 1969 से लेकर 1975 तक पूरे देश में राजेश खन्ना की चर्चा थी. फैंस राजेश खन्ना की एक झलक पाने को बेचैन रहते. मशहूर स्क्रीन प्ले राइटर सलीम खान कहते हैं कि बेशक आज मेरा बेटा सलमान खान बड़ा स्टार है, हमारे घर के बाहर उसकी एक झलक पाने के लिए लोगों की भीड़ जुटती है मगर फिर भी लोगों का ये जुनून वैसा नहीं है जैसा राजेश खन्ना को लेकर था.…
 
साल 1971 में रिलीज हुई सुपरहिट फिल्म 'आनंद' को आज 51 साल पूरे हो गए हैं। फिल्म में दिवंगत अभिनेता राजेश खन्ना (Rajesh Khann) और महानायक अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) ने लीड रोल में काम किया था। फिल्म 'आनंद' बेहद भावुक कर देने वाली फिल्म थी। कैंसर के मरीज की जिंदगी पर आधारित इस फिल्म को जिसने भी देखा होगा, वो रोया जरूर होगा। इस फिल्म को देखते हुए …
 
राजेश खन्ना और अंजू महेंद्रू ने एक साथ ही थिएटर करना शुरू किया था. अंजू फिल्म इंडस्ट्री से अच्छी तरह वाकिफ थीं. उनका परिवार फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ा हुआ था जबकि राजेश खन्ना खांटी पंजाबी फैमिली से ताल्लुक रखते थे.
 
राजेश खन्ना और अंजू महेंद्रू की दोस्ती बहुत पुरानी थी, दोनों स्ट्रगल के शुरुआत दिनों में मिले थे. तब राजेश खन्ना थिएटर किया करती थी. अंजू भी स्ट्रगल कर रही थीं. एक रोज़ बंबई के नामी रेस्टोरेंट में एक डायरेक्टर ने राजेश खन्ना को मिलने के लिए बुलाया. होटल के बाहर राजेश खन्ना खड़े ही थे कि तभी उनकी नज़र एक खूबसूरत लंबे बालों वाली लड़की पर पड़ी. संयोग …
 
तब राजेश खन्ना बचपन से जवानी की तरफ कदम बढ़ा रहे थे, उन्हीं दिनों उनकी दोस्ती थिएटर से हो रही थी. तभी एक रोज़ अचानक राजेश खन्ना को एक रोल ऑफर हुआ, इसमें सिर्फ एक डायलॉग बोलना था, राजेश खन्ना वो भी ठीक से नहीं बोल पाए थे.
 
50 के दशक में भारत और फिल्मी दुनिया नए बदलाव से गुज़र रही थी, आज़ादी के बाद की उथल-पुथल शांत हो गई थी..देश आगे बढ़ रहा था और फिल्मी दुनिया नए प्रयोग और चेहरे के लिए तैयार हो रही थी, राजेश खन्ना जब 16 साल के थे तब से ही उनके अंदर फिल्म स्टार बनने की हसरत थी, पढ़ाई-लिखाई से ज्यादा उनका मन थिएटर में लगता था. लेकिन पिता चाहते थे कि बेटा पढ़-लिख कर खानद…
 
कृष्णा कपूर प्रेमनाथ की बहन थीं और पिता राय साहब करतार नाथ मल्होत्रा रीवा रियासत के तत्कालीन पुलिस महानिरीक्षक थे.राय साहब की चौथी संतान के रूप में सन् 30 दिसंबर 1930 को कृष्णा का जन्म हुआ था. राय साहब का परिवार मूलतः पेशावर (ब्रिटिश भारत) करीमपुरा घंटाघर के पास का रहने वाला था.
 
तब राजेश खन्ना को सब जतिन खन्ना कहते थे. बंबई पहुंचे जतिन फिल्म इंडस्ट्री में स्ट्रगल कर रहे थे. तभी एक टैलेंट हंट के लिए राजेश खन्ना को शॉर्ट लिस्ट किया गया. ये उस कॉम्पटीशन से एक रात पहले का किस्सा है.
 
शुरुआती दिनों में रफ़ी साहब बी आर चोपड़ा की फिल्मों में आवाज़ दिया करते थे. उदाहरण के लिए ‘नया दौर’ को ही लें ले. पर बाद के दिनों में कुछ ऐसा हुआ कि रफ़ी को यश चोपड़ा से अलग होना पड़ा. कहते हैं चोपड़ा ने एक बार रफ़ी साहब से कहा: अब आप सिर्फ़ बी आर फिल्म्स के लिए ही गाने गाएंगे. रफ़ी ने साफ़ इनकार कर दिया. उन्होंने कहा: आप मुझे बांध नहीं सकते. यह आवाज़ ऊपर वाले…
 
तब राजेश खन्ना को उनके जानने वाले जतिन खन्ना के नाम से ही जानते थे..बंबई में जतिन फिल्मी दुनिया में स्ट्रगल की शुरुआत कर चुके थे, इधर-उधर भटकने का सिलसिला भी चल रहा था. तभी एक रोज़ राजेश खन्ना की मुलाकात गीता बाली से होती है. गीता बाली तब फिल्मी दुनिया का बड़ा नाम थीं. गीता बाली ने राजेश खन्ना को एक ऑफर देते हुए कहा कि एक फिल्म में पंजाबी लड़के की …
 
तब तक राजेश खन्ना कई हिट फिल्में दे चुके थे, तब राजेश खन्ना की फिल्म खामोशी रिलीज़ हुई थी. वहीदा रहमान ने एक बार एक इंटरव्यू में बताया था- ‘खामोशी के वक्त राजेश खन्ना न्यूकमर थे, बहुत अच्छे एक्टर थे। वो गाने के बोल कभी पकड़ नहीं पाते थे।’ फिल्म खामोशी की शूटिंग के वक्त का एक किस्सा बयां कर एक्ट्रेस ने बताया था- ‘कलकत्ता में बोट में शूटिंग हो रही थी…
 
तब तक आराधना फिल्म को रिलीज़ हुए एक महीना बीत चुका था. लोगों के सिर पर राजेश खन्ना का जादू छाया हुआ था. तभी फिल्म दो रास्ते रिलीज़ हुई. इस फिल्म के बाद राजेश खन्ना की दीवानगी पूरे देश पर छा चुकी थी. सभी को 'राजेश खन्ना फीवर' हो चुका था.
 
तब तक राजेश खन्ना की आराधना सुपरहिट हो चुकी थी, देश के युवाओं में राजेश खन्ना के नाम की धूम थी. उन्हीं दिनों फिल्म पत्रकार देवयानी चौबल अपने एक कॉलम के लिए मशहूर थीं, लेकिन मजेदार बात ये थी कि अब इस कॉलम में नियमित रूप से राजेश खन्ना को जगह मिल रही थी. फिल्म इंडस्ट्री में देवयानी चौबल को लोग देवी और उनकी पत्रकारिता को ज़हरीली कलम.…
 
नम्रता दत्त ने उस समय को याद किया जब उनका परिवार कुछ समय के लिए ही नरगिस के इलाज के लिए US चला गया था। वह बताती हैं, 'सुबह से लेकर रात तक पापा हर दिन, हर वक्त मां के साथ ही रहते थे। वह उन्हें खिलाते थे। उनको साफ करते थे। हम बहने ने भी बारी-बारी से उनकी देखभाल किया करते थे। मुझे पक्का पता है कि पापा चुपके से रोते थे लेकिन कभी भी उन्होंने इस बात का ए…
 
1969 तक राजेश खन्ना के पास कोई सुपरहिट फिल्म नहीं थी. आराधना बन कर तैयार हो गई लेकिन फिल्म को बेचने के लिए डिस्ट्रीब्यूशन वालों ने उत्साह नहीं दिखाया. शुरुआत में लोगों ने कुछ खास पसंद नहीं किया लेकिन बाद में इस फिल्म को देखने की वजह राजेश खन्ना बन गए. Aradhana (transl. "Devotion") is a 1969 Indian Hindi romantic drama film directed by Shakti Samant…
 
राजेश खन्ना ने 1969 से 1971 के बीच लगातार 17 ब्लॉकबस्टर फिल्में दीं, जिसके बाद वे हिंदी सिनेमा के पहले सुपरस्टार कहलाए। उनका ये रिकॉर्ड आज भी कोई नहीं तोड़ पाया है। राजेश खन्ना ने अपने दौर में ऐसा स्टारडम देखा है, जिसकी कल्पना करना भी मुश्किल है। चेतन आनंद की फिल्म ‘आखिरी खत’ (1966) से साथ अपना डेब्यू करने वाले राजेश खन्ना को कभी बॉक्स ऑफिस का सबसे…
 
Rajesh Khanna की सगाई और शादी इतनी जल्दी तय हुई थी कि जिसको भी ख़बर मिली वो हैरान रह गया. इस शादी में फिल्मी दुनिया की दिग्गज हस्तियां पहुंचीं. दिलीप कुमार, लता मंगेशकर, राज कपूर, ऋषि कपूर, शत्रुघ्न सिन्हा जैसे सितारे पहुंचे.
 
27 मार्च 1973 को जब राजेश खन्ना की बारात बंबई के कार्टर रोड से गुजर रही थी तभी अचानक से काका ने पहले से तयशुदा रूट को बदल दिया और बारात का रुख मोड़ दिया, अब जिस रास्ते से बारात जाने वाली थी इस रास्ते में राजेश खन्ना की पूर्व प्रेमिका अंजू महेंद्रू का घर था.
 
बंबई की वो शाम जब सुपर स्टार राजेश खन्ना दूल्हा बने थे. बंबई का कार्टर रोड खचाखच भरा हुआ था. लोग अपने चहेते सितारे को एक नज़र देखने पहुंचे थे. देश विदेश से पत्रकार इस शादी को कवर करने आए थे.
 
1994 के आसपास रवीना-अजय का अफेयर हॉट टॉक का मुद्दा हुआ करता था. यह सब खिचड़ी ‘दिलवाले’ के शूट के दौरान ही पक रही थी. फिर बीच में करिश्मा कपूर की एंट्री हो गई और मामला गड़बड़ा गया. दरअसल अजय दो अलग-अलग फिल्में – ‘दिलवाले’ और ‘जिगर’ – रवीना और करिश्मा के साथ एक समय पर शूट कर रहे थे. कहते हैं रवीना और अजय के बीच सब सही चल रहा था फिर करिश्मा ने भांजी मार …
 
उन दिनों राजेश खन्ना समंदर के किनारे एक आलीशान बंगले की चाहत पाले हुए थे. तभी राजेन्द्र कुमार ने अपने बंगले को बेचने का मन बनाया. इस बंगले को पहले भूत बंगला कहा जाता था. कहते हैं इस भूत बंगले को खरीदने के लिए राजेश खन्ना ने अपना सबकुछ दांव पर लगा दिया था.
 
साठ के दशक में राजेन्द्र कुमार से बांद्रा में समंदर के किनारे एक भूत बंगला खरीदा. इस बंगले को तब राजेन्द्र कुमार ने साठ हजार रुपये में खरीदा था. ये बंगला उस दौर में भूत बंगले के नाम से जाना जाता था, लेकिन इस बंगले ने राजेन्द्र कुमार को जुबली कुमार बना दिया.
 
साल 1967, तब राजेश खन्ना अपनी दूसरी फिल्म की शूटिंग कर रहे थे. दुबले पतले राजेश खन्ना के चेहरे पर काफी मुंहासे भी थे. तब राजेश खन्ना के फैन फॉलोवर्स नहीं थे, लोग काका के चेहरे का मजाक उड़ाया करते थे, लेकिन किसे मालूम था कि ये शख्स आने वाले समय का सुपर स्टार है.
 
बॉलीवुड के दिवंगत अभिनेता शम्मी कपूर हमेशा अपनी पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ को लेकर सुर्खियों में रहे थे। सभी लोग उनकी और अभिनेत्री गीता बाली की प्रेम कहानी से वाकिफ हैं। लेकिन शादी के कुछ ही वर्षों बाद गीता बाली का निधन हो गया था, जिसके बाद दिग्गज अभिनेता ने नीला देवी से दूसरी शादी की थी। इस दूसरी शादी का बड़ा कारण बच्चों की परवरिश थी। यह सब कुछ सभी …
 
साल 1972 आते आते राजेश खन्ना की चमक फीकी पड़ने लगी थी. हर फिल्म फ्लॉप हो रही थी. लेकिन राजेश खन्ना एक के बाद एक फिल्में साइन किए जा रहे थे. उस साल के आखिर में आई मालिक भी बुरी तरह फ्लॉप हुई.
 
राजेश खन्ना ने जब सिनेमा में कदम रखा तब तक राज कपूर, देवानन्द, दिलीप कुमार और शम्मी कपूर जैसे सितारों की चमक फीकी पड़ रही थी. देश में एक नए परिवर्तन की बयार चल रही थी. राजेश खन्ना आए और हिट हो गए.
 
रेखा का बचपन गरीबी और तानों के बीच गुजरा. बचपन में ही पढ़ाई छुड़वा दी गई. पिता जेमिनी गणेशन ने अपना नाम तक नहीं दिया. हालात बद से बदतर हो गए.
 
राज कपूर अपने रिटायरमेंट के बाद खेती करने की चाहत रखते थे. उनका मानना था कि फिल्में और खेती में बहुत समानता है. इसके लिए राज कपूर ने पुणे में 100 एकड़ जमीन भी खरीदी थी.
 
तब राजेश खन्ना अपनी पहली ही फिल्म की शूटिंग कर रहे थे. सुबह जल्दी उठने में और जल्दी की शिफ्ट में राजेश खन्ना को हमेशा दिक्कत रही. एक रोज़ सुबह जल्दी शूटिंग शुरू होनी थी लेकिन रात में ही काका ने शराब की महफ़िल लगा ली. इस बात पर प्रोडक्शन यूनिट के हेड से खूब झगड़ा हुआ.
 
कोई कहता है उर्दू मुसलमानों की भाषा है, कोई कहता है उर्दू पाकिस्तान की भाषा है और भारत की भाषा हिंदी है. तमाम तरह के विवादों और बहसों के बीच जानिए उर्दू भाषा का जन्म कहां से हुआ. इस पॉडकास्ट में. Host: प्रतीक वाघमारे Script: मोहम्मद साकिब मज़ीद Guest: सईद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार, लेखक और टिप्पणीकार Podcast Editor: संतोष कुमार…
 
साल 1980 में फिल्म कर्ज और कुर्बानी दोनों रिलीज़ हुई, लेकिन कुर्बानी के आगे कर्ज ज्यादा नहीं चल पाई. शूटिंग की शुरुआत में ही ऋषि कपूर को पीलिया हो गया.
 
तब लोग राजेश खन्ना को जतिन खन्ना के नाम से ही जानते थे, टैलेंट हंट की जीत के बाद किसी ऑफर के इंतज़ार में थे. तभी रमेश सिप्पी के पिता के दफ्तर से फिल्म ऑफर हुई. चेहरे पर चेचक आंखों में गढ्ढे लिए जतिन खन्ना की आंखों में बड़े सपने थे.
 
सितंबर, 1973 का वो दौर था जब रेखा और नवीन निश्चल की फिल्म सावन भादों का प्रीमियर शो रखा गया था. उस प्रीमियर शो में तब की बड़ी बड़ी हस्तियां बुलाई गई थीं. इसी शो में शशि कपूर ने रेखा को काली, मोटी और फूहड़ कहा था.
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका

Google login Twitter login Classic login