Artwork

Vivek Agarwal द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Vivek Agarwal या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
Player FM - पॉडकास्ट ऐप
Player FM ऐप के साथ ऑफ़लाइन जाएं!

तुम को देखा (Tum Ko Dekha)

2:20
 
साझा करें
 

Manage episode 389321766 series 3337254
Vivek Agarwal द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Vivek Agarwal या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

तुम को देखा तो ये ख़याल आया।

प्यार पाकर तेरा है रब पाया।

झील जैसी तेरी ये आँखें हैं।

रात-रानी सी महकी साँसें हैं।

झाँकती हो हटा के जब चिलमन,

जाम जैसे ज़रा सा छलकाया।

तुम को देखा ……

देखने दे मुझे नज़र भर के।

जी रहा हूँ अभी मैं मर मर के।

इस कड़ी धूप में मुझे दे दे,

बादलों जैसी ज़ुल्फ़ की छाया।

तुम को देखा ……

ज़िंदगी भर थी आरज़ू तेरी।

तू ही चाहत तू ज़िंदगी मेरी।

पास आकर भी दूर क्यूँ बैठे,

चाँद सा चेहरा क्यूँ है शरमाया।

तुम को देखा ……

तुम को देखा तो ये ख़याल आया।

प्यार पाकर तेरा है रब पाया।

You can write to me at HindiPoemsByVivek@gmail.com

--- Send in a voice message: https://podcasters.spotify.com/pod/show/vivek-agarwal70/message
  continue reading

94 एपिसोडस

Artwork
iconसाझा करें
 
Manage episode 389321766 series 3337254
Vivek Agarwal द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Vivek Agarwal या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

तुम को देखा तो ये ख़याल आया।

प्यार पाकर तेरा है रब पाया।

झील जैसी तेरी ये आँखें हैं।

रात-रानी सी महकी साँसें हैं।

झाँकती हो हटा के जब चिलमन,

जाम जैसे ज़रा सा छलकाया।

तुम को देखा ……

देखने दे मुझे नज़र भर के।

जी रहा हूँ अभी मैं मर मर के।

इस कड़ी धूप में मुझे दे दे,

बादलों जैसी ज़ुल्फ़ की छाया।

तुम को देखा ……

ज़िंदगी भर थी आरज़ू तेरी।

तू ही चाहत तू ज़िंदगी मेरी।

पास आकर भी दूर क्यूँ बैठे,

चाँद सा चेहरा क्यूँ है शरमाया।

तुम को देखा ……

तुम को देखा तो ये ख़याल आया।

प्यार पाकर तेरा है रब पाया।

You can write to me at HindiPoemsByVivek@gmail.com

--- Send in a voice message: https://podcasters.spotify.com/pod/show/vivek-agarwal70/message
  continue reading

94 एपिसोडस

Все серии

×
 
Loading …

प्लेयर एफएम में आपका स्वागत है!

प्लेयर एफएम वेब को स्कैन कर रहा है उच्च गुणवत्ता वाले पॉडकास्ट आप के आनंद लेंने के लिए अभी। यह सबसे अच्छा पॉडकास्ट एप्प है और यह Android, iPhone और वेब पर काम करता है। उपकरणों में सदस्यता को सिंक करने के लिए साइनअप करें।

 

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका