'गज़ल-ए-कौशल'

साझा करें
 

Manage series 3249761
Nishkarsh Kaushal द्वारा - Player FM और हमारे समुदाय द्वारा खोजे गए - कॉपीराइट प्रकाशक द्वारा स्वामित्व में है, Player FM द्वारा नहीं, और ऑडियो सीधे उनके सर्वर से स्ट्रीम किया जाता है। Player FM में अपडेट ट्रैक करने के लिए ‘सदस्यता लें’ बटन दबाएं, या फीड यूआरएल को अन्य डिजिटल ऑडियो फ़ाइल ऐप्स में पेस्ट करें।
If you are interested in Ghazals. You are at the right place. मुझे किसी ख्याल में खो जाना और खोए हुए किसी और ख्याल के हो जाना पसंद आता है। मैंने शब्दों को जादू करते करीब से देखा है। बहुत करीब से देखा है पंक्ति दो पंक्ति को कोलाहल मचाते। देखा है बड़े शायर के पीछे किसी हुजूम का तालियां बजाते बजाते लुट जाना। एक नशा है और मैं अपने लिए ऐसे ही नशे की दुनिया बना रहा हूं। आप भी इसमें बिना किराया बिना कर्ज़ साथ हो सकते हैं। बस आपको एक 'आह' में "वाह कौशल" कहते जाना है। _____"कौशल"।।

5 एपिसोडस