लोग क्या कहेगे इस बात पर हम यु उलझते जा रहे है। We are getting entangled on what people will say.

13:16
 
साझा करें
 

Manage episode 293878209 series 2426815
kumar ABHISHEK upadhyay (Podcast) and Kumar ABHISHEK upadhyay (Podcast) द्वारा - Player FM और हमारे समुदाय द्वारा खोजे गए - कॉपीराइट प्रकाशक द्वारा स्वामित्व में है, Player FM द्वारा नहीं, और ऑडियो सीधे उनके सर्वर से स्ट्रीम किया जाता है। Player FM में अपडेट ट्रैक करने के लिए ‘सदस्यता लें’ बटन दबाएं, या फीड यूआरएल को अन्य डिजिटल ऑडियो फ़ाइल ऐप्स में पेस्ट करें।

लोग क्या कहेगे इस बात पर हम यु उलझते जा रहे है। We are getting entangled on what people will say. | आज के इस शीर्षक में , मैं यहाँ कुछ नामी कुछ, कुछ बेनाम कवियों की कविताये यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ। कुछ खामिया अवश्य रह गई होगी , क्यों की मैं मनुष्य हूँ भूल के पात्र हूँ। इसलिए क्षमा का अधिकारी भी हूँ। जीवन का फलसफा भी बड़ा अजीब है उसे कोई समझ नहीं पाया , जिसे हम समझ पाए , वो हमे नहीं समझ पाया। बस सब अपनी अपनी मौज में गुज़र गए । मंज़िल kisi ko नहीं mili। सिर्फ तसल्ली कर लेते है लोग बाकि तलाश तो ज़िन्दगी के बाद भी जारी रहती है।

कविता हमारे जीवन से सम्बंधित कुछ आयामों को परिभाषित करती है। कुछ प्रेरणा , कुछ शिक्षा कुछ कटाक्ष से हमे जगा जाती है। कुछ कवितायेँ मुद्दों को कहती है , तो कुछ दिल के तारों को छेड़ जाती है। कुछ चुभन दे जाती है। मुश्किलें कब रूकती है क्या रुक जाना , या उससे मुँह फेर लेना छुटकारा है । ख़ुशी और ग़म तो एक धूपछांव से है। बहुत सारी बातें प्रश्न बन हमरे सामने खड़ी है। इनायतेँ होती है उसका कोई मोल चुकाया नहीं जाता। बस दिल से शुक्राना अदा कर दीजिये उन्हें सुकून मिल जायेगा।

--- Send in a voice message: https://anchor.fm/kumar-abhishek/message Support this podcast: https://anchor.fm/kumar-abhishek/support

88 एपिसोडस