Artwork

RTBF द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री RTBF या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
Player FM - पॉडकास्ट ऐप
Player FM ऐप के साथ ऑफ़लाइन जाएं!

Philosophie du manque avec Mazarine M. Pingeot

42:46
 
साझा करें
 

Manage episode 400083791 series 69689
RTBF द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री RTBF या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
« Nous traversons une époque assez peu philosophique, saturée de dogmatismes en tous genres » : c’est ce qu’observe Mazarine Pingeot. Une époque où règne, par ailleurs, le marketing du « sans » : sans sucre, sans gluten, sans colorant, sans contact, … C’est le point de départ de ses recherches philosophiques autour du manque. Qu’est-ce que le manque ? Pouvons-nous réellement nous en passer ? Et pourquoi est-il temps d’y songer si on souhaite « faire face aux défis écologiques et renouveler la pensée politique phagocytée par l’économie » ? Mazarine M. Pingeot nous expose ses idées, cette semaine. La professeure de philosophie signe : « Vivre sans. Une philosophie du manque » (Climats/Flammarion). Dans notre Grand dictionnaire, la raison selon Hegel avec Martin Legros du Philosophie magazine.

Merci pour votre écoute

Et Dieu dans tout ça ? c'est également en direct tous les dimanches de 13h à 14h sur www.rtbf.be/lapremiere

Retrouvez tous les épisodes de Et Dieu dans tout ça ? sur notre plateforme Auvio.be :
https://auvio.rtbf.be/emission/180

Et si vous avez apprécié ce podcast, n'hésitez pas à nous donner des étoiles ou des commentaires, cela nous aide à le faire connaître plus largement.

  continue reading

346 एपिसोडस

Artwork
iconसाझा करें
 
Manage episode 400083791 series 69689
RTBF द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री RTBF या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
« Nous traversons une époque assez peu philosophique, saturée de dogmatismes en tous genres » : c’est ce qu’observe Mazarine Pingeot. Une époque où règne, par ailleurs, le marketing du « sans » : sans sucre, sans gluten, sans colorant, sans contact, … C’est le point de départ de ses recherches philosophiques autour du manque. Qu’est-ce que le manque ? Pouvons-nous réellement nous en passer ? Et pourquoi est-il temps d’y songer si on souhaite « faire face aux défis écologiques et renouveler la pensée politique phagocytée par l’économie » ? Mazarine M. Pingeot nous expose ses idées, cette semaine. La professeure de philosophie signe : « Vivre sans. Une philosophie du manque » (Climats/Flammarion). Dans notre Grand dictionnaire, la raison selon Hegel avec Martin Legros du Philosophie magazine.

Merci pour votre écoute

Et Dieu dans tout ça ? c'est également en direct tous les dimanches de 13h à 14h sur www.rtbf.be/lapremiere

Retrouvez tous les épisodes de Et Dieu dans tout ça ? sur notre plateforme Auvio.be :
https://auvio.rtbf.be/emission/180

Et si vous avez apprécié ce podcast, n'hésitez pas à nous donner des étoiles ou des commentaires, cela nous aide à le faire connaître plus largement.

  continue reading

346 एपिसोडस

सभी एपिसोड

×
 
Loading …

प्लेयर एफएम में आपका स्वागत है!

प्लेयर एफएम वेब को स्कैन कर रहा है उच्च गुणवत्ता वाले पॉडकास्ट आप के आनंद लेंने के लिए अभी। यह सबसे अच्छा पॉडकास्ट एप्प है और यह Android, iPhone और वेब पर काम करता है। उपकरणों में सदस्यता को सिंक करने के लिए साइनअप करें।

 

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका