Download the App!
show episodes
 
Loading …
show series
 
मंगोलिया में चरम मौसम की "श्वेत और लौह" ज़ुड स्थिति "गम्भीर" स्तर पर पहुँच गई है जिसने, देश के 90 प्रतिशत से अधिक हिस्से को अपनी चपेट में ले लिया है, और मवेशियों को चारे की भारी क़िल्लत के जोखिम का सामना करना पड़ रहा है.सर्द मौसम की ज़ुड स्थिति तब उत्पन्न होती है जब विशेष रूप से बर्फ़ की भारी चादर, पशुओं को चारे तक या पर्याप्त घास पहुँचने से रोक दे…
  continue reading
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...रूस में विपक्षी नेता ऐलेक्सई नवालनी की, जेल में मौत होने की ख़बर पर स्तब्धता व क्षोभ.ग़ाज़ा में इसराइल का सम्भावित चौतरफ़ा हमला होने की स्थिति में, अकल्पनीय विनाश होने की आशंका.मौजूदा अन्तरराष्ट्रीय व्यवस्था भड़का रही है विभाजन और असन्तोष, कहा यूएन प्रमुख ने.हिंसक टकराव और जलवायु परिवर्तन से खाद्य असुरक्षा हो रह…
  continue reading
 
हर साल 13 फ़रवरी को विश्व रेडियो दिवस मनाया जाता है. रेडियो जनसंचार का एक महत्वपूर्ण माध्यम है, जोकि 100 साल से भी अधिक पुराना है. रेडियो दिवस एक अवसर है, इस माध्यम के इतिहास को फिर से देखने का, समाज और समुदाय में उसकी भूमिका को समझने का और ये जानने का कि जनसंचार के इस माध्यम ने किस तरह समाचार, ड्रामा, संगीत, खेलकूद और अन्य तमाम विषयों से जुड़ी जान…
  continue reading
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...ग़ाज़ा के दक्षिणी इलाक़े – रफ़ाह में, इसराइली हमले होने की सम्भावनाओं पर गम्भीर चिन्ता. इस बीच ग़ाज़ा के अन्य इलाक़ों में, युद्ध के कारण, ज़रूरतमन्द लोगों तक मानवीय सहायता पहुँचाना बेहद कठिन.यूएन प्रमुख ने कहा, दुनिया में बढ़ते हिंसक टकरावों, ध्रुवीकरण और गहराती दरारों की पृष्ठभूमि में, शान्ति, मानवता का सर्वोपर…
  continue reading
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...- ग़ाज़ा में भीषण लड़ाई, बमबारी के बीच, हर दिन गहरा रही है आम फ़लस्तीनियों की पीड़ा- धन की क़िल्लत से सहायता अभियान जोखिम में, यूएन एजेंसी को वित्तीय समर्थन जारी रखने की पुकार- म्याँमार में सैन्य तख़्तापलट के तीन साल, आम नागरिकों पर हुआ है गहरा असर, यूएन प्रमुख ने कहा, हिंसा व राजनैतिक दमन का अन्त ज़रूरी - दुनिय…
  continue reading
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...अन्तरराष्ट्रीय न्यायालय – ICJ का, इसराइल को, ग़ाज़ा में जनसंहारक कृत्य रोकने के लिए भरसक उपाय करने का निर्णय.बांग्लादेश की नवनिर्वाचित सरकार से, दमनकारी प्रवृत्तियों को उलटने के लिए, सुधार लागू करने की पुकार.अफ़ग़ानिस्तान में तालेबान प्रशासन द्वारा, महिलाओं को उनके मानवाधिकारों से वंचित किए जाने पर चिन्ता.यूएन म…
  continue reading
 
इस सप्ताह के बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...यूएन एजेंसियों के अनुसार, फ़लस्तीनी क्षेत्र ग़ाज़ा में शिशुओं के लिए नरक जैसे हालात, यूएन प्रमुख ने फिर कहा – दो-राष्ट्र की स्थापना ही है स्थाई समाधान.यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने, पाकिस्तान-ईरान के बीच युद्धक झड़पों पर, जताई गम्भीर चिन्ता.अफ़ग़ानिस्तान में आर्थिक पुनर्बहाली के लिए, महिला अधिकार सुनिश्चित किए…
  continue reading
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...ग़ाज़ा में इसराइल के तथाकथित जनसंहारक इरादों पर, अन्तरराष्ट्रीय न्यायालय – ICJ में मुक़दमे की सुनवाई, इस बीच ग़ाज़ा में तत्काल युद्धविराम की फिर पुकार.नया वर्ष शुरू होने पर भी, यूक्रेन में, युद्ध से कोई राहत नहीं.बांग्लादेश में हाल के चुनावों में हिंसा की ख़बरों के मद्देनज़र, लोकतंत्र को समावेशी बनाने की पुकार.अ…
  continue reading
 
आर्थिक एवं सामाजिक मामलों के यूएन विभाग (UN DESA) की नवीनतम ‘विश्व आर्थिक स्थिति एवं सम्भावनाएँ 2024’ नामक रिपोर्ट के अनुसार, इस वर्ष वैश्विक आर्थिक प्रगति की रफ़्तार धीमी रहने की सम्भावना है, और यह 2023 के अनुमान 2.7 प्रतिशत से घटकर 2.4 प्रतिशत पर लुढ़क सकती है. एशिया व प्रशान्त क्षेत्र के लिए यूएन आर्थिक व सामाजिक आयोग (UNESCAP) के पूर्व निदेशक, …
  continue reading
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...ग़ाज़ा पट्टी में बमबारी और इसराइली सैनिकों व हमास लड़ाकों के बीच घमासान लड़ाईज़रूरतमन्दों तक मानवीय राहत पहुँचाने के रास्ते में बड़े अवरोध, ग़ाज़ा में गहराता मानवीय संकटईरान में हुए धमाकों में 80 से अधिक लोगों की मौत, दोषियों को न्याय के कटघरे में लाए जाने की मांगबांग्लादेश के कॉक्सेस बाज़ार में रोहिंज्या शरणार्…
  continue reading
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...ग़ाज़ा पट्टी में बमबारी और इसराइली कार्रवाई के बढते दायरे के बीच, विस्थापितों की बढ़ती संख्या, भोजन, आश्रय स्थलों व स्वास्थ्य सेवाओं की भारी क़िल्लत.क़ाबिज़ पश्चिमी तट में हिंसक घटनाओं में वृद्धि, फ़लस्तीनी आबादी के ‘अमानवीयकरण’ के प्रति चेतावनी.यूक्रेन में घनी आबादी वाले अनेक शहरों में मिसाइल व ड्रोन हमलों की ल…
  continue reading
 
हाल ही में संयुक्त अरब अमीरात के दुबई में कॉप28 जलवायु सम्मेलन आयोजित हुआ, जिसमें जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता घटाने का मुद्दा विशेष रूप से चर्चा के केन्द्र में रहा. पाकिस्तानी अमेरिकी मूल की युवा जलवायु कार्यकर्ता और जलवायु परिवर्तन पर यूएन महासचिव की युवा सलाहकार टीम की सदस्य, आएशा सिद्दीक़ा का कहना है कि पिछले कई सालों से की जा रही कोशिशों के बाद ही…
  continue reading
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...ग़ाज़ा पट्टी में गम्भीर मानवीय हालात, ज़रूरतमन्दों तक बेरोकटोक मानवीय सहायता पहुँचाने के लिए, सुरक्षा परिषद में अहम प्रस्ताव पारितअफ़ग़ानिस्तान में तालेबान और अन्तरराष्ट्रीय समुदाय के बीच सम्वाद बनाए रखने पर ज़ोर, मानवाधिकारों के मुद्दे पर प्रगति सुनिश्चित करने का भी आग्रहविश्व के अनेक हिस्सों में डेंगू के मामलो…
  continue reading
 
28-वर्षीय अजिंक्या धारिया, भारत के महाराष्ट्र राज्य में पुणे शहर से हैं और पैडकेयर (PadCareX) टैक्नॉलॉजी उन्हीं की एक पहल है. यह सैनेट्री नैपकिन को रिसाइकर करने की एक ऐसी टैक्नॉलॉजी है, जिसके ज़रिये लुगदी और प्लास्टिक को अलग करके, पैकेजिंग व कृषि क्षेत्र के लिए उत्पाद तैयार किए जाते हैं. संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने भविष्य को आकार दे रहे 30 …
  continue reading
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...यूएन महासभा के बहुमत से पारित प्रस्ताव में, ग़ाज़ा में मानवीय युद्धविराम की प्रबल मांग.युद्ध से त्रस्त ग़ाज़ा के लोगों की शिकायत – उनके साथ होता है कमतर इनसानों जैसा बर्ताव.जीवाश्म ईंधन के बारे में कुछ सन्दर्भ के साथ सम्पन्न हुआ, दुबई जलवायु सम्मेलन – कॉप28, मिली-जुली प्रतिक्रिया.सुरक्षा परिषद में सुधार के मुद्द…
  continue reading
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...इसराइल व फ़लस्तीन के बीच संकट पर, सुरक्षा परिषद की एक और आपात बैठक, मगर मानवीय युद्धविराम की मांग करने वाला प्रस्ताव, अमेरिका के वीटो के कारण, नहीं हुआ पारित.दुबई जलवायु सम्मेलन – कॉप28 में प्रतिनिधियों से, महत्वाकांक्षी संकल्प व्यक्त करने की अपेक्षा, हानि व क्षति निधि पर सुनिएगा, डॉक्टर सुनीता नारायण के विचार.स…
  continue reading
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका