show episodes
 
एनडीटीवी इंडिया : हिन्दी समाचार (Hindi News) की आधिकारिक वेबसाइट. पढ़ें देश और दुनिया की ताजा ख़बरें, खेल सुर्खियां, व्यापार, बॉलीवुड और राजनीति के समाचार. Get latest News in Hindi at NDTV India.
 
Loading …
show series
 
1.महाराष्ट्र में जहां कोरोना के केस कुछ कम होना शुरू हुए हैं वहीं दूसरी ओर मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है. अब महाराष्ट्र में कोरोना से 920 लोगों की मौत हुई जो एक दिन में राज्य में कोरोना से हुई सबसे ज़्यादा मौते हैं. हांलाकि अधिकारियों का कहना है कि इसमें उन मौतों को भी जोड़ा गया है जो पिछले 48 घंटों और पिछले हफ़्ते किसी वजह से रिपोर्ट नहीं हो पाईं थीं…
 
30 अप्रैल 2021 के इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... -------------------------------------------------------
 
कहते हैं प्यार करने वालों को जुदा करना आसान नहीं है. सच्चा प्यार करने वालों का मिलना थोड़ा मुश्किल होता है लेकिन अगर कोई ऐसा इंसान आपके जीवन में आ जाए जो आपके लिए कुछ भी कर गुजर जाए तो फिर समझ लीजिए आप इस दुनिया के सबसे खुशकिस्मत इंसान हैं. आज के दौर में जब रिश्ते-नाते वक्त से पहले ही साथ छोड़ने लगे हैं तो ऐसे में वाकई किसी की याद में या किसी के लिए …
 
आखिर कौन है वो शख्स जो पिता की हत्या का बदला लेने के लिए खुद डॉन बन गया? जिसका सुराग बताने के लिए यु पी पुलिस 5 लाख का इनाम तक घोषित कर दी थी और जिसकी पहुँच दाऊद इब्राहिम तक थी?द्वारा Jharkhand Khabri
 
इतने में, छत पर नज़र गई और वो नीचे आई हिरण जैसे कुलाँचे भड़ी , पीछे मुड़ कर देखी और चली गई। बस इसी अदा पे दिल फिसल गया और उन्नीस सौ तिरानवे (1993) की उसी रात साढ़े आठ(8 30) बजे उन्होंने ये बात तय कर लिया कि आगे का जीवन इन्ही के साथ गुजारना है।द्वारा Jharkhand Khabri
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... -------------------------------------------------------द्वारा UN News Hindi team
 
2004, ये वो साल था जब करीना के ज़िन्दगी में शाहिद आये। ये दोनों साथ में फिल्म फिदा की shooting कर रहे थे और इसी दौरान दोनों एक दूसरे पर फिदा हो गए।करीना का तालुक जाने माने actor राज कपूर और रणधीर कपूर के परिवार से है वहीं शाहिद एक्टर पंकज कपूर के परिवार से तालुक रखते हैं।द्वारा Jharkhand Khabri
 
ऐलेक्ज़ैन्डर ग्राहम बेल विश्व जगत का वह नाम है, जिन्होंने ‘टेलीफोन’ बनाकर पूरी दुनिया में खुद को स्थापित किया. पर क्या आप जानते हैं कि विज्ञान का यह विद्यार्थी इश्क की क्लास का भी टॉपर रहा है. माबेल हब्बार्ड (जोकि उनकी पत्नी बनीं) के साथ ग्राहम बेल के प्यार के किस्से बहुत मशहूर रहे, एक दिन ग्राहम बच्चों के साथ थे, तभी उनकी नज़र एक ऐसे चेहरे पर पड़ी…
 
भारत की राजधानी दिल्ली में विधानसभा की सदस्या, आतिशी का करियर शिक्षण से शुरू हुआथा, जिसने आगे जाकर ऐसा राजनैतिक मोड़ लिया कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों की काया-पलट ही हो गई. आतिशी ने, अन्तरारष्ट्रीय महिला दिवस पर, महिलाओं के राजनीति में प्रतिनिधित्व व महिला अधिकारों से जुड़े मुद्दों पर, यूएन न्यूज़ हिन्दी की अंशु शर्मा के साथ ख़ास बातचीत की...…
 
छवि राजावत, भारत के राजस्थान प्रदेश में, वर्ष 2010 से 2020 तक, राजधानी जयपुर के निकट एक गाँव सोडा की सरपंच रही हैं. सरपंच के रूप में काम करने के लिये, कॉर्पोरेट जगत का करियर छोड़ने वाली, छवि राजावत का मानना है कि ज़मीनी स्तर पर बदलाव लाने के लिये बुनियादी स्तर पर शुरू करना ज़रूरी है, “अगर हम मूलभूत चीज़ों की बात करें, तो हम बच्चों से स्कूलों में पू…
 
Manya Surve का जन्म 1944 में भारत में महाराष्ट्र राज्य के रत्नागिरी कोकण क्षेत्र के पावस जिलेके रंपर गाँव में हुआ था। 1952 में सुर्वे अपनी माँ और बड़े पिताजी के साथ मुंबई रहने के लिए आ गया था। मुंबई आने के बाद कयी सालो तक वह लोअर परेल की चौल में रहने लगा। मन्या सुर्वे कीर्ति कॉलेज से ग्रेजुएट है और जब उसने कॉलेज में ही छात्रो के साथ एक गैंग का निर्…
 
वो किसान का बेटा था. पिता परिवार का पेट पालने के लिए बस कंटक्टर की नौकरी करते थे. बमुश्किल परिवार का खर्च चल पाता था. दूसरी तरफ उसकी प्रेमिका उस इलाके के सबसे अमीर परिवार से ताल्लुक रखती थी. प्रेमिका के दो घर और कई एकड़ खेती की जमीन थी. करीब साल 15 पहले दोनों का प्यार ऐसा परवान चढ़ा कि इलाके में चर्चा का विषय बन गया. लेकिन उसी इश्क का एक दिन ऐसा खौ…
 
बिहार की कुख्यात गैंगस्टर पूजा पाठक , पूजा जब राजधानी पटना में रहकर पॉलिटेक्निक की पढ़ाई कर रही थी तब ही उसने जरायम की दुनिया में कदम रख दिया था। छात्र जीवन में अपराध की दुनिया में छा जाने वाली इस कुख्यात गैंगस्टर को मुख्य रुप से किडनैपिंग की वारदात को अंजाम देने के लिए जाना जाता था। गैंगस्टर मुकेश पाठक ने साल 2003 में अपने चचेरे भाई प्रेमनाथ पाठक …
 
‘वैश्विक अध्यापक पुरस्कार 2020’ के विजेता रंजीतसिंह डिसले का कहना है कि दुनिया को, 21वीं सदी के शिक्षकों की आवश्यकता है और जीवन में टैक्नॉलॉजी की बढ़ती भूमिका के मद्देनज़र, शिक्षकों को भी कक्षाओं में प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल बढ़ाना होगा. भारत में महाराष्ट्र प्रदेश के सोलापुर ज़िले के परीतेवाड़ी गाँव में सरकारी स्कूल में अध्यापक, रंजीतसिंह डिसले को,…
 
भारत में उत्तराखण्ड प्रदेश के चमोली ज़िले में रविवार सुबह ग्‍लेशियर टूटने और उसके बाद अचानक बाढ़ आने से हुए भारी नुक़सान के बाद, बड़े पैमाने पर बचाव और तलाश अभियान चलाया गया है. उत्तराखण्ड में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) कार्यालय की प्रमुख, रश्मि बजाज ने, यूएन न्यूज़ के साथ बातचीत में बताया कि प्रभावित इलाक़े में पानी के तेज़ बहाव, मलबा …
 
भारत में सर्दी के मौसम में, खेतों में फ़सलों की उपज काटने के बाद बचे हुए पुआल और अन्य कचरे को खुले मैदानों में जला दिया जाता हैं. इससे प्रदूषण की समस्या पैदा होती है और साँस की बीमारियों का ख़तरा बढ़ जाता है. भारत के एक युवा इंजानियर व अन्वेषक विद्युत मोहन ने इस समस्या के निदान के लिये एक ऐसी मशीन ईजाद की है, जिससे पुआल या पराली को उच्च तापमान में …
 
पेरिस समझौते की पाँचवी वर्षगाँठ से ठीक पहले संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) की एक नई रिपोर्ट में स्पष्ट कहा गया है कि कोविड-19 के कारण वैश्विक स्तर पर कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन में कुछ गिरावट हुई है, लेकिन संकेत यही हैं कि वर्तमान स्थिति से, जलवायु परिवर्तन की बड़ी चुनौती का सामना करने में कोई ख़ास फर्क़ नहीं पड़ा है, और इस सदी के अन्त त…
 
भारत में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम में कार्यक्रम अधिकारी, करण मंगोत्रा ने यूएन न्यूज़ के साथ एक साक्षात्कार में कहा कि पाँच साल पहले हुए पेरिस समझौते के कई सकारात्मक परिणाम देखने को मिले हैं, लेकिन जलवायु परिवर्तन की रोकथाम की ख़ातिर, ज़रूरी तकनीकी बदलाव करने के लिये, कम लागत वाली तकनीकें उपलब्ध कराना एक बड़ी चुनौती रहेगी. करण मंगोत्रा के …
 
भारत में ऊर्जा, पर्यावरण और जल परिषद (Council on Energy, Environment and Water) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरूणभा घोष का मानना है कि 12 दिसम्बर को आयोजित जलवायु महत्वाकाँक्षी सम्मेलन से अगले वर्ष होने वाले संयुक्त राष्ट्र के वार्षिक जलवायु सम्मेलन कॉप-26 की नींव रखने में मदद मिलेगी. उन्होंने कहा कि विशेष रूप से बिजली और जल क्षेत्र में कार्बन उत्सर्…
 
संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूनेप) के न्यूयॉर्क कार्यालय के प्रमुख और सहायक महासचिव, सत्या त्रिपाठी का मानना है कि हालाँकि बहुत से देश, जलवायु आपातस्थिति से निपटने के लिये अनेक सार्थक क़दम उठा रहे हैं, लेकिन अब भी बहुत कुछ किया जाना बाक़ी है. सत्या त्रिपाठी ने, यूएन न्यूज़-हिन्दी की प्रतिष्ठा जैन के साथ एक ख़ास बातचीत में, शनिवार को होने वा…
 
पेरिस जलवायु समझौते को इस वर्ष पाँच साल पूरे हो गए हैं. 2015 में इस ऐतिहासिक समझौते पर हस्ताक्षर करने वाले सभी देश शनिवार, 12 दिसम्बर को एक वर्चुअल जलवायु महत्वाकाँक्षी शिखर सम्मेलन में एकजुट हो रहे हैं. इस सम्मेलन में, आने वाले पाँच वर्षों के लक्ष्य परिभाषित किये जाएँगे, जो संभवत: अगले साल नवम्बर में स्कॉटलैण्ड के ग्लास्गो शहर में होने वाले कॉप26 …
 
संयुक्त राष्ट्र, हर वर्ष 5 दिसम्बर को अन्तरराष्ट्रीय स्वैच्छिक कार्यकर्ता दिवस (International Volunteers Day) मनाता है, जिसके ज़रिये दुनिया भर के उन स्वैच्छिक कार्यकर्ताओं के योगदान को पहचान दी जाती है जो इस संगठन के काम में किसी भी तरह की मदद करते हैं. वर्ष 2020 में कोविड महामारी से निपटने के प्रयासों में भी यूएन वॉलन्टियर्स (UNV) ने असाधारण काम क…
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... -------------------------------------------------------------------
 
‘भारत और संयुक्त राष्ट्रः डाक इतिहास’ नामक वर्चुअल प्रदर्शनी के ज़रिये विश्व के सबसे बड़े लोकतान्त्रिक देश - भारत और बहुपक्षीय संगठन के बीच के सम्बन्धों के इतिहास की झलक पेश की गई है. यह प्रदर्शनी UN India की वेबसाइट पर देखी जा सकती है. इस प्रदर्शनी में संयुक्त राष्ट्र और भारत से सम्बन्धित विषयों पर, भारतीय डाक विभाग और संयुक्त राष्ट्र डाक प्रशासन …
 
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... -------------------------------------------------------------------
 
शौचालयों की अहमियत और स्वच्छता पर जागरूकता बढ़ाने के लिये दुनिया भर में 19 नवम्बर को विश्व शौचालय दिवस मनाया जाता है. दुनिया की कुल आबादी का लगभग एक चौथाई हिस्सा, यानि लगभग 25 प्रतिशत आबादी को बुनियादी सुविधाएँ हासिल नहीं हैं. इसके तहत, खुले में शौच करने के चलन या मजबूरी को ख़त्म करने, महिलाओं व लड़कियों और नाज़ुक परिस्थितियों में रहने को मजबूर लोग…
 
संयुक्त राष्ट्र ने 18 से 24 नवम्बर तक विश्व एंटी-माइक्रोबियल प्रतिरोध जागरूकता सप्ताह मनाया है. आज दुनिया भर में, इनसानों, पेड़ - पौधों और जानवरों की मौतें ऐसी बीमारियों से हो रही है, जिनका दवाओं से आसानी से इलाज किया जा सकता है. इसकी वजह है - रोगाणुरोधी प्रतिरोध में वृद्धि, यानि एंटी माइक्रोबियल प्रतिरोध (Antimicrobial Resistance AMR), जिसके कारण …
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका

Google login Twitter login Classic login