वह गीतकार जिसने ताजमहल को प्यार नहीं शोषण की भी निशानी माना

12:53
 
साझा करें
 

Manage episode 305479916 series 2506339
SBS Radio द्वारा - Player FM और हमारे समुदाय द्वारा खोजे गए - कॉपीराइट प्रकाशक द्वारा स्वामित्व में है, Player FM द्वारा नहीं, और ऑडियो सीधे उनके सर्वर से स्ट्रीम किया जाता है। Player FM में अपडेट ट्रैक करने के लिए ‘सदस्यता लें’ बटन दबाएं, या फीड यूआरएल को अन्य डिजिटल ऑडियो फ़ाइल ऐप्स में पेस्ट करें।

हिन्दी फिल्मों के गीतकार साहिर लुधियानवी का जन्म 8 मार्च 1921 को पंजाब के लुधियाना शहर में हुआ था। साहिर के लिखे हुए गीतों और गज़लों को आज भी लोग चाव से सुनते हैं। 'ये देश है वीर जवानों का', 'मैं पल दो पल का शायर हूँ', 'ए मेरी जहोरां जबी' जैसे गानों से उन्होंने हिन्दी फिल्मों में नई ऊँचाइयों को छुआ। साहिर ने 25 अक्टूबर 1980 को दुनिया को अलविदा कहा। उनकी 41वी पुण्यतिथि पर सुनते है यह खास अंश।

2208 एपिसोडस