754: रंगा और बिल्ला के जीवन के आखिरी क्षण

13:15
 
साझा करें
 

Manage episode 247188523 series 114151
Audioboom and Radio Programmes द्वारा - Player FM और हमारे समुदाय द्वारा खोजे गए - कॉपीराइट प्रकाशक द्वारा स्वामित्व में है, Player FM द्वारा नहीं, और ऑडियो सीधे उनके सर्वर से स्ट्रीम किया जाता है। Player FM में अपडेट ट्रैक करने के लिए ‘सदस्यता लें’ बटन दबाएं, या फीड यूआरएल को अन्य डिजिटल ऑडियो फ़ाइल ऐप्स में पेस्ट करें।
हाल ही में सुनील गुप्ता और सुनेत्रा चौधरी की एक किताब प्रकाशित हुई है ‘ब्लैक वॉरंट - कनफ़ेशंस ऑफ़ अ तिहाड़ जेलर’ जिसमें फाँसी पाए अपराधियों के अंतिम क्षणों का वर्णन किया गया है. 1982 में जब ख़ूँख़ार अपराधियों रंगा और बिल्ला को फाँसी दी गई थी तो सुनील गुप्ता वहाँ मौजूद थे. कौन थे रंगा और बिल्ला ? उन्होंने कौन सा अपराध किया था जिसने दिल्ली को हमेशा के लिए बदल कर रख दिया था ? रंगा और बिल्ला को फाँसी देते समय क्या क्या हुआ था बता रहे हैं रेहान फ़ज़ल विवेचना में

3030 एपिसोडस