दूसरे देशों के झगड़ों में क्यों पड़े? International Peace Mediation and India.

56:23
 
साझा करें
 

Manage episode 286487283 series 2296248
IVM Podcasts द्वारा - Player FM और हमारे समुदाय द्वारा खोजे गए - कॉपीराइट प्रकाशक द्वारा स्वामित्व में है, Player FM द्वारा नहीं, और ऑडियो सीधे उनके सर्वर से स्ट्रीम किया जाता है। Player FM में अपडेट ट्रैक करने के लिए ‘सदस्यता लें’ बटन दबाएं, या फीड यूआरएल को अन्य डिजिटल ऑडियो फ़ाइल ऐप्स में पेस्ट करें।

In the past, India has played a significant role in mediating peace in conflicts involving major powers. However, this zeal has waned over the last few decades. In this episode, Raja Karthikeya, who has worked on several peace issues in West Asia, argues that India must revive the peace mediation agenda for its own national interest. He dispels commonly held notions that have constrained India’s imagination and action as an international peace mediator. This episode builds on Raja’s chapter in the book India's Marathon: Reshaping the Post-Pandemic World Order.

आम तौर पर ये धारणा है कि भारत को दूसरे देशों के झगड़ों से दो गज़ की दूरी बनाई रखनी चाहिए, पहले खुद के झगड़े निपटाए और फिर ही दूसरे देशों के मामलों में सोचें। लेकिन इस एपिसोड में राजा कार्तिकेय कहते है कि सोचने का ये नज़रिया ग़लत है। शांति मध्यस्थता में सक्रिय होने से भारत को सीधा सीधा लाभ भी है और भारत इस ज़िम्मेदारी को उठाने में सक्षम भी है। राजा कई पश्चिम एशिया में शांति मध्यस्थता प्रक्रियाओं का हिस्सा रह चुके हैं।

For more:

  1. Read Raja’s chapter in India's Marathon: Reshaping the Post-Pandemic World Order, editors Pranay Kotasthane, Anirudh Kanisetti, and Nitin Pai.

  2. 70 years of the Korean War: India’s lesser-known role in halting it, Neha Banka for Indian Express

  3. Raja’s previous appearance on Puliyabaazi #24

  4. For an Indian Touch in Timor-Leste, Nitin Pai


Puliyabaazi is on these platforms:

Twitter: https://twitter.com/puliyabaazi

Facebook: https://www.facebook.com/puliyabaazi

Instagram: https://www.instagram.com/puliyabaazi/

Subscribe & listen to the podcast on iTunes, Google Podcasts, Castbox, AudioBoom, YouTube, Spotify or any other podcast app.

105 एपिसोडस