Ep. 61: सरकारी तंत्र की काबिलियत के मायने

1:09:22
 
साझा करें
 

Manage episode 258970953 series 2296248
IVM Podcasts द्वारा - Player FM और हमारे समुदाय द्वारा खोजे गए - कॉपीराइट प्रकाशक द्वारा स्वामित्व में है, Player FM द्वारा नहीं, और ऑडियो सीधे उनके सर्वर से स्ट्रीम किया जाता है। Player FM में अपडेट ट्रैक करने के लिए ‘सदस्यता लें’ बटन दबाएं, या फीड यूआरएल को अन्य डिजिटल ऑडियो फ़ाइल ऐप्स में पेस्ट करें।

How is it that Indian governments are good at conducting elections and organising Kumbh Melas but are terrible at maintaining public infrastructure? Why does the Indian State seem to be omnipresent and inadequate at the same time? These are some questions that ‘State Capacity’ literature deals with. So in this episode, we discuss insights on Indian state capacity with Prakhar Misra (@PrakharMisra), Senior Associate at IDFC Institute, Mumbai.

सरकार की नीति और उनके कार्यान्वन में अक़्सर काफ़ी अंतर होता है | इसका एक बड़ा कारण है हमारे सरकारी तंत्र की सीमित क्षमता | ऐसा क्यों कि भारतीय सरकार सर्वव्यापी भी है और ग़ैरहाज़िर भी? ऐसा क्यों कि भारतीय सरकारें कुछ काम बहुत अच्छे से करती है, जैसे कि कुम्भ मेला आयोजन, चुनाव इत्यादि जबकि स्वास्थ्य, शिक्षा क्षेत्रों में कई दशकों से प्रदर्शन फीका रहा है? इन्हीं विषयों पर चर्चा आईडीएफसी इंस्टिट्यूट में सीनियर एसोसिएट प्रखर मिश्रा (@PrakharMisra) के साथ|

Readings:
Why Does the Indian State Both Fail and Succeed? By Devesh Kapur
What is Governance? By Francis Fukuyama
Is India a Flailing State? By Lant Pritchett
Solutions when The Solution is the Problem By Lant Pritchett and Michael Woolcock
Premature Imitation and India’s Flailing State by Shruti Rajagopalan and Alex Tabarrok

Puliyabaazi is on these platforms:
Twitter: https://twitter.com/puliyabaazi
Facebook: https://www.facebook.com/puliyabaazi
Instagram: https://www.instagram.com/puliyabaazi/
Subscribe & listen to the podcast on iTunes, Google Podcasts, Castbox, AudioBoom, YouTube, Spotify or any other podcast app.

70 एपिसोडस