Ep. 47: झूठी खबरों का असली सच

1:25:17
 
साझा करें
 

Manage episode 243646702 series 2296248
IVM Podcasts द्वारा - Player FM और हमारे समुदाय द्वारा खोजे गए - कॉपीराइट प्रकाशक द्वारा स्वामित्व में है, Player FM द्वारा नहीं, और ऑडियो सीधे उनके सर्वर से स्ट्रीम किया जाता है। Player FM में अपडेट ट्रैक करने के लिए ‘सदस्यता लें’ बटन दबाएं, या फीड यूआरएल को अन्य डिजिटल ऑडियो फ़ाइल ऐप्स में पेस्ट करें।

Fake news, disinformation, misinformation, and social media manipulation — these are elements of perhaps the most significant global story of these times. And yet, this phenomenon remains underexplored. We do not fully understand what causes people to generate, share, and believe in fake propaganda. So in this episode, we discuss the anatomy of fake news with Pratik Sinha, editor and co-founder of AltNews — a fact-checking website that debunks misinformation on social and mainstream media.

Whatsapp पर शेयर होने वाली झूठी खबरों से तो निश्चित ही आप भी तंग होंगे| इन झूठी खबरों का फैलाव सिर्फ एक मार्केट या सरकार की विफलता का नतीजा नहीं है बल्कि एक सामाजिक कुरीति के रूप में उभरा है | तो इस एपिसोड में हमने पुलियाबाज़ी की “फेक न्यूज़” पर प्रतिक सिन्हा के साथ| प्रतिक ऑल्ट न्यूज़ नाम की फैक्ट-चेकिंग वेबसाइट के रचयिता है | इस वेबसाइट ने झूठी खबरों का पर्दाफ़ाश करने का बीड़ा उठाया है| तो प्रतीक से हमने चर्चा की इन विषयों पर:

  • Misinformation, disinformation, झूठी ख़बर - इन सब में क्या अंतर हैं?
  • पहले ख़बरों का स्त्रोत सिर्फ़ कुछ एक अख़बार थे। सनसनीख़ेज़ ख़बर की डिमांड तो तब भी उतनी ही रही होगी जितनी अब भी है। तो इंटर्नेट के पहले की झूठी ख़बर और आज के हालात में क्या मूलभूत फ़र्क़ हैं?

  • किस प्रकार की झूठी ख़बर ज़्यादा प्रचलित होती है और किस प्रकार की कम?

  • आयोजित कैसे होती है यह झूठी ख़बर?

  • क्या whatsapp/facebook/ट्विटर इत्यादि पर misinformation की कुछ विशेषताए हैं क्या? मसलन, क्या whastapp पर images के द्वारा फ़ेक न्यूज़ ज़्यादा फैलती है? या facebook में कुछ और ज़रिया है?

  • टीकाकरण से अक्सर तुलना होती है fact-checking की। सरकार का क्या रोल है इस झूठी ख़बर के ख़िलाफ़ टीकाकरण में?

  • Science मैगज़ीन में एक लेख था कि fact-checking शायद काफ़ी नहीं है इस चुनौती से लड़ने के लिए| फिर इसका हल क्या है?

  • आगे क्या चुनौतियाँ है फैक्ट-चेकर्स के लिए? क्या ‘deep fakes’ इत्यादि से भी लड़ेगी altnews?

Also, check:

Puliyabaazi is on these platforms: Twitter: https://twitter.com/puliyabaazi Facebook: https://www.facebook.com/puliyabaazi Instagram: https://www.instagram.com/puliyabaazi/

Subscribe & listen to the podcast on iTunes, Google Podcasts, Castbox, AudioBoom, YouTube or any other podcast app.

70 एपिसोडस