Artwork

Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
Player FM - पॉडकास्ट ऐप
Player FM ऐप के साथ ऑफ़लाइन जाएं!

Naye Tarah Se | Shashwat Upadhyay

2:37
 
साझा करें
 

Manage episode 394861934 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

नए तरह से लैस होकर आ गई है नई सदी | शाश्वत उपाध्याय

जो दिख नहीं रही मनिहारिन,

उसके चूड़ियों का बाज़ार

बेड़ियों के भेंट चढ़ गया है।

मोतियों की दुकान से

सीपियों ने रार ठान लिया है

नई तरह की लड़ाई लेकर आई है नई सदी।

टिकुली साटती-दोपहर काटती

सारी औरतें

शिव चर्चाओं में गूंथ दी गईं हैं।

शिव के गीतों में,

अब छपरा-सिवान के सज्जन का ज़िक्र भी होने लगा है

नई तरह की आस्था भी लेकर आ गई है नई सदी।

खेत, भूरे होकर अलसा गए हैं

हवा के सहारे गोते लगाते गेहूँ

डर कर चीख देते हैं सरेआम।

किसानी के नाम चढ़े चैत में खेत नहीं, समय काट रही बनिहारन।

'आग लागो- बढ़नी बहारो, हेतना घाम'

बोलने वाली गाँव भर की ठेकेदारन

नेपाल से आँख बनवा कर लौटी तो ज़रूर

लेकिन खेत में नहीं डाले पाँव उसने

मोतियाबिंद ने आंख का पानी जगा दिया।

कि नई बिमारी भी लेकर आ गई नई सदी।

चहक कर पेड़ के गोदी में झूल जाने वाले बच्चे,

समय से पहले बड़े हो गए ऐसा भी नहीं है

जीवन जीने को साधने के लिए सूरत से दमन तक बिछ गए हैं ज़रूर।

भय यही है

कि

रोटी-कपड़ा-मकान देने के लिए

शराब में खप कर अगर बचेंगे

तो अंत में धर्म के नाम पर चीख देंगे सरेआम

जैसे पके हुए गेहूँ हों।

और चीख तो एक जैसी होती है

क्या गेहूँ-क्या इंसान

भले ही नई तरह से लैस होकर आई है नई सदी,

नई तरह की चीख लेकर नहीं आ सकी।

  continue reading

383 एपिसोडस

Artwork
iconसाझा करें
 
Manage episode 394861934 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

नए तरह से लैस होकर आ गई है नई सदी | शाश्वत उपाध्याय

जो दिख नहीं रही मनिहारिन,

उसके चूड़ियों का बाज़ार

बेड़ियों के भेंट चढ़ गया है।

मोतियों की दुकान से

सीपियों ने रार ठान लिया है

नई तरह की लड़ाई लेकर आई है नई सदी।

टिकुली साटती-दोपहर काटती

सारी औरतें

शिव चर्चाओं में गूंथ दी गईं हैं।

शिव के गीतों में,

अब छपरा-सिवान के सज्जन का ज़िक्र भी होने लगा है

नई तरह की आस्था भी लेकर आ गई है नई सदी।

खेत, भूरे होकर अलसा गए हैं

हवा के सहारे गोते लगाते गेहूँ

डर कर चीख देते हैं सरेआम।

किसानी के नाम चढ़े चैत में खेत नहीं, समय काट रही बनिहारन।

'आग लागो- बढ़नी बहारो, हेतना घाम'

बोलने वाली गाँव भर की ठेकेदारन

नेपाल से आँख बनवा कर लौटी तो ज़रूर

लेकिन खेत में नहीं डाले पाँव उसने

मोतियाबिंद ने आंख का पानी जगा दिया।

कि नई बिमारी भी लेकर आ गई नई सदी।

चहक कर पेड़ के गोदी में झूल जाने वाले बच्चे,

समय से पहले बड़े हो गए ऐसा भी नहीं है

जीवन जीने को साधने के लिए सूरत से दमन तक बिछ गए हैं ज़रूर।

भय यही है

कि

रोटी-कपड़ा-मकान देने के लिए

शराब में खप कर अगर बचेंगे

तो अंत में धर्म के नाम पर चीख देंगे सरेआम

जैसे पके हुए गेहूँ हों।

और चीख तो एक जैसी होती है

क्या गेहूँ-क्या इंसान

भले ही नई तरह से लैस होकर आई है नई सदी,

नई तरह की चीख लेकर नहीं आ सकी।

  continue reading

383 एपिसोडस

Minden epizód

×
 
Loading …

प्लेयर एफएम में आपका स्वागत है!

प्लेयर एफएम वेब को स्कैन कर रहा है उच्च गुणवत्ता वाले पॉडकास्ट आप के आनंद लेंने के लिए अभी। यह सबसे अच्छा पॉडकास्ट एप्प है और यह Android, iPhone और वेब पर काम करता है। उपकरणों में सदस्यता को सिंक करने के लिए साइनअप करें।

 

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका