Artwork

Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal
Player FM - पॉडकास्ट ऐप
Player FM ऐप के साथ ऑफ़लाइन जाएं!

Achanak Nahi Gayi Ma | Vishwanath Prasad Tiwari

2:15
 
साझा करें
 

Manage episode 398448043 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

अचानक नहीं गई माँ | विश्वनाथ प्रसाद तिवारी

अचानक नहीं गई माँ

जैसे चला जाता है टोंटी का पानी

या तानाशाह का सिंहासन

थोड़ा-थोड़ा रोज गई वह

जैसे जाती है कलम से स्याही

जैसे घिसता है शब्द से अर्थ

सुकवा और षटमचिया से नापे थे उसने

समय के सत्तर वर्ष

जीवन को कुतरती धीरे-धीरे

गिलहरी-सी चढ़ती-उतरती

काल वृक्ष पर

गीली-सूखी लकड़ी-सी चूल्हे की

धुआँ देती सुलगती जलती

रात काटने के लिए

परियों के किस्से

सुनाती अँधेरे से लड़ने के लिए

संझा-पराती के गीत गाती

पृथ्वी और आकाश के पिंजरे में फड़फड़ाती

बीमार घड़ी-सी टिक्-टिक् चलती

अचानक नहीं गई माँ

थोड़ा-थोड़ा रोज गई

जैसे जाती है आँख की रोशनी

या अतीत की स्मृति ।

  continue reading

383 एपिसोडस

Artwork
iconसाझा करें
 
Manage episode 398448043 series 3463571
Nayi Dhara Radio द्वारा प्रदान की गई सामग्री. एपिसोड, ग्राफिक्स और पॉडकास्ट विवरण सहित सभी पॉडकास्ट सामग्री Nayi Dhara Radio या उनके पॉडकास्ट प्लेटफ़ॉर्म पार्टनर द्वारा सीधे अपलोड और प्रदान की जाती है। यदि आपको लगता है कि कोई आपकी अनुमति के बिना आपके कॉपीराइट किए गए कार्य का उपयोग कर रहा है, तो आप यहां बताई गई प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं https://hi.player.fm/legal

अचानक नहीं गई माँ | विश्वनाथ प्रसाद तिवारी

अचानक नहीं गई माँ

जैसे चला जाता है टोंटी का पानी

या तानाशाह का सिंहासन

थोड़ा-थोड़ा रोज गई वह

जैसे जाती है कलम से स्याही

जैसे घिसता है शब्द से अर्थ

सुकवा और षटमचिया से नापे थे उसने

समय के सत्तर वर्ष

जीवन को कुतरती धीरे-धीरे

गिलहरी-सी चढ़ती-उतरती

काल वृक्ष पर

गीली-सूखी लकड़ी-सी चूल्हे की

धुआँ देती सुलगती जलती

रात काटने के लिए

परियों के किस्से

सुनाती अँधेरे से लड़ने के लिए

संझा-पराती के गीत गाती

पृथ्वी और आकाश के पिंजरे में फड़फड़ाती

बीमार घड़ी-सी टिक्-टिक् चलती

अचानक नहीं गई माँ

थोड़ा-थोड़ा रोज गई

जैसे जाती है आँख की रोशनी

या अतीत की स्मृति ।

  continue reading

383 एपिसोडस

सभी एपिसोड

×
 
Loading …

प्लेयर एफएम में आपका स्वागत है!

प्लेयर एफएम वेब को स्कैन कर रहा है उच्च गुणवत्ता वाले पॉडकास्ट आप के आनंद लेंने के लिए अभी। यह सबसे अच्छा पॉडकास्ट एप्प है और यह Android, iPhone और वेब पर काम करता है। उपकरणों में सदस्यता को सिंक करने के लिए साइनअप करें।

 

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका