सत्य की यात्रा के चार चरण (अध्यात्म उपनिषद - दसवां प्रवचन )

1:41:47
 
साझा करें
 

Manage episode 300619338 series 2914377
Oshō - ओशो द्वारा - Player FM और हमारे समुदाय द्वारा खोजे गए - कॉपीराइट प्रकाशक द्वारा स्वामित्व में है, Player FM द्वारा नहीं, और ऑडियो सीधे उनके सर्वर से स्ट्रीम किया जाता है। Player FM में अपडेट ट्रैक करने के लिए ‘सदस्यता लें’ बटन दबाएं, या फीड यूआरएल को अन्य डिजिटल ऑडियो फ़ाइल ऐप्स में पेस्ट करें।

इत्थं वाक्यैस्तदर्थानुसंधानं श्रवणं भवेत।

युक्ता सभावितत्वा संधानं मननं तु तत्।। 33।।

ताभ्यां निर्विचिकित्सेऽर्थे चेतसः स्थापितस्य तत्।

एकतानत्वमेतद्धि निदिध्यासनमुच्यते।। 34।।

ध्यातृध्याने परित्यज्य क्रमाद्धयैयैकगोचरम्।

निवातदीपवच्चितं समाधिरभिधीयते।। 35।।

185 एपिसोडस