सौंधी खुशबू | Saundhi Khushboo

10:40
 
साझा करें
 

Manage episode 285591235 series 2426815
kumar ABHISHEK upadhyay and Kumar ABHISHEK upadhyay द्वारा - Player FM और हमारे समुदाय द्वारा खोजे गए - कॉपीराइट प्रकाशक द्वारा स्वामित्व में है, Player FM द्वारा नहीं, और ऑडियो सीधे उनके सर्वर से स्ट्रीम किया जाता है। Player FM में अपडेट ट्रैक करने के लिए ‘सदस्यता लें’ बटन दबाएं, या फीड यूआरएल को अन्य डिजिटल ऑडियो फ़ाइल ऐप्स में पेस्ट करें।

सौंधी खुशबू | Saundhi Khushboo | ये कहानी है संवेदना के छाव की , किसी के साथ को सहेजने की, भीनी भीनी नमी को महसूस करने की। एक अकेला पौधा हो या एक अकेला मनुष्य अपने जीवन के खालीपन को भरने के लिए उत्सुक होता है। एक खोज रहती है। खिलना और मुरझाना उस बात पर निर्भर करता है की आप कितना स्वयं से जुड़ते है और बिछड़ते है। किसी जोड़े में से एक का बिछड़ना कितना कष्टदायक होता है। ये बात रामायण में बताई गई है की सारस पक्षी के एक जोड़े में से एक को आखेटक के द्वारा मारा जाना वाल्मीकिजी ने जब यह देखा तो उन्होंने निषाद को श्राप दिया की जिस प्रणयरत इस जोड़े को तूने मारा है " तुझे कभी शांति नहीं मिलेगी "

--- This episode is sponsored by · Anchor: The easiest way to make a podcast. https://anchor.fm/app --- Send in a voice message: https://anchor.fm/kumar-abhishek/message Support this podcast: https://anchor.fm/kumar-abhishek/support

76 एपिसोडस