मेरी है ज़िन्दगी | Meri Hai Zindagi

4:51
 
साझा करें
 

Manage episode 278237951 series 2426815
kumar ABHISHEK upadhyay and Kumar ABHISHEK upadhyay द्वारा - Player FM और हमारे समुदाय द्वारा खोजे गए - कॉपीराइट प्रकाशक द्वारा स्वामित्व में है, Player FM द्वारा नहीं, और ऑडियो सीधे उनके सर्वर से स्ट्रीम किया जाता है। Player FM में अपडेट ट्रैक करने के लिए ‘सदस्यता लें’ बटन दबाएं, या फीड यूआरएल को अन्य डिजिटल ऑडियो फ़ाइल ऐप्स में पेस्ट करें।

मेरी है ज़िन्दगी | Meri Hai Zindagi A Beautiful Poem from Kamal Deora

इंसान का जीवन कभी धुप - कभी छाँव है , कभी सुख तो कभी दुःख इसमें यदि हम केवल सुख ही चाहे और दुःख का अस्वीकार करे तो ये सम्भव नहीं। आइये सुनते है ये सुंदर सी कविता जिसे लिखी है। कमल डेरोराजी ने। The life of a human being is sometimes a shade of joy, sometimes happiness and sometimes sorrow, if we want only happiness and if we reject grief then it is not possible. Let's hear this beautiful poem that has been written. Kamal Deroraji.

--- This episode is sponsored by · Anchor: The easiest way to make a podcast. https://anchor.fm/app --- Send in a voice message: https://anchor.fm/kumar-abhishek/message Support this podcast: https://anchor.fm/kumar-abhishek/support

76 एपिसोडस