2020 में इंडियन जुडिशरी के उतार-चढ़ाव

29:41
 
साझा करें
 

Manage episode 281148810 series 2593782
Ideabrew Studios and The Quint द्वारा - Player FM और हमारे समुदाय द्वारा खोजे गए - कॉपीराइट प्रकाशक द्वारा स्वामित्व में है, Player FM द्वारा नहीं, और ऑडियो सीधे उनके सर्वर से स्ट्रीम किया जाता है। Player FM में अपडेट ट्रैक करने के लिए ‘सदस्यता लें’ बटन दबाएं, या फीड यूआरएल को अन्य डिजिटल ऑडियो फ़ाइल ऐप्स में पेस्ट करें।
2020 में कोरोना वायरस के अलावा भी काफी कुछ ऐसा हुआ, जिसे आने वाले कई सालों तक याद रखा जाएगा. इंडियन जुडिशियरी में इस साल कई ऐसे चीजें हुईं, जिन्हें लेकर आगे जरूर चर्चा होगी. फिर चाहे वो प्रशांत भूषण के दो ट्वीट्स को लेकर कंटेंप्ट ऑफ कोर्ट वाला मामला हो या फिर ऐसे मामले जिन पर कोर्ट ने उस तरह से काम नहीं किया, जैसी उम्मीद थी. कई मामलों में हाईकोर्ट के फैसले सुप्रीम कोर्ट के फैसलों से बेहतर दिखे और दोनों के किसी भी केस को समझने के तरीकों में फर्क नजर आया. कई जरूरी मामलों पर देरी से सुनवाई हुई और कई गैरजरूरी मामलों को ज्यादा अहमियत दी गई.

कुल मिला कर ये साल इंडियन जुडिशियरी के लिए काफी चुनौतीभरा रहा. 2020 में हुए कुछ अहम और बड़े मामलों की रौशनी में आज भारत के कोर्ट्स की परफॉरमेंस पर बात करेंगे. मसलन CAA विरोध प्रदर्शन हो या कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाने से सम्बंधित याचिकाएं हों, प्रवासी मजदूरों के पलायन को लेकर याचिकाएं हो या नफरत फैलाने वाले टीवी चैनेल्स के खिलाफ कोई लीगल स्टैंड लेना हो. इन केसेस ने भारत की जुडिशियरी के तरीकों को समझने का मौका दिया है. अब ये तरीके सही हैं या ग़लत, इन्ही पर आज इस पॉडकास्ट में बात करेंगे.

रिपोर्ट और साउंड एडिटर: फबेहा सय्यद
असिस्टेंट एडिटर: मुकेश बौड़ाई
म्यूजिक: बिग बैंग फज

376 एपिसोडस