Episode 04 TimTim द्वारा राष्ट्र कवि मैथिलीशरण गुप्त की कविता "नर हो न निराश करो मन को"

2:19
 
साझा करें
 

Manage episode 312686342 series 3241584
Bhavna Pathak द्वारा - Player FM और हमारे समुदाय द्वारा खोजे गए - कॉपीराइट प्रकाशक द्वारा स्वामित्व में है, Player FM द्वारा नहीं, और ऑडियो सीधे उनके सर्वर से स्ट्रीम किया जाता है। Player FM में अपडेट ट्रैक करने के लिए ‘सदस्यता लें’ बटन दबाएं, या फीड यूआरएल को अन्य डिजिटल ऑडियो फ़ाइल ऐप्स में पेस्ट करें।
आज अंतरराष्ट्रीय कविता दिवस पर Timtim की एक नई प्रस्तुति, राष्ट्र कवि मैथलीशरण गुप्त की कविता "नर हो न निराश करो मन को"। यह कविता घनघोर निराशा में भी उम्मीद कि लौ जलाती है।

31 एपिसोडस