×
Tech सार्वजनिक
[search 0]
×
सबसे अच्छा Tech पॉडकास्ट हम पा सकते हैं (अपडेट किया गया दिसंबर 2019)
सबसे अच्छा Tech पॉडकास्ट हम पा सकते हैं
अपडेट किया गया दिसंबर 2019
Over the years, technology has advanced to become a vital part of people's everyday lives. People use technology to communicate with friends and family regardless of their location, get information from the stock market, check the latest news, and much more. Podcasts as a media have enabled people to follow the latest news and trends in technology, while commuting, working out, walking in the park, etc. What is more, they can be followed even without Internet connection, in any part of the day. The podcasts offered in this catalog discuss about important topics in technology. Some of them discuss about the operating systems, software and game development and development techniques and trends. Other podcasts discuss about tech startups, SEO, SMM and digital marketing. There are podcasts where game fans can get the latest news on DotA, LoL and other games. Also, some hosts invite leading names in technology to discuss about the impact of technology on society as well as about big ideas that could change the way society functions.
लाखों प्लेयर एफएम उपयोगकर्ताओं से जुड़े आज प्राप्त करने के लिए समाचार और जब भी आप चाहते हैं अंतर्दृष्टि, तब भी जब आप ऑफ़लाइन हों। पॉडकास्ट समजदार हुआ फ्री पॉडकास्ट एप्प के साथ जो समझोता करने से इंकार करता है। चलो चलाये!
अपने पसंदीदा शो को ऑनलाइन प्रबंधित करने के लिए दुनिया के सर्वश्रेष्ठ पॉडकास्ट एप्प से जुड़ें और उन्हें हमारे Android और iOS एप्प पर ऑफ़लाइन चलाएं। यह मुफ़्त और आसान है!
More
show episodes
 
P
Puliyabaazi Hindi Podcast
मासिक+
 
This Hindi Podcast brings to you in-depth conversations on politics, public policy, technology, philosophy and pretty much everything that is interesting. Presented by tech entrepreneur Saurabh Chandra and public policy researcher Pranay Kotasthane, the show features conversations with experts in a casual yet thoughtful manner.
 
Loading …
show series
 
The Islamic State of Iraq and Syria finally met its demise with the death of Abu Bakr al-Baghdadi on October 26th. So in this episode of Puliyabaazi we take a look at ISIS, its recruitment methods, its use of technology, and its bureaucracy. We also discuss cases in the Indian sub-continent that claimed links with the ISIS. Joining us for this ...…
 
Puliyabaazi is fifty episodes old now! To mark this occasion, we return to discussing a foundational text. In this episode, we discuss insights from Nobel Prize laureate Daniel Kahneman’s classic Thinking, Fast and Slow. The work in this book was instrumental in creating a new discipline of economics known as behavioral economics. The central t ...…
 
In episodes 11 and 12 we discussed contemporary China from a political and economic angle. So this episode is about China’s society. We discuss the lived experience of an Indian in smaller cities of China and try to understand the similarities and differences in the two societies. Joining us for this Puliyabaazi is Sunny Mewati, academic direct ...…
 
The future of mobility is autonomous. But it’s hard to imagine that future in Indian conditions where roads occupy spots between potholes, the traffic pattern is Brownian, and non-verbal communication is a lead indicator of vehicular movement. So in this episode, we speak about Indian challenges and opportunities in the autonomous vehicle space ...…
 
Fake news, disinformation, misinformation, and social media manipulation — these are elements of perhaps the most significant global story of these times. And yet, this phenomenon remains underexplored. We do not fully understand what causes people to generate, share, and believe in fake propaganda. So in this episode, we discuss the anatomy of ...…
 
The events surrounding Chandrayaan-2’s landing attempt captured India’s imagination earlier this month. This also gave us a reason to talk about Space on Puliyabaazi again. In our previous episode on space, we discussed the story of ISRO. In this episode, we explore the world of rocketry — the enabling technology for space exploration. Joining ...…
 
The National Registry of Citizens (NRC) has been in the national news recently. So in this episode, we take a step back to understand the causes and dynamics of insider-outsider tensions in North-East India. Joining us is author and journalist Samrat, who has co-edited a book with Preeti Gill on this topic, titled Insider-Outsider: Belonging an ...…
 
बलोचिस्तान आजकल भारत में एक बहुचर्चित विषय हो गया है | प्रधानमंत्री मोदी ने तीन साल पहले अपने स्वतंत्रता दिवस भाषण में इसका उल्लेख किया | इससे पहले पाकिस्तान ने भारत के एक नागरिक कुलभूषण जाधव को ईरान से कब्ज़े में ले लिया और आरोप लगाया कि भारत की ख़ुफ़िया एजेंसी R&AW बलोचिस्तान में आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा दे रही है | तो इस बार की पुलियाबाज़ी ब ...…
 
बौद्धिक सम्पदा: पेटेंट, कॉपीराइट, और ट्रेड सीक्रेट की कहानी कोका कोला के ट्रेड सीक्रेस्ट फॉर्मूले की कहानियाँ तो सभी ने सुनी है | पर यह कॉपीराइट, पेटेंट, और ट्रेड सीक्रेट आख़िर है क्या? बौद्धिक सम्पदा (Intellectual Property) के अधिकार के यह सभी साधन एक अर्थव्यवस्था के लिए क्या फ़ायदे-नुक़सान लाते हैं? इसी विषय पर सुनिए अगली पुलियाबाज़ी मिहिर महाजन ...…
 
The debate on governmental reform often takes one of these three turns: privatization, nationalization, or devolution. But none of the three narratives provides a comprehensive framework for reforming government organisations. For example, privatization might not always be possible nor advisable. Similarly, devolution of policy and regulatory r ...…
 
The semiconductor microchip is perhaps the greatest modern-day innovation breakthrough. It made radios, TVs, computers, and phones happen. Today, a processor microchip has billions of components and is created using a complex supply chain involving thousands of specialised companies cutting across the globe. This trade network with nodes spread ...…
 
The tussle between the Reserve Bank of India and the Union government has only intensified over the last two years. Governor Urjit Patel resigned in December 2018 and Deputy Governor Viral Acharya resigned earlier this week. Though both of them cited personal reasons there are speculations that the stand-off related to excess funds on RBI’s bal ...…
 
भारतीय राष्ट्रवाद की ख़ासियत यह है कि वह शुरुआत से ही उदारवादी रहा है | लेकिन आज के ध्रुवीकृत वातावरण में इन दोनों शब्दों को विरोधाभासी समझा जाने लगा है | कुछ राष्ट्र के स्वनियुक्त रक्षक लिबरल विचारधारा को ज़हरीला मानते है तो खुद को लिबरल मानने वाले राष्ट्रवाद नाम से ही कतरा जाते है | तो हमने पुलियाबाज़ी की तक्षशिला इंस्टीटूशन के डायरेक्टर नितिन प ...…
 
क्रिकेट एक ऐसा विषय है जिसमे हम सभी ज्ञानी है | लेकिन क्या आपको पता था कि डेटा साइंस के प्रयोग से क्रिकेट के स्तर में निरंतर सुधार आ रहा है ? डेटा एनालिसिस टीमों का एक अभिन्न अंग बन चुका है यहाँ तक कि इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने तो अब एक चीफ डेटा अफसर भी नियुक्त किया है | तो इस एपिसोड में हमने क्रिकेट के इस नए पहलू पर पुलियाबाज़ी की कार्तिक शशिधर ...…
 
लिबरलिस्म अर्थात स्वातंत्रवाद आज एक विस्फोटक शब्द हो गया है | लेकिन ये लिबरल होने का आख़िर मतलब क्या होता है? इस प्रश्न का उत्तर खोजते हुए हम फ्रेडरिक हायेक (1899-1992) के लेख पढ़ने लगे | हायेक लिबरल विचारधारा की एक महत्वपूर्ण हस्ती है | The Use of Knowledge in Society, The Road to Serfdom और Law, Legislation, and Liberty हायेक के कुछ धमाकेदार ले ...…
 
कुछ ही महीनों पहले चीन के एक वैज्ञानिक ने जीनोम-एडिटिंग का उपयोग कर जुड़वां बच्चियाँ बनाकर पूरे जगत को हिला दिया | जीन एडिटिंग ने ‘कुदरत बनाम परवरिश’ विवाद को एक नया आयाम दे दिया है | तो इस बार पुलियाबाज़ी पर लेकर आए हैं हम एक वैज्ञानिक को जीन्स, जीन एडिटिंग बारे में विस्तार से चर्चा करने के लिए | हमारी गेस्ट है शांभवी नाईक, जो एक कैंसर बायोलॉजि ...…
 
जासूसी एक ऐसा पेशा है जिसके बारे में न सिर्फ हम कम जानते है बल्कि अक़्सर सरासर ग़लत भी जानते है | फिल्मों में इस पेशे को इस तरह दर्शाया जाता है कि इंटेलिजेंस अफ़सर कई दिव्य शक्तियों के मालिक लगने लगते है | तो इस बार की पुलियाबाज़ी एक असली इंटेलिजेंस अफ़सर के साथ इस पेशे के बारे में | हमने बात की भारत की ख़ुफ़िया एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (R&AW) ...…
 
2019 मतदान क़रीब है और राजनीति की हवा किस दिशा में बह रही है, इस पर हर भारतीय का अपना एक मत तो ज़रूर है| अक़्सर लोग कहते हैं कि भारत में राजनीति विचारधाराओं से परे है ; वह केवल नेताओं के व्यक्तित्व, भ्रष्टाचार, या फ़िर जातिगत समीकरण पर केंद्रित है | पर इन आम धारणाओं में कितना सच है, इसी विषय पर इस हफ़्ते की पुलियाबाज़ी राहुल वर्मा (फेलो, राहुल सेंटर ...…
 
इस बार की पुलियाबाज़ी भारत के एकमात्र ग्रामीण, नारीवादी न्यूज़ चैनल - ख़बर लहरिया - के साथ | २००२ में स्थापित हुआ यह नेटवर्क अपनी बेबाक रिपोर्टिंग के लिए मशहूर है | तो हमने पुलियाबाज़ी की दिशा मलिक (मैनेजिंग डायरेक्टर) और कविता देवी (डिजिटल हेड) के साथ | पहले हमने बात की खबर लहरिया की सफलताएँ और चुनौतियाँ के बारे में | फ़िर हमने समझने की कोशिश की उत ...…
 
भारत में तक़रीबन 90 बैंक है पर 10000 ग़ैर-बैंकिंग वित्तीय कम्पनियाँ (NBFC) हैं जबकि दोनों संस्थाओं का एक ही रोल है - किफ़ायती क़र्ज़ उपलब्ध करा पाना | कोबरापोस्ट वेबसाइट ने इनमें से एक - DHFL - पर जनवरी में आरोप लगाया था कि इस कम्पनी ने 31 हजार करोड़ रुपए का घोटाला किया है! इसे ‘भारत के इतिहास का सबसे बड़ा बैंकिंग स्कैम’ करार दिया गया था।भारत में ह ...…
 
2019 के लोकसभा चुनाव नज़दीक आ रहे है | अगले कुछ महीनों में हर नुक्कड़-गली में “कौन बनेगा प्रधानमंत्री” इसी विषय पर वाद-विवाद होगा | तो पुलियाबाज़ी में हमने इस प्रश्न से हटकर मतदान प्रक्रिया को समझने का प्रयास किया | इस पुलियाबाज़ी में हमारे गेस्ट है श्री अलोक शुक्ला जो २००९ और २०१४ के बीच भारत के डिप्टी इलेक्शन कमिश्नर रह चुके हैं | उनकी नयी किताब ...…
 
26 नवंबर 2008, मुंबई की दर्दनाक तस्वीरें आज भी दिल दहला देती हैं | इस हमले को अंजाम दिया था पाकिस्तान सेना के पसंदीदा आतंकवादी गुट - लश्कर-ए-तैयबा ने | इस हादसे के 11 साल बाद भी, हम कम ही जानते है कि यह संगठन शुरू कैसे हुआ, किस मक़सद से हुआ, और इसके हथकंडे क्या है | तो हमने की पुलियाबाज़ी प्रॉफ़ेसर क्रिस्टीन फेयर से, जिन्होंने हाल ही में इस संगठन ...…
 
पूरे भारत ने अपना सत्तरवाँ गणतंत्र दिवस पिछले हफ़्ते मनाया और अंबेडकर के योगदान को फिर एक बार याद किया | पर अंबेडकर साहब जैसे बुद्धिजीवी को सम्मान देने का शायद सबसे प्रभावशाली तरीका है उनके विचारों को समझना | अब उनको पुलियाबाज़ी में ला पाना तो संभव नहीं है इसलिए इस बार हमने प्रयत्न किया उनके कुछ लेख पढ़ने का और उनके तर्क को आपके सामने रखने का | इस ...…
 
गणतंत्र दिवस के अवसर पर हम भीमराव अम्बेडकर के योगदान को अक़्सर सलामी देते हैं | पर अम्बेडकर साहब जैसे बुद्धिजीवी को सम्मान देने का शायद सबसे प्रभावशाली तरीका है उनके विचारों को समझना| अब उनको पुलियाबाज़ी में ला पाना तो संभव नहीं है इसलिए इस बार हमने प्रयत्न किया उनके कुछ लेख पढ़ने का और उनके तर्क को आपके सामने रखने का | इस दो भाग स्पेशल में हमने व ...…
 
विश्व व्यवस्था के घटनाक्रम में हाल ही तीव्रता से बदलाव हुए हैं। अमरीका और चीन के बीच में 1971 से शुरू हुआ तालमेल का सिलसिला आज एक शीत युद्ध में तब्दील हो गया है। बदलते समीकरणों के चलते अगले २५ सालों में भारत को क्या कदम उठाने चाहिए, इस विषय पर है हमारी इस हफ़्ते की पुलियाबाज़ी | इस पुलियाबाज़ी में सौरभ और प्रणय ने इन सवालों पर चर्चा की: १. “विश्व- ...…
 
अंतरिक्ष खोजने की चाह हज़ारों साल पुरानी है। लेकिन अंतरिक्ष तक पहुंचने की क्षमता केवल सत्तर साल पुरानी है। और भारत उन चुनिंदा देशों में से है जिसने इस खोज में कई झंडे गाढ़े है। तो इस बार पुलियाबाज़ी में हमने भारत के अंतरिक्ष प्रोग्राम पर खुलकर चर्चा की पवन श्रीनाथ से, जो इस विषय पर काफ़ी सालों से शोधकार्य कर रहे हैं। पवन तक्षशिला संस्थान में फेलो ह ...…
 
‘मेरे पिया गए रंगून, वहाँ से किया है टेलीफून” याद आया न यह गाना? लेकिन आपने सोचा कि इनके पिया आख़िर क्यों और कैसे रंगून पहुंचे? आम धारणा यह है कि भारत में अक़्सर लोग जिस गाँव में जन्म लेते थे, उसी में पूरा जीवन व्यतीत कर देते थे | लेकिन हमारे इस एपिसोड के सह-पुलियाबाज़ चिन्मय तुम्बे बताते है कि भारत का प्रवास याने कि migration के साथ अटूट रिश्ता ह ...…
 
जलवायु परिवर्तन (climate change) के भीषण प्रभावों पर आंकड़े तो स्पष्ट हैं लेकिन फिर भी हम और हमारी सरकारें इस वैश्विक समस्या को गंभीरता से नहीं ले रहे | तो इस पुलियाबाज़ी में हमने सीधे बात की ऐसे क्लाइमेट सेनानी से जो क्लाइमेट चेंज के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए धरती के दोनों बर्फीले ध्रुवों तक ही पहुँच गए | सुनिए हमारी पुलियाबाज़ी राजा कार्ति ...…
 
Real estate से लेकर business advice तक, कौटिल्य नीति को बिना सिर पैर उपयोग करने की होड़ लगी है आजकल | अर्थशास्त्र को ignore करना तो ग़लत है ही, पर उसे ग़लत समझना और भी हानिकारक है | तो कौटिल्य अर्थशास्त्र से जुड़ी कई ग़लतफ़हमियों को ठीक करने के लिए हमने की पुलियाबाज़ी कजरी कमल से जो कि ‘अर्थशास्त्र और Indian Strategic Culture’ पर PhD कर रही हैं हैदराब ...…
 
Real estate से लेकर business advice तक, कौटिल्य नीति को बिना सिर पैर उपयोग करने की होड़ लगी है आजकल | अर्थशास्त्र को ignore करना तो ग़लत है ही, पर उसे ग़लत समझना और भी हानिकारक है | तो कौटिल्य अर्थशास्त्र से जुड़ी कई ग़लतफ़हमियों को ठीक करने के लिए हमने की पुलियाबाज़ी कजरी कमल से जो कि ‘अर्थशास्त्र और Indian Strategic Culture’ पर PhD कर रही हैं हैदराब ...…
 
मुंशी प्रेमचंद की कहानी ‘नमक का दरोगा’ एक ईमानदार टैक्स इंस्पेक्टर के सामने आने वाली चुनौतियों की अमर दास्ताँ है | तो इस बार पुलियाबाज़ी में हमने समझना चाहा कि एक युवा सरकारी अफ़सर की ज़िन्दगी आख़िर कैसी होती है ? क्यों आज भी कुछ इंजीनियर और डॉक्टर सरकारी अफ़सर बनना पसंद करते है ? यह सब बताया हमें सलिल बिजूर ने, जो आयकर विभाग के इन्वेस्टीगेशन विंग म ...…
 
इस साल के शुरू होते ही अमरीकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने एक ट्वीट में उत्तर कोरिया को चेताया था कि अमरीका के परमाणु हथियार उत्तर कोरिया के मुक़ाबले कई ज़्यादा प्रभावशाली है | इस एक ट्वीट से ही सारी दुनिया काँप गयी थी | तो इस पुलियाबाज़ी में हमने परमाणु हथियार और उनकी राजनीति पर ग़ौर किया लेफ्टिनेंट जनरल प्रकाश मेनन के साथ | जनरल मेनन ४० साल सैन्य विषयों ...…
 
भारतीय लोकतंत्र में एक सांसद का रोल क्या है? हमारी पार्लियामेंट और राज्य विधान सभाओं को और प्रभावशाली कैसे बनाया जाए? हमें सांसदों के बढ़ते वेतनभत्ते से कितना चिंतित होना चाहिए? इन सब सवालों के दिलचस्प जवाब सुनिए संसदीय मामलों के विशेषज्ञ चक्षु रॉय के साथ चली हमारी पुलियाबाज़ी में। चक्षु PRS Legislative Research संस्था में विधायकी और नागरिक रिश्त ...…
 
आर्थिक जगत में मुद्रा युद्ध की हवा चल रही है | टर्की और अमरीका के बीच शुरू हुई यह आंधी भारत तक पहुँची कैसे? भारतीय सरकार और रिज़र्व बैंक रुपये में आयी गिरावट से उभरने के लिए कितने सक्षम है ? जानिए हमारी नारायण रामचंद्रन के साथ चली इस पुलियाबाज़ी में | नारायण एक इन्वेस्टर, लेखक, और तक्षशिला इंस्टीटूशन में सीनियर फेलो हैं | इससे पहले नारायण मॉर्गन ...…
 
नवजोत सिंह सिद्धू की झप्पी ने बड़ा बवाल उठा दिया भारत में | तो इस बार की पुलियाबाज़ी पाकिस्तान के मिलिट्री-जिहादी कॉम्प्लेक्स पर | ऐसा क्यों कि भारत-पाकिस्तान के रिश्ते सुधारने की कोई कोशिश के शुरू होते ही आतंकवादी हमले उस प्रक्रिया को विफल कर देते हैं? हमारा दावा है कि इस प्रकरण को समझने के लिए हमें जानना होगा कि पाकिस्तान में एक नहीं दो हुकूमते ...…
 
पुलियाबाज़ी के इस Independence Day Special अंक में प्रस्तुत है हमारे दृष्टिकोण से आज़ादी का लेखा-जोखा | कौनसी चुनौतियों को हमने हराया है और कौन सी मुश्किलों से हम आज भी जूझ रहे है, इन प्रश्नों पर सुनिए एक चर्चा | अगर आपको यह शो पसंद आया तो ऐसे अन्य शो सुनने के लिए IVM Podcast App डाउनलोड कीजिये एंड्राइड: https://goo.gl/tGYdU1 और iOS: https://goo. ...…
 
भारत में हर 1668 लोगों के लिए सिर्फ एक डॉक्टर है । इस अभाव के बावजूद मेडिकल कॉलेजों में सीटें इस साल घटा देने का कारण क्या है? राज्य और केंद्र सरकार क्या कर सकती हैं अच्छे डॉक्टरों की संख्या में इज़ाफ़ा करने के लिए, जानिए इस एपिसोड में। इस विषय पर हमारे सह-पुलियाबाज़ है संबित दाश(https://twitter.com/sambit_dash?lang=en) जो मेलाका मणिपाल मेडिकल कॉल ...…
 
हमारे न्यायतंत्र की ढिलाई से शायद हर इंसान वाक़िफ़ है. तो पुलियाबाज़ी के इस अंक में हमने गोता लगाया इस ढिलाई के कारणों को समझने के लिए, सूर्य प्रकाश के साथ. सूर्य प्रकाश, दक्ष नामक संस्था में फ़ेलो और प्रोग्राम डिरेक्टर हैं. दक्ष संस्था पिछले कई सालों से, न्यायतंत्र की दक्षता बढ़ाने पर शोधकार्य कर रही है. उनकी State of The Indian Judiciary(http ...…
 
Property Rights का भारत में एक पेचीदा इतिहास है | यह एक ऐसा अधिकार है जिसके बिना बाक़ी सारे संवैधानिक अधिकार बेअसर हो जाते है | इसके बावजूद हमने बार-बार प्रॉपर्टी पर अधिकार को बलि पर चढ़ाया है, जिसका खामियाज़ा हम आज तक भुगत रहे है | तो इस बार की पुलियाबाज़ी, प्रॉपर्टी के अधिकार पर | इस विषय को सुलझाने के लिए हमने बात की श्रुति राजगोपालन से, जो स्ट ...…
 
कहने के लिए तो चीन हमारा पडोसी देश है पर वास्तव में हम चीन के बारे में बहुत कम जानते है | इस जानकारी के अभाव के कारण हम लोग या तो हम चीन की तरक्की से मंत्रमुग्ध हो जाते है या फिर उसे एक जानी दुश्मन का दर्जा दे देते है | यह दोनों दृष्टिकोण हमें चीन की असलियत से और दूर ले जाते है | तो चीन को कुछ गहराई से समझने के लिए हमने बात की मनोज केवलरमानी से ...…
 
कहने के लिए तो चीन हमारा पडोसी देश है पर वास्तव में हम चीन के बारे में बहुत कम जानते है | इस जानकारी के अभाव के कारण लोग या तो चीन की तरक्की से मंत्रमुग्ध हो जाते है या फिर उसे एक जानी दुश्मन का दर्जा दे देते है | यह दोनों दृष्टिकोण हमें चीन की असलियत से और दूर ले जाते है | तो चीन को कुछ गहराई से समझने के लिए हमने बात की मनोज केवलरमानी से, जो त ...…
 
भारत की आधी जनसंख्या २७ साल से कम उम्र की है | इसीलिए यह जानना ज़रूरी है कि इस वर्ग के लोगों की आशायें, चिंतायें, और आकांक्षायें क्या हैं | तो पुलियाबाज़ी के इस एपिसोड में सौरभ और प्रणय ने बात की पत्रकार और लेखक स्निग्धा पूनम से - जिनकी नयी किताब “Dreamers: How Young Indians are Changing the World"(https://www.amazon.in/Dreamers-Young-Indians-Cha ...…
 
क्या एक R&AW अफसर की जिंदगी "टाइगर" के सलमान जैसी होती है? तालिबान की बर्बरतापूर्ण सरकार को अफ़ग़ानिस्तान से हटाने में भारत का क्या योगदान था? पाकिस्तान तालिबान को किस तरह समर्थन देता है? पुलियाबाज़ी के इस अंक में इन सब सवालों का जवाब जानिये श्री आनंद आरणी से -- जिन्होंने भारत की इंटेलिजेंस एजेंसी R&AW के लिए अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान मामलों पर तक़र ...…
 
राहत इंदौरी के शब्दों में – ‘सभी का ख़ून है शामिल यहाँ की मिट्टी में, किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है’| पिछले ७-८ सालों में आयी जेनेटिक क्रांति राहत इंदौरी के इस कथन का प्रमाण दे रही है | और इसलिए हमने पुलियाबाज़ी के इस अंक में डेविड राइख की किताब ‘Who We Are and How We Got Here' (https://www.amazon.in/Who-Are-How-Got-Here/dp/110187032X?tag=ma ...…
 
जसपाल भट्टी के फ्लॉप शो का वह एपिसोड तो याद होगा आपको जिसमें एक PhD student और उसके गाइड की जद्दोजहद को दर्शाया गया है | था तो वह एक व्यंग्य पर उसमें हमारी शिक्षा प्रणाली पर की गयी आलोचना सटीक है | तो पुलियाबाज़ी के इस अंक में हमने बात की वरुण अग्रवाल से, जिन्होंने उनकी नयी किताब “Leading Science and Technology: India Next?” में भारत के रिसर्च इ ...…
 
ऐसा क्या है बिटकॉइन में कि इस व्यवस्था ने सब सरकारों को चौकन्ना रहने पर मजबूर कर दिया है ? जानिये पुलियाबाज़ी के इस अंक में नीलेश त्रिवेदी (@nileshtrivedi) से, जो इंडियम नामक ब्लॉकचेन डेवलपर कम्युनिटी से जुडे हुए है | अगर आपको यह शो पसंद आया तो ऐसे अन्य शो सुनने के लिए IVM Podcast App डाउनलोड कीजिये एंड्राइड: https://goo.gl/tGYdU1 और iOS: https: ...…
 
भारत में किफ़ायती क्रेडिट का आख़िर इतना अभाव क्यों है? हर ‘मदर इंडिया’ जैसी कहानी में एक सुखीलाला को क्यों होता है? जानिये इस एपिसोड में प्रिया शर्मा से, जो क्रेडिट पर आधारित एक स्टार्ट-अप की सीएफओ है | अगर आपको यह शो पसंद आया तो ऐसे अन्य शो सुनने के लिए IVM Podcast App डाउनलोड कीजिये एंड्राइड: https://goo.gl/tGYdU1 और iOS: https://goo.gl/sZSTU ...…
 
७० साल बाद भी कश्मीर का मुद्दा सुलझता क्यों नहीं? सुनिए इस पेचीदा मामले पर एक बेबाक चर्चा हमारे नये एपिसोड में | * After seven decades, the Kashmir problem festers on. Pranay and Saurabh carry out a close analysis of the problem. You can listen to this show and other awesome shows on the IVM Podcast App on Android: https://goo.gl/tGYdU1 or iOS: ...…
 
बजट पर इतना बावलापन क्यों? अगर आप बजट बनाते तो क्या नया करते? सुनिये कुछ विचार पुलियाबाज़ी के इस एपिसोड में। * What is there left to say about the budget? Plenty, as you will find out when you hear Pranay Kotasthane and Saurabh Chandra go at it in episode 3 of PuliyaBaazi You can listen to this show and other awesome shows on the IVM Podcast App ...…
 
What does it mean to be a Republic? Pranay Kotasthane and Saurabh Chandra discuss the nature of our constitutional republic in episode 2 of PuliyaBaazi. You can listen to this show and other awesome shows on the IVM Podcast App on Android: https://goo.gl/tGYdU1 or iOS: https://goo.gl/sZSTU5 You can check out our website at http://www.ivmpodcast ...…
 
Google login Twitter login Classic login