×
Sangya Tandon सार्वजनिक
[search 0]
×
सबसे अच्छा Sangya Tandon पॉडकास्ट हम पा सकते हैं (अपडेट किया गया दिसंबर 2019)
सबसे अच्छा Sangya Tandon पॉडकास्ट हम पा सकते हैं
अपडेट किया गया दिसंबर 2019
लाखों प्लेयर एफएम उपयोगकर्ताओं से जुड़े आज प्राप्त करने के लिए समाचार और जब भी आप चाहते हैं अंतर्दृष्टि, तब भी जब आप ऑफ़लाइन हों। पॉडकास्ट समजदार हुआ फ्री पॉडकास्ट एप्प के साथ जो समझोता करने से इंकार करता है। चलो चलाये!
अपने पसंदीदा शो को ऑनलाइन प्रबंधित करने के लिए दुनिया के सर्वश्रेष्ठ पॉडकास्ट एप्प से जुड़ें और उन्हें हमारे Android और iOS एप्प पर ऑफ़लाइन चलाएं। यह मुफ़्त और आसान है!
More
show episodes
 
सिंहासन बत्तीसी (संस्कृत:सिंहासन द्वात्रिंशिका, विक्रमचरित) एक लोककथा संग्रह है। प्रजा से प्रेम करने वाले,न्याय प्रिय, जननायक, प्रयोगवादी एवं दूरदर्शी महाराजा विक्रमादित्य भारतीय लोककथाओं के एक बहुत ही चर्चित पात्र रहे हैं। उनके इन अद्भुत गुणों का बखान करती अनेक कथाएं हम बचपन से ही पढ़ते आए हैं। सिंहासन बत्तीसी भी ऐसी ही ३२ कथाओं का संग्रह है जिसमें ३२ पुतलियाँ विक्रमादित्य के विभिन्न गुणों का कहानी के रूप में वर्णन करती हैं।
 
Loading …
show series
 
रानी रुपवती बत्तीसवीं पुतली रानी रुपवती ने राजा भोज को सिंहासन पर बैठने की कोई रुचि नहीं दिखाते देखा तो उसे अचरज हुआ। उसने जानना चाहा कि राजा भोज में आज पहले वाली व्यग्रता क्यों नहीं है। राजा भोज ने कहा कि राजा विक्रमादित्य के देवताओं वाले गुणों की कथाएँ सुनकर उन्हें ऐसा लगा कि इतनी विशेषताएँ एक मनुष्य में असम्भव हैं और मानते हैं कि उनमें बहुत ...…
 
कौशल्या इकत्तीसवीं पुतली जिसका नाम कौशल्या था, ने अपनी कथा इस प्रकार कही- राजा विक्रमादित्य वृद्ध हो गए थे तथा अपने योगबल से उन्होंने यह भी जान लिया कि उनका अन्त अब काफी निकट है। वे राज-काज और धर्म कार्य दोनों में अपने को लगाए रखते थे। उन्होंने वन में भी साधना के लिए एक आवास बना रखा था। एक दिन उसी आवास में एक रात उन्हें अलौकिक प्रकाश कहीं दूर स ...…
 
जयलक्ष्मी तीसवीं पुतली जयलक्ष्मी ने जो कथा कही वह इस प्रकार है- राजा विक्रमादित्य जितने बड़े राजा थे उतने ही बड़े तपस्वी। उन्होंने अपने तप से जान लिया कि वे अब अधिक से अधिक छ: महीने जी सकते हैं। अपनी मृत्यु को आसन्न समझकर उन्होंने वन में एक कुटिया बनवा ली तथा राज-काज से बचा हुआ समय साधना में बिताने लगे। एक दिन राजमहल से कुटिया की तरफ आ रहे थे कि ...…
 
मानवती उन्तीसवीं पुतली मानवती ने इस प्रकार कथा सुनाई- राजा विक्रमादित्य वेश बदलकर रात में घूमा करते थे। ऐसे ही एक दिन घूमते-घूमते नदी के किनारे पहुँच गए। चाँदनी रात में नदी का जल चमकता हुआ बड़ा ही प्यारा दृश्य प्रस्तुत कर रहा था। विक्रम चुपचाप नदी तट पर खड़े थे तभी उनके कानों में "बचाओ-बचाओ" की तेज आवाज पड़ी। वे आवाज की दिशा में दौड़े तो उन्हें नदी ...…
 
वैदेही अट्ठाइसवीं पुतली का नाम वैदेही था और उसने अपनी कथा इस प्रकार कही- एक बार राजा विक्रमादित्य अपने शयन कक्ष में गहरी निद्रा में लीन थे। उन्होंने एक सपना देखा। एक स्वर्ण महल है जिसमें रत्न, माणिक इत्यादि जड़े हैं। महल में बड़े-बड़े कमरे हैं जिनमें सजावट की अलौकिक चीज़े हैं। महल के चारों ओर उद्यान हैं और उद्यान में हज़ारों तरह के सुन्दर-सुन्दर फूल ...…
 
मलयवती मलयवती नाम की सताइसवीं पुतली ने जो कथा सुनाई वह इस प्रकार है- विक्रमादित्य बड़े यशस्वी और प्रतापी राजा था और राज-काज चलाने में उनका कोई मानी था। वीरता और विद्वता का अद्भुत संगम थे। उनके शस्र ज्ञान और शास्र ज्ञान की कोई सीमा नहीं थी। वे राज-काज से बचा समय अकसर शास्रों के अध्ययन में लगाते थे और इसी ध्येय से उन्होंने राजमहल के एक हिस्से में ...…
 
मृगनयनी मृगनयनी नामक छब्बीसवीं पुतली ने जो कथा सुनाई वह इस प्रकार है- राजा विक्रमादित्य न सिर्फ अपना राजकाज पूरे मनोयोग से चलाते थे, बल्कि त्याग, दानवीरता, दया, वीरता इत्यादि अनेक श्रेष्ठ गुणों के धनी थे। वे किसी तपस्वी की भाँति अन्न-जल का त्याग कर लम्बे समय तक तपस्या में लीन रहे सकते थे। ऐसा कठोर तप कर सकते थे कि इन्द्रासन डोल जाए। एक बार उनके ...…
 
त्रिनेत्री त्रिनेत्री नामक पच्चीसवीं पुतली की कथा इस प्रकार है- राजा विक्रमादित्य अपनी प्रजा के सुख दुख का पता लगाने के लिए कभी-कभी वेश बदलकर घूमा करते थे तथा खुद सारी समस्या का पता लगाकर निदान करते थे। उनके राज्य में एक दरिद्र ब्राह्मण और भाट रहते थे। वे दोनों अपना कष्ट अपने तक ही सीमित रखते हुए जीवन-यापन कर रहे थे तथा कभी किसी के प्रति कोई शि ...…
 
करुणावती चौबीसवीं पुतली करुणावती ने जो कथा कही वह इस प्रकार है- राजा विक्रमादित्य का सारा समय ही अपनी प्रजा के दुखों का निवारण करने में बीतता था। प्रजा की किसी भी समस्या को वे अनदेखा नहीं करते थे। सारी समस्याओं की जानकारी उन्हें रहे, इसलिए वे भेष बदलकर रात में पूरे राज्य में, आज किसी हिस्से में, कल किसी और में घूमा करते थे। उनकी इस आदत का पता च ...…
 
धर्मवती तेइसवीं पुतली जिसका नाम धर्मवती था, ने इस प्रकार कथा कही- एक बार राजा विक्रमादित्य दरबार में बैठे थे और दरबारियों से बातचीत कर रहे थे। बातचीत के क्रम में दरबारियों में इस बात पर बहस छिड़ गई कि मनुष्य जन्म से बड़ा होता है या कर्म से। बहस का अन्त नहीं हो रहा था, क्योंकि दरबारियों के दो गुट हो चुके थे। एक कहता था कि मनुष्य जन्म से बड़ा होता ह ...…
 
अनुरोधवती अनुरोधवती नामक बाइसवीं पुतली ने जो कथा सुनाई वह इस प्रकार है- राजा विक्रमादित्य अद्भुत गुणग्राही थे। वे सच्चे कलाकारों का बहुत अधिक सम्मान करते थे तथा स्पष्टवादिता पसंद करते थे। उनके दरबार में योग्यता का सम्मान किया जाता था। चापलूसी जैसे दुर्गुण की उनके यहाँ कोई कद्र नहीं थी। यही सुनकर एक दिन एक युवक उनसे मिलने उनके द्वार तक आ पहुँचा। ...…
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon # Singhasan Batteesi : dasveen Putli Prabhavati #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: दसवीं पुतली प्रभावतीद्वारा sangya tandon
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon # Singhasan Batteesi :Beesveen Putli Gyanvati #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी:बीसवीं पुतली ज्ञानवतीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon # Singhasan Batteesi :सिंहासन बत्तीसी: दसवीं पुतली प्रभावती Singhasan Batteesi : dasveen Putli Prabhavati #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी : उन्नीसवीं पुतली रूपरेखा…
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon # Singhasan Batteesi : Attharahveen Putli Taramati #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: अट्ठारहवीं पुतली तारामतीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon # Singhasan Batteesi :Satrahveen Putli Vidyavati #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी:सत्रहवीं पुतली विद्यावतीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon # Singhasan Batteesi : Solahveen Putli Satyavati #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी:सोलहवीं पुतली सत्यवतीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon # Singhasan Batteesi : Pandrahveen Putli Sunderbati #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: पंद्रहवीं पुतली सुन्दरबतीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon # Singhasan Batteesi : Chaudhaveen Putli Sunyana #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: चौदहवीं पुतली सुनयनाद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon #Singhasan Batteesi : Terahveen Putli Kirtimati #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: तेरहवीं पुतली कीर्तिमतीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon #Singhasan Batteesi : Barahveen Putli Padmavati #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: बारहवीं पुतली पद्मावतीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon # Singhasan Batteesi : Gyarhveen Putli Trilochani #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: ग्यारहवीं पुतली त्रिलोचनीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon # Singhasan Batteesi : dasveen Putli Prabhavati #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: दसवीं पुतली प्रभावतीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon #Singhasan Batteesi : Naveen Putli Madhumati #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: नवीं पुतली मधुमतीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon #Singhasan Batteesi : Athveen Putli Pushpvati #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: आठवीं पुतली पुष्पवतीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon # Singhasan Batteesi : Satveen Putli Kaumudi #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: सातवीं पुतली कौमुदीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon # Singhasan Batteesi : Chathi Putli Ravibhama#सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: छठी पुतली रविभामाद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon #Singhasan Batteesi : Phanchvi Putli Leelavati #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: पाँचवी पुतली लीलावतीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon # Chauthi Putli Kamkandla #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन # सिंहासन बत्तीसी: पुतली चंद्रलेखाद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon #Teesri Putli Chandralekha #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन # सिंहासन बत्तीसी: पुतली चंद्रलेखाद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon #Singhasan Batteesi : Phlee Putli Ratnavali #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन # सिंहासन बत्तीसी: पहली पुतली रत्नावलीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon #Singhasan Batteesi: Phlee PutliRatnmanjri #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #सिंहासन बत्तीसी: पहली पुतली रत्नमञ्जरीद्वारा Sameer Goswami
 
#Singhasan Batteesi #Rajaj Vikrmaditya #Raja Bhoj #Stories of Singhasan Battisi # betal kee #sangyatandon #aarambh #सिंहासन बत्तीसी # सिंहासन बत्तीसी की कथाएँ #राजा विक्रमादित्य #राजा भोज #संज्ञा टंडन #आरंभद्वारा Sameer Goswami
 
Google login Twitter login Classic login