Madhu Tyagi सार्वजनिक
[search 0]
×
सबसे अच्छा Madhu Tyagi पॉडकास्ट हम पा सकते हैं (अपडेट किया गया अगस्त 2020)
सबसे अच्छा Madhu Tyagi पॉडकास्ट हम पा सकते हैं
अपडेट किया गया अगस्त 2020
लाखों प्लेयर एफएम उपयोगकर्ताओं से जुड़े आज प्राप्त करने के लिए समाचार और जब भी आप चाहते हैं अंतर्दृष्टि, तब भी जब आप ऑफ़लाइन हों। पॉडकास्ट समजदार हुआ फ्री पॉडकास्ट एप्प के साथ जो समझोता करने से इंकार करता है। चलो चलाये!
अपने पसंदीदा शो को ऑनलाइन प्रबंधित करने के लिए दुनिया के सर्वश्रेष्ठ पॉडकास्ट एप्प से जुड़ें और उन्हें हमारे Android और iOS एप्प पर ऑफ़लाइन चलाएं। यह मुफ़्त और आसान है!
More
show episodes
 
karwaan by Madhu Tyagi. इस कारवाँ में आप सुनेंगें मधु की कहानियाँ, कविताएँ, कुछ खट्टी - मीठी यादें जिन्हें सुनकर मनोरंजन तो होगा ही साथ ही साथ बहुत कुछ सीखने को भी मिलेगा। ये कहानियाँ आपको अपनी सी लगेंगी और ज़िंदगी की अनगिनत उलझनों को भी सुलझाने में मदद करेंगी। इस कार्यक्रम की कविताओं, कहानियों में आपको, कहीं अपना प्रतिबिंब नज़र आएगा और कहीं जीवन पथ पर मिले उन व्यक्तियों का प्रतिबिंब भी नज़र आएगा जिनसे आपने बहुत कुछ सीखा, बहुत कुछ पाया । आपका का यही अहसास कारवाँ को सार्थकता प्रदान करेगा। Mail I ...
 
Loading …
show series
 
हर लड़की की ज़िंदगी में अनेक बदलाव आते हैं पर सबसे मधुर बदलाव तब आता है जब वह माँ बनती है। जीवन के कठिन नौ महीने वह इस कल्पना में आसानी से गुज़ार देती है कि जब एक नन्हा सा चाँद उसकी गोदी में आएगा तो वो पल कैसा होगा ....?द्वारा Madhu Tyagi
 
आज भी हर क्लास की अंतिम बैंच पर एक नहीं कई रौनक बैठे हैं और टीचर की ज़रा सी हैल्प , ज़रा सी केयर.....एक साधारण से रौनक को डा. रौनक सूद बना सकती है।द्वारा Madhu Tyagi
 
अति हर चीज़ की बुरी होती है। अपने बच्चों की उँगली पकड़कर हर समय उनके साथ ना खड़े रहें, उन्हें स्वयं सीखने, समझने का मौका दें ताकि ज़िंदगी के मुश्किल रास्तों पर चलने से वे डरे नहीं, उनका सामना करने में सक्षम बनें।द्वारा Madhu Tyagi
 
बातें भूल जाती हैं पर यादें हमेशा याद रहतीं हैं और ये मीठी यादें जीवन के मुश्किल सफर को आसान बना देती हैं।द्वारा Madhu Tyagi
 
जिन रिश्तों को हम जी रहे है, महसूस कर रहे हैं, हमारी आने वाली पीढ़ियाँ उन्हें बेजान किताबों के पन्नों में पढेंगी और बार -बार पढ़कर रटेंगी,याद रखने की कोशिश करेंगी कि कौन सा रिश्ता क्या कहलाता है ?द्वारा Madhu Tyagi
 
इंतज़ार करना और करवाना किसे अच्छा लगता है लेकिन ज़िंदगी में कभी ना कभी सभी किसी ना किसी का इंतज़्ार करना ही पड़ता है।द्वारा Madhu Tyagi
 
कभी कभी हम यूँ ही अनजाने बंधन बंधन में बंध जाते हैं, एक ऐसा बंधन जिसमें बँधकर दिल को सुकून मिलता है। सुनिए एक ऐसे ही अनजाने बंधन की कहानी - कुछ बंधन ऐसे होते हैं.........................द्वारा Madhu Tyagi
 
पर्सनल स्पेस की ज़रूरत सिर्फ पति-पत्नि को ही नहीं होती, घर में रहने वाले सभी सदस्यों को पर्सनल स्पेस की ज़रूरत होती है। घर में, रिश्तों में मिठास बनाए रखने के लिए पर्सनल स्पेस बनाए रखें ........द्वारा Madhu Tyagi
 
अब तक आपने सुना कि शादी की दसवीं सालगिरह पर रीमा को, अपनी और अमन की पहली मुलाकात याद आती है जो महज़ एक इत्तेफाक थी। मीरा को देखने आया अमन ,रीमा को मीरा समझकर पसंद कर लेता है......घर आकर रीमा ,मन में अपराध बोध लिए, सिसक सिसककर कर सारी बात माँ को बताती है। ना जाने क्यों वह, उस युवक को भूल नहीं पा रही थी। अब आगे......…
 
कहानियाँ एक सदी की संस्कृति, रिवाज़ और परंपरा को दूसरी सदी में लेकर जाती हैं। कहानियाँ पीढ़ी दर पीढ़ी सुनाई जानी चाहिएँ। कहनियों का अंत देश की संस्कृति, परंपरा और इतिहास का अंत है।द्वारा Madhu Tyagi
 
बचपन ज़िंदगी का सबसे खूबसूरत पड़ाव है, जिसे भूला नहीं जा सकता और बढ़ती उम्र के साथ बचपन की मीठी यादों के साथ लगाव बढ़ता ही जाता है। अपने बचपन को याद करते हुए सुनिए मेरी कविता ....जब मैं छोटी थी।द्वारा Madhu Tyagi
 
परवरिश.......यह सिर्फ कहानी नहीं है, इसे किसी ने सच के धरातल पर जीया है। एक ऐसी महिला जिसने पूरे साहस और आत्मविश्वास के साथ अकेले ज़िंदगी की मुश्किलों का , दुनिया का सामना किया और वो सब हासिल किया जो वह चाहती थी।द्वारा Madhu Tyagi
 
प्यार के रूप तो अलग- अलग हैं और ये हर रूप में अच्छा लगता हैं। प्यार के बिना ज़िंदगी नीरस है , प्यार सभी को चाहिए लेकिन ये प्यार है क्या...? इसकी परिभाषा क्या है..? जानने के लिए सुनिए मेरी कविता - प्यारद्वारा Madhu Tyagi
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका

Google login Twitter login Classic login