Aayushi Sharma सार्वजनिक
[search 0]
अधिक

Download the App!

show episodes
 
B
Bas Aise Hi

1
Bas Aise Hi

Unsubscribe
Unsubscribe
साप्ताहिक
 
पहली बार जब All India Radio के studio के एक बड़े से खाली कमरे में mike के इस पार बैठी थी तो दिल ज़ोर ज़ोर से धड़क रहा था। कहने को तो बहुत कुछ था पर ये नहीं समझ आ रहा था कि सुन कौन रहा है? फिर अचानक "On Air" की लाल बत्ती जली और जैसे जादू बिखर गया | बस ऐसे ही किस्से कहानियों में औेर बातों ही बातों में मैंने कई दोस्त बना लिए।
 
Loading …
show series
 
बस यूँही आज पुराने ऑफिस वाली लंच पार्टनर की याद आ गयी...उसके ऑफिस से जाने का दुःख तो था पर उस से ज़्यादा कसक उसके जाने की वजह से थी.... सुनिए कीर्ति की कहानी.द्वारा Aayushi Sharma
 
Tribute to Munshi Premchand. रिश्ते तोड़ना आसान होता है, और घर जोड़े रखना उतना ही मुश्किल. क्या आनंदी ने लालबिहारी को माफ़ किया ?द्वारा Aayushi Sharma
 
कॉलेज के दिन ,कैंटीन की कॉफ़ी, मस्ती, दोस्ती, किस्से, कहानियां। सुनिए इस एपिसोड में दोस्ती की दास्ताँ :)द्वारा Aayushi Sharma
 
हम अक्सर किताबें ख़रीद तो लेते हैं लेकिन पढ़ नहीं पाते. बीच में ही अधूरी छोड़ देते हैं... पर क्या पता कोई किताब ख़त्म करने पर एक नयी कहानी शुरू हो जाए.... सुनिए ऐसी ही एक कहानी।द्वारा Aayushi Sharma
 
अक्सर ही हमारी ख़ामोशी को लोग हमारी कमज़ोरी समझ लेते हैं...आपके साथ भी ऐसा हुआ है क्या? सुनिए शिवेन की ख़ामोश कहानी....द्वारा Aayushi Sharma
 
इस कहानी में सब सुकून ढूंढ रहे? कोई शोर में तो कोई भागदौड़ में? कभी किसी और में तो कभी ख़ुद के अंदर। यही तो उलझन है. सुनिए इस कहानी में कैसे सुलझी ये उलझन।द्वारा Aayushi Sharma
 
अभी अभी तो खुद को समझना शुरू किया था उसने, पुरानी बातें भुला कर आगे बढ़ना शुरू किया था, फिर क्या था जो मोहिता को पीछे खींचने लगा?द्वारा Aayushi Sharma
 
क्या ग्यारह साल भुला देना आसान होता है? ये कॉलेज की दोस्ती थी. इतनी कमज़ोर थी? सुनिए क्या हुआ मोहिता और रोहन की कहानी में आगे.... केक Part २ में.द्वारा Aayushi Sharma
 
Writer - Aayushi SharmaI have always liked observing people and Stories have always fascinated me. here narrating a story that I penned down observing someone closest to us in the times of lockdown giving wings to my thoughts while sitting in the comfort and the closed enclosures of my homeद्वारा Aayushi Sharma
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका

Google login Twitter login Classic login