Vidéos सार्वजनिक
[search 0]
अधिक
Download the App!
show episodes
 
Artwork

1
Suno Kahani Purani

Alka Jain

Unsubscribe
Unsubscribe
मासिक+
 
Hi everyone Welcome to my podcast, I am your narrator Alka jain and I will tell you tales and stories written by famous writers of india. Thankyou . My YouTube Channel Link - https://youtube.com/channel/UCqOV0mgtmLvH1Y3wp2AScSQ Please SUBSCRIBE , Like , Play The videos till end and share with all your friends and family it will help me a lot :) नमस्ते, मेरे पॉडकास्ट में आपका स्वागत है, मैं आपकी कथा वाचिका अलका जैन हूं , मैं आपको भारत के प्रसिद्ध लेखकों द्वारा लिखी गई कहानियाँ सुनआऊंगी। धन्यवाद
  continue reading
 
Artwork

1
Phenomenal Guruji FM

Phenomenal Guruji

Unsubscribe
Unsubscribe
मासिक
 
Explore a world of knowledge on Phenomenal Guruji FM, the largest online radio station. Subscribe, like, share, and stay tuned for the latest updates in general topics, tech, and education. For Business Inquiries - fm@phenomenalguruji.com
  continue reading
 
Artwork

1
Shining Boss

Shubham Bansal

Unsubscribe
Unsubscribe
रोज+
 
Gaming Corner Podcast. Podcast description for Spotify Podcaster on gaming Welcome to the Gaming Corner, the podcast for all things related to gaming! Our show is dedicated to exploring the world of video games and everything that surrounds it. Each episode, we bring you the latest news and reviews, along with in-depth discussions on the hottest topics in the gaming industry. We'll be diving into game design, player behavior, emerging trends, and more, with expert guests and special interviews.
  continue reading
 
Fat 2 Fit | Wajan Ghatane Ka Sahi Tarika ( वेट लॉस करने के सही तरीके) ke is podcast me aap dekhege ki Size zero kise kahte hai ? Wajan kyu ghatana chaiye ? Aap ko kitna wajan ghatana chaiye? Wajan ghatne ke kaun- kaun se tarike hai aur kaun sa tarika sahi hai? Aap ko wajan kam kaise karna chaiye aur iski taiyari kaise kare ke sath aap janege ki kyu laut aata hai aap wajan? In sabhi prashno ka jabab mile ga aap ko Weight Loss Methods In Hindi, ke is podcast se, aur yah video hamare FAT 2 FIT ...
  continue reading
 
Kisi bhi ladki ke liye uski shaadi me sabse zyada zaroori hota hai uska wedding lehenga...phir chaahe wo koi actress hi kyu na ho...aaiye aaj hum is video me baat karte hai bollywood actress ke expensive and gorgeous wedding lehenge ke baare me...ki kis actress ne kya pehna tha aur wo wedding outfit ki price kya hai. Number 1 : Aishwarya Rai Bachchan Aishwarya rai bachchan is list me sabse top par hai...unka wedding outfit sabse mehenga tha...aish ka wedding outfit ka price tha 75 lakhs...je ...
  continue reading
 
Are you fascinated by the stories and mythology of ancient India? Do you want to learn more about the epic tale of Ramayana and its relevance to modern-day life? Then you should check out Ramayan Aaj Ke Liye, the ultimate podcast on Indian mythology and culture. Hosted by Kavita Paudwal, this podcast offers a deep dive into the world of Ramayana and its characters, themes, and teachings.
  continue reading
 
Artwork

1
Technical AG

Utkarsh Agarwal

Unsubscribe
Unsubscribe
मासिक
 
This Podcast Is Full Of Digital Knowledge. All The Episodes Are Available In Hindi Translations. If You Have Any Questions Or You Want Me To Make An Episode On A Specific Topic Kindly Mail Me. Email:- technicalag.officials@gmail.com Instagram:- https://www.instagram.com/officialtechnicalag/
  continue reading
 
Hello dosto apka swagat hai aaj ki video mein or aaj ki tech news today mein hum baat karenge Switching From Iphone To Android | Switching From Android To Iphone ke bare mein, why android is better than ios ke bare mein, iphone vs android ke bare mein, ios vs android ke bare mein, android vs iphone ke bare mein, best mobile ke bare mein, oneplus vs iphone ke bare mein, ios vs android 2020 ke bare mein, android 11 vs ios 14 ke bare mein, android updates ke bare mein, ios 14 vs android 11 ke b ...
  continue reading
 
Artwork
 
"Kuch Baatein with Aditya Alfaaz" is a one-of-a-kind podcast that brings together a world of topics under one roof. From thought-provoking discussions on current events to inspiring stories of people making a difference in the world, Aditya Alfaaz explores a diverse range of subjects in each episode, leaving no stone unturned. With a unique storytelling style and a passion for sharing knowledge. Youtube: https://www.youtube.com/@AdityaAlfaaz Instagram: https://www.instagram.com/aditya.alfaaz ...
  continue reading
 
Loading …
show series
 
In college, it's essential to enhance your communication skills and concentrate on your career path. Strengthening how you convey ideas and thoughts helps in various aspects of life, from presentations to interviews. Focusing on your career means setting goals, gaining relevant experience, and exploring opportunities that align with your aspiration…
  continue reading
 
Welcome to "Banning Violent Video Games," a thought-provoking podcast that delves into one of the most controversial topics surrounding the gaming industry. Join us as we explore the ongoing debate surrounding the potential ban of violent video games and its impact on society.
  continue reading
 
बाली को मार कर और सुग्रीव का राज्य अभिषेक होने के बाद प्रस्रवण पर्वत पर रहने वाले श्री राम अपने भाई लक्ष्मण से कहते हैं "जल की प्राप्ति कराने वाला वर्षा काल आगया है। पर्वत जैसे मेघो से आकाश मंडल भर गया है। जैसे, कोई तरुणी ९ महीनो के लिए अपने गर्भ में बालक धारण करती है, और फिर उसे जन्म देती है, वैसे, ९ महीनो के लिए आकाश से सूर्य की किरणों द्वारा समं…
  continue reading
 
कपिराज बाली के अंतिम संस्कार के बाद, पवनपुत्र हनुमान ने सलाह दी कि, क्यूंकि श्री राम ने सुग्रीव को न्याय दिलाने में सहायता करी, इसलिए, सबसे पहले उन्हें और महाराज सुग्रीव को किष्किंधा में पदार्पण करना चाहिए। पर राम ने किष्किंधा में कदम रखने से क्यों मना कर दिया? उन्होंने सुग्रीव को सीता को ढूंढने का प्रयास कब शुरू करने को कहा? सुग्रीव और अंगद का राज…
  continue reading
 
तारा, अंगद, सुग्रीव, किष्किंधा की प्रजा, सभी बाली की मृत्यु के कारण विलाप कर रहे थे। तब महारानी तारा की नजर श्रीराम पर पड़ी। वह राम से बोलीं - आपका कोई पार नहीं। आपने अपने इंद्रियों पर मात की है। आपकी कृपा सब पर बरसती है। तो मेरी आपसे प्रार्थना है कि आप मुझे भी मार दीजिए ताकि मैं अपने पति के साथ जा सकूं। जवाब में राम ने तारा से क्या कहा? और लक्ष्मण…
  continue reading
 
कपिराज बाली के मृत्यु अब निकट थी। उनकी पत्नी तारा दुख और भावनाओं के सागर में डूबी, कुछ सोच नहीं पास रहीं थीं। तब हनुमान ने कैसे उन्हें सहानुभूति दी? इस दौरान बाली ने, किष्किंधा राज, तारा और अपने बेटे - अंगद को लेकर, सुग्रीव को क्या सलाह दी? और सारे वानरों को शोकाकुल देख, सुग्रीव ने अनपे किये पर पछतावा कैसे व्यक्त किया? आइए जानतें हैं, रामायण आज के …
  continue reading
 
जब बाली की शक्ति के सामने सुग्रीव हारने लगे तब श्रीराम ने बाली पर पेड़ों के पीछे से छुपकर वार किया। इस बात पर घायल बाली ने राम पर आरोप लगाया कि धर्म के अनुसार राम का व्यवहार गलत था। वाली को राम से कोई बैर नहीं था फिर भी राम ने पीछे से उन पर वार किया और उन्हें अपने बचाव का मौका तक नहीं मिला। राम ने वाली के लगाए आरोप पर किस प्रकार प्रति उत्तर दिया? बा…
  continue reading
 
बाली ने अपनी समझदार पत्नी तारा की सलाह को अनसुना कर दिया और सुग्रीव के साथ युद्ध करने के लिए वापस रणभूमि में उतर गए। उन्हें लगा कि, क्यूँकि राम धर्म का पालन करते हैं, वह किसी निर्दोष पर वार नहीं करेंगे। पर बाली इस बात का अनुमान नहीं लगा पाए कि पेड़ों के पीछे छिपे राम मौका देखते ही उनपर एक ज़हरीले साँप की तरह दिखनेवाला तीर छोड़ देंगे, जो बाली की छाती …
  continue reading
 
राम और लक्ष्मण किष्किंधा की सीमा तक पहुंचकर वहीं वन में छुप गए। इतने में सुग्रीव ने अपने भाई, बाली को द्वन्द्व युद्ध के लिए ललकारा। कुछ ही देर में उन दोनों के बीच भयंकर लड़ाई शुरू हुई। आश्चर्य की बात यह थी कि वह दोनों कपि बिल्कुल एक दूसरे की तरह दिख रहे थे। श्री राम समझ ही नहीं पाए कि बाली कौन है और सुग्रीव कौन। जब सुग्रीव अपनी जान बचाकर भागे, तब रा…
  continue reading
 
जब सुग्रीव ने राम और लक्ष्मण को बाली की कहानी सुनाई, तब उन्हें सूर्यपुत्र कपिराज की शक्ति और कमज़ोरी दोनों का प्रमाण मिला। कहानी के अंत में सुग्रीव ने राम को रिश्यामुख पर्वत पर दुंदुभि राक्षस की सूखई हुई हड्डियों का ढेर भी दिखाया। तब राम और लक्ष्मण दोनों को कहानी का तात्पर्य समझ में आया। वास्तव में सुग्रीव राम की शक्ति का प्रमाण देखना चाहते थे। जवाब…
  continue reading
 
अब तक हमने सुना कि कैसे बाली ने सुग्रीव पर आरोप लगाकर उन्हें राज्य से बाहर निकाला था। इतना ही नहीं सुग्रीव की पत्नी, रोमा को बाली ने राज्य में कैद करके रखा था। सुग्रीव को श्री राम की मित्रता पर विश्वास तो था, लेकिन वह उन्हें बाली के शौर्य के बारे में भी बताना चाहते थे, क्यूंकि युद्ध में आक्रमण करने से पहले, शत्रु की शक्ति का प्रमाण लिया जाता है। तो…
  continue reading
 
सीता के आभूषण देखकर राम विचलित हो गए। पर सुग्रीव के मीठे शब्दों से, उनके सांत्वन से, वह संभल भी गए। फिर राम ने सुग्रीव से सीता और रावण को ढूंढने की सलाह मांगी। साथ ही उन्होंने सुग्रीव को दिए हुए वचन को पूरा करने का आश्वासन दिया। उसके बाद सुग्रीव की समस्या समझने के लिए राम ने उन्हें अपनी पूरी कहानी विस्तार से सुनाने को कहा। जवाब में सुग्रीव ने अपने …
  continue reading
 
You can Support This Podcasts Here. PayTm: aditya.alfaaz@paytm UPI: aditya.alfaaz@kotak YouTube: https://www.youtube.com/c/Adityaaadi Instagram: https://www.instagram.com/aditya.alfaaz/ Facebook: https://www.facebook.com/aditya.aalfaaz/ --- Send in a voice message: https://podcasters.spotify.com/pod/show/adityaalfaaz/messageSupport this podcast: ht…
  continue reading
 
ऋष्यमुख पर्वत पर पहुंचकर हनुमान ने कपिराज सुग्रीव के सामने राम और लक्ष्मण को अपने कंधे से उतारा और सारा वृतांत सुग्रीव को सुनाया। सुग्रीव यह सुनकर बहुत खुश हुए कि श्री राम उनसे मित्रता करना चाहते हैं और कहा की उनके लिए ये अभिमान की बात होगी। ये जानकर, श्री राम ने उन्हें गले से लगाया। फिर दोनों ने अग्नि के समक्ष मित्रता निभाने की शपथ ली। इसके बाद सु…
  continue reading
 
सुग्रीव की आज्ञा अनुसार, ब्राह्मण का भेस लेकर, हनुमान, राम और लक्ष्मण की जानकारी लेने के लिए पाम्पा सरोवर पहुँचे। हनुमान ने उन दोनों को विनम्रता से वंदन किया। फिर उन्होंने इन दीप्तिमान अजानुबाहू मनुष्यों से उनका परिचय कैसे माँगा? राम ने हनुमान के व्यव्हार से उनके चरित्र के बारे में क्या निष्कर्ष निकला? लक्ष्मण ने सुग्रीव को लेकर अपने इरादों के बारे…
  continue reading
 
कर्नाटक के हम्पी क्षेत्र को आज भी किष्किन्धा के नाम से जाना जाता है। यह एक समय में सुग्रीव की राजधानी हुआ करती थी, जहाँ राम और लक्ष्मण, सीता को ढूंढ़ते-ढूंढ़ते पहुँचे। वसंत ऋतु में पाम्पा सरोवर की सुंदरता देख, सीता के विरह में राम और भी दुखी हुए। राम को भावुक देख, लक्षमण उन्हें अपने मन पर नियंत्रण रखने की सलाह देने लगे। पर दोनों भाइयों की बातचीत के …
  continue reading
 
कबंध के बताये रास्ते से होते हुए राम और लक्ष्मण पाम्पा सरोवर के पास ऋष्यमूक पर्वत पर पहुँचे। वहाँ उन्हें भक्त और विदुषी शबरी मिलीं, जो जंगल में रहने वाली जनजाती से थीं। लेकिन उनके चहरे पर उनकी साधना और योग का तेज था। राम और लक्ष्मण से मिलने पर शबरी ने उनका स्वागत कैसे किया? उन्होंने दोनों भाइयों को मातंग वन के बारे में क्या बताया? और राम ने शबरी का…
  continue reading
 
राम और लक्ष्मण ने कबंध को मारने के बाद उसका शरीर जला दिया। चिता से कबंध का सुन्दर दिव्य रूप निकल आया, जिसे स्वर्ग ले जाने के लिए दैवी विमान आ खड़ा हुआ। पर जाने से पहले, उसने राम को सीता तक पहुँचने की तरक़ीब बताई। कबंध ने दोनों भाइयों को सुग्रीव का परिचय कैसे दिया? उसने क्या सोचकर कहा की सीता को ढूंढने में सुग्रीव सक्षम रहेंगे? फिर कबंध ने राम और लक्ष…
  continue reading
 
सीता को बचाने की कोशिश करते-करते जटायु ने अपने प्राण गवा दिए। गृद्धराज की मृत्यु से राम को बहुत दुख हुआ और उन्होंने जटायु का अंतिम संस्कार, विधि-अनुसार, अपने हाथों से किया। इसके पश्चात वह लक्ष्मण के साथ सीता की खोज में दक्षिण दिशा में निकल गए। कुछ समय बाद वह क्रौंच जंगल पहुंचे। वहाँ अयोमुखी नामक राक्षसी से मिलने पर राम और लक्षमण ने क्या किया? और फि…
  continue reading
 
जब राम को सीता के संघर्ष के संकेत मिले, तब उनका क्रोध उनके आपे से बाहर हो गया। वह बदले की आग में सारे लोकों को नष्ट करने निकले। ऐसे में लक्ष्मण ही उन्हें रोक सकते थे। लक्ष्मण ने राम का क्रोध शांत करने के लिए ऐसी क्या बात कही, जो आज भी मसाल के तौर पर इस्तेमाल की जाती है। जब दोनों भाइयों ने सीता की खोज फिर शुरू करी तब उन्हें घायल जटायु मिले। राम ने क…
  continue reading
 
सीता को आश्रम में ना पाकर भग्वान-रूपी राम मनुष्य के भाँती अधीर होने लगे। आख़िरकार लक्ष्मण के अलावा उन्होंने सीता से ही अपना सारा दुःख बांटा था। राम को लाचार देख, लक्षमण ने उनका सांत्वन कैसे किया? शांत होने पर, जब राम सीता को खोजने के लिए आगे बढ़े, तब किस प्राणी के समूह ने उनकी मद्दत करी? सुझाव अनुसार जब दोनों भाई दक्षिण दिशा में चलने लगे, तो उन्हें …
  continue reading
 
फिछले episode में हमने सुना कि कैसे देवों ने लंका-बधित सीता को खीर खिलाकर यह सुनिश्चित किया कि वह जीवित रहें। वहाँ दूसरी तरफ़ राम मारीच को मारकर आश्रम की ओर भागे। रस्ते में आसपास के जानवरों की बेचैनी देख वह समझ गए थे की सीता ख़तरे में हैं। कुछ ही क्षणों में उन्हें लक्षमण मिले, जो सीता के कहने पर राम को ढूंढने निकले थे। एक दूसरे को देखते ही वह दोनों स…
  continue reading
 
You can Support This Podcasts Here. PayTm: aditya.alfaaz@paytm UPI: aditya.alfaaz@kotak YouTube: https://www.youtube.com/c/Adityaaadi Instagram: https://www.instagram.com/aditya.alfaaz/ Facebook: https://www.facebook.com/aditya.aalfaaz/ --- Send in a voice message: https://podcasters.spotify.com/pod/show/adityaalfaaz/messageSupport this podcast: ht…
  continue reading
 
सीता रावण का इरादा अब अछि तरह से समझ गयीं थीं। क्यूंकि रावण एक परपुरुष था और उन दिनों विवाहित स्त्रियाँ उनसे पर्दा करतीं थीं, इसलिए सीता ने अपने और रावण के बीच, सीमा के तौर पर, एक घांस की तीली पकड़ली। रावण ने उस चिन्ह का सम्मान किया, पर साथ ही उससे विवाह करने के लिए उसने सीता को 12 महीनों का वक़्त भी दिया। कड़ी निगरानी में सीता को लंका में रखा गया, जि…
  continue reading
 
विशाल और वृद्ध जटायु को मारने के बाद अब रावण के रास्ते में कोई बाधा नहीं थी। लेकिन सीता अपने आपको छुड़ाने का संघर्ष करती रहीं। कुछ दूरी पर सीता ने पर्वत पर बैठे वानर देखे। उन्होंने उन वानरों बीच अपनी ओढ़नी में ज़ेवर उतारकर फेंक दिए, ये सोचते हुए कि शायद ये वानर सीता को ढूंढने में राम की मद्दद कर पाएँ। पर, किसी कारण, इस बात पर रावण ने ध्यान नहीं दिया। …
  continue reading
 
जब सीता ने रावण के साथ लंका जाने से मना कर दिया तब रावण ने सीता के बाल पकड़े और एक हाथ से उन्हें उठाकर उग्रता से अपने सुनहरे रथ में बिठाया। पलक झपकते ही वह रथ आकाश में उड़ने लगा और लंका की और बढ़ने लगा। सीता चिल्लाने लगीं, राम और लक्ष्मण को पुकारने लगीं। उनकी दुहाई सुनकर जटायु चौक्कन्ने हो गए और सीता को रावण के चंगुल से बचाने का प्रयास करने लगे। पक्षि…
  continue reading
 
You can Support This Podcasts Here. PayTm: aditya.alfaaz@paytm UPI: aditya.alfaaz@kotak Instagram: https://www.instagram.com/aditya.alfaaz/ Facebook: https://www.facebook.com/aditya.aalfaaz/ --- Send in a voice message: https://podcasters.spotify.com/pod/show/adityaalfaaz/messageSupport this podcast: https://podcasters.spotify.com/pod/show/adityaal…
  continue reading
 
रावण भिक्षुक के भेस में राम-सीता के आश्रम आया। सीता ने लक्ष्मण की चेतावनी के बावजूद, रावण को ब्राह्मण समझ कर, शापित होने के डर से, उसका आदर सत्कार किया। उसे भोजन खिलाया। फिर सीता ने उसे अपने बारे में बताया। साथ ही उन्होंने रावण का परिचय माँगा। तब रावण ने अपना असली रूप दिखाया और बोला की वह तीनों लोको का राजा है और सीता को अपनी पत्नी बनाना चाहता है। …
  continue reading
 
राम के साथ खेलते खेलते, वह सोने का हिरन उन्हें आश्रम से काफ़ी दूर ले गया। कुछ समय बाद वह हिरन झाड़ियों में जाकर फँस गया। उस ही क्षण, एक ही तीर से राम ने बारहसिंगा रुपी मायावी मारीच को घायल कर दिया। मरते मरते मारीच ने ऐसा क्या किया जिसकी वजह से सीता और लक्षमण को लगा की राम मुसीबत में हैं? सीता ने लक्ष्मण को राम के पास जाकर उनकी मद्दत करने के लिए कैसे …
  continue reading
 
मारीच की बातों का रावण पर कोई असर नहीं हुआ। उल्टा रावण ने ही मारीच को डाँटते धमकाते कहा कि अगर वह रावण की मद्दत नहीं करेगा तो मारा जाएगा। यह सुनकर उसने अपने भाग्य को स्वीकारा और रावण के साथ दण्डकारण्य पहुँचा। मारीच ने, सोने के हिरण का रूप लेकर, सीता को कैसे आकर्षित किया? लक्ष्मण को उसकी असली पहचान कब और कैसे हुई? सच्चाई जाने के बाद भी राम ने हिरण र…
  continue reading
 
जब सीता का अपहरण करने के लिए रावण मारीच को हिरन का रूप लेने के लिए कहता है, तब मारीच घबरा जाता है। वह रावण के राम के बल, साहस, कौशल और बुद्धिमत्ता का अनुमान देने की कोशिश करता है। वह रावण को राम से अपने युद्ध के बारे में भी बताता है। मारीच यहाँ तक कहता है की रावण की एक भूल का मूल्य पूरी लंका को चुकाना पढ़ेगा। लेकिन उसे राक्षस वृत्ति छोड़ने की सुबुद्ध…
  continue reading
 
रावण अब मान गया था कि राम कोई साधारण मनुष्य नहीं थे और उन्हें रोकना राक्षसों की सुरक्षा के लिए आवश्यक हो गया था। वह अपने सुवर्ण रथ में बैठकर तुरंत मारीच से मिलने निकला। रास्ते में उसने दक्षिण भारत में क्या-क्या देखा? वट वृक्ष, सौभद्र का क्या महत्त्व था? जब रावण मारीच के पास पहुँचा तो उसने राम को अधर्मी क्यों बताया? और सीता का अपहरण करने के लिए वह म…
  continue reading
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका