Small सार्वजनिक
[search 0]
अधिक

Download the App!

show episodes
 
ऐ जिंदगी तेरा क्या कहना, लाखों तेरे रंग हैं मोर जैसे झूमती या पर्वत जैसी तू चुप है मां जैसी शीतल है या पिता के जैसी धूप है खुशियों सी रंगीली और दर्द सी बदरंग है उचित अनुचित से परे, आनन्द तेरा रंग है आंसू है, मुस्कान है, उम्मीद है, भगवान है केसरिया है, सफेद है और हरा भी तेरा अंग है तू धर्म है, इमान है, हर शख्स का तू रंग है पवित्र सी किसी उपवन में ईश्वरीय सारंग है कहीं है श्वेत और कहीं श्याम तेरा रंग है जंग की बिसात क्या? आप ही तू जंग है कभी वैभवशाली, कभी विध्वंसकारी सब तेरा ही रंग है हो हवा क ...
 
Hey Guys Welcome To The DIGITAL JAYPAL SHOW, Here You Will Get Latest Blogging, SEO And Digital Marketing Tips In Hindi. Jaypal Thakor Is Founder Of "DIGITALJAYPAL.IN" A Small Hindi Blogger . In This Podcast Series Jaypal Will Share Some Blogging, WordPress, SEO, Search Engine Marketing, Internet Marketing, Social Media Marketing, Email Marketing, Email List Building, Content Marketing, Website Engagement, Conversion Optimization And Many Many More In Hindi Language.
 
Loading …
show series
 
spot kas ke madhyam se main aapke sath kuchh Sundar chhoti chhoti kahaniyan share karungi jisse ki aap bahut seekh sakte hain aur kahani ka anand bhi utha sakte hainद्वारा Bitti Sodhi
 
जो प्रवचन देता है वह है सच्चा साधु या जो उसे आचरण में लाता है कहानी ke aadhaar par समझिए और विचार कीजिएद्वारा Bitti Sodhi
 
Check out my latest episode! Small steps to conserve nature - विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस - आपका योगदान (bilingual)द्वारा PanchTatwa Girl
 
Agar Aapko Koi Question Hai To Aap Hame QnA Series Me Puch Skte Hai: Ask Your Question ---- Join India's Hindi Blogger Community: Facebook Group --- 🚀Join With Digital Jaypal🚀 Instagram: Instagram.Com/akajaypalthakor Facebook: Facebook.Com/akadigitaljaypal/ Twitter: Twitter.Com/akajaypalthakor Blog: www.DigitalJaypal.in --- Send in a voice message:…
 
Check out my latest episode!हमारा देश नदियों, जंगल और वन्य जीवों के लिए दुनियाभर में प्रसिद्ध है। प्रकृति बची रहेगी, तभी जीवन बचेगा। इसी के प्रति जागरूकता के उद्देश्य से हर साल 28 जुलाई को विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस मनाया जाता है।द्वारा PanchTatwa Girl
 
हम यह मानसिकता अपना लेते हैं की हम जीवन में कुछ नहीं कर सकते। हमारे पास बहुत से गुण है परंतु हम अपनी नकारात्मक मानसिकता के शिकार होकर अपने हालातों को बदतर बना लेते हैं अगर हम अपने नज़रिए को बदलें, तो अपने अंदर जो गुण मौजूद हैं उनसे जीवन को बेहतर बना सकते हैं ।।द्वारा Bitti Sodhi
 
मेरा काम है आपको stories सुनाना और कहानियों के माध्यम से कोई एक संदेश देना मैं उसे जीवन में उतारना आपका काम है और उसके लिए आपको conscious efforts करने होंगेद्वारा Bitti Sodhi
 
अक्सर माँ बाप की टोका टाँकी से बच्चे परेशान हो जाते हैं par jeevan में ये बातें कब काम आ जाएँ , ये वो अपने experience से ही समझ पाते हैं।।द्वारा Bitti Sodhi
 
हम जिस भी कार्य को करे, पूरे मन से एकाग्रचित्त होकर करे ।बार बार इधर उधर भटकाने से बेहतर यही है कि एक जगह टिक कर मेहनत की जाए तभी सफलता प्राप्त की जा सकती है ।।द्वारा Bitti Sodhi
 
जीवन में क़ामयाब होना है तो हर पल सीखते रहिए । नए परिवर्तन को अपनाते हुए आगे बढ़ते रहिए ।नहीं तो जीवन की दौड़ में पिछड़ जाएंगे ।दौड़ में जीतता वही है, जो लगातार दौड़ता है,जिसने दौड़ना छोड़ दिया, उसकी हार निश्चित है ।।द्वारा Bitti Sodhi
 
हमारी ज़िंदगी में कई बार ऐसा होता है हम कोई काम शुरू करते हैं, तो हम उस काम के लिए ही बहुत उत्साहित होते हैं पर लोगों की बेवजह बातों से वह उत्साह कम होने लगता है । हम अपना काम बीच में ही छोड़ देते हैं बाद में जब अहसास होता है कि हम सफलता के इतने नज़दीक थे , तो पछतावे के अलावा कुछ नहीं बचता ।।द्वारा Bitti Sodhi
 
हम चाहे कुछ भी कर ले, निंदक को हम संतुष्ट नहीं कर सकते। अतः ऐसे लोगों की परवाह किए बिना अपने काम में आगे बढ़ते रहिए ।।द्वारा Bitti Sodhi
 
यदि आप अच्छे लोगों के साथ रहते हैं तो आपको कुछ अच्छा सीखने को मिलता है और बुरी सोच वाले लोगों के साथ रहते है तो निश्चित थी आपकी सोच और आपकी आदतें वैसे ही बन जाती है ।।द्वारा Bitti Sodhi
 
जब हम किसी व्यक्ति या चीज़ से जुड़े होते हैं तो उसके छिन जाने यह दूर हो जाने का हमें दुख होता है । लेकिन यदि हम किसी चीज़ को ख़ुद से अलग करके देखते हैं तो दुख हमें छूता तक नहीं है ।इसलिए दु खी होना या न होना पड़ता हमारी सोच और मानसिकता पर निर्भर करता है।।द्वारा Bitti Sodhi
 
कई बार हम अपनी वर्तमान उपलब्धियों के लिए स्वयं को श्रेय देने की कोशिश करते हैं ।लेकिन ये ही भूल जाते हैं कि ये हमारे साथ जुड़े एक व्यक्ति के कारण है। हमारे आस पास कोई है जो हमें नुक़सान से बचा रहा है । उस व्यक्ति की वजह से हमें वर्तमान में सम्मान और ख़ुशी मिल रही है।।द्वारा Bitti Sodhi
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका

Google login Twitter login Classic login