Pronunciation सार्वजनिक
[search 0]
अधिक

Download the App!

show episodes
 
मंत्र अधिकांशतः संस्कृत में लिखे होते हैं । जिनके उच्चारण के विषय में शंका बनी रहती है । उस शंका को दूर करने के लिए गुरु कृपा से कुछ मंत्रों का उच्चारण स्पष्ट किया जा रहा है जिससे आपको सही उच्चारण करने में मदद मिलेगी
 
Loading …
show series
 
कल्याणवृष्टिभिरिवामृतपूरिताभि- र्लक्ष्मीस्वयंवरणमङ्गलदीपिकाभिः । सेवाभिरम्ब तव पादसरोजमूले नाकारि किं मनसि भाग्यवतां जनानाम् ॥ १॥ एतावदेव जननि स्पृहणीयमास्ते त्वद्वन्दनेषु सलिलस्थगिते च नेत्रे । सान्निध्यमुद्यदरुणायुतसोदरस्य त्वद्विग्रहस्य परया सुधयाप्लुतस्य ॥ २॥ ईशात्वनामकलुषाः कति वा न सन्ति ब्रह्मादयः प्रतिभवं प्रलयाभिभूताः । एकः स एव जननि स्थिर…
 
श्री सिद्ध कुंजिका स्तोत्र ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे !! ॐ ग्लौं हुं क्लीं जूं स: ज्वालय ज्वालय ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे ज्वल हं सं लं क्षं फट स्वाहा !! इति मंत्र: !! नमस्ते रुद्ररुपिण्ये नमस्ते मधुमर्दिनि ! नम: कैटभहारिण्यै नमस्ते महिषार्दिनि !! १!! नमस्ते शुभहंत्र्यै च निशुंभासुरघातिनि !!२!! जाग्रतं हि महाद…
 
श्री भगवान दत्तात्रेय अष्टोत्तर शतनाम 01) ॐ अनसूयासुताय नम: 02) ॐ दत्ताय नम: 03) ॐ अत्रिपुत्राय नम: 04) ॐ महामुनये नम: 05) ॐ योगींद्राय नम: 06) ॐ पुण्यपुरुषाय नम: 07) ॐ देवेशाय नम: 08) ॐ जगदीश्वराय नम: 09) ॐ परमात्मने नम: 10) ॐ परस्मै ब्रह्मणे नम: 11) ॐ सदानंदाय नम: 12) ॐ जगद्गुरवे नम: 13) ॐ नित्यतृप्ताय नम: 14) ॐ निर्विकाराय नम: 15) ॐ निर्विकल्पाय…
 
पुरुष सूक्त सहस्रशीर्षा पुरुषः सहस्राक्षः सहस्रपात् । स भूमिं विश्वतो वृत्वात्यतिष्ठद्दशाङुलम् ॥१॥ पुरुष एवेदं सर्वं यद्भूतं यच्च भव्यम् । उतामृतत्वस्येशानो यदन्नेनातिरोहति ॥२॥ एतावानस्य महिमातो ज्यायाँश्च पूरुषः । पादोऽस्य विश्वा भूतानि त्रिपादस्यामृतं दिवि ॥३॥ त्रिपादूर्ध्व उदैत्पूरुषः पादोऽस्येहाभवत्पुनः । ततो विष्वङ् व्यक्रामत्साशनानशने अभि ॥४॥…
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका

Google login Twitter login Classic login