Entrepreneur Interviews सार्वजनिक
[search 0]
अधिक
Download the App!
show episodes
 
Artwork

1
Puliyabaazi Hindi Podcast

Policy, Politics, Tech, Culture, and more...

Unsubscribe
Unsubscribe
साप्ताहिक
 
This Hindi Podcast brings to you in-depth conversations on politics, public policy, technology, philosophy and pretty much everything that is interesting. Presented by tech entrepreneur Saurabh Chandra, public policy researcher Pranay Kotasthane, and writer-cartoonist Khyati Pathak, the show features conversations with experts in a casual yet thoughtful manner. जब महफ़िल ख़त्म होते-होते दरवाज़े के बाहर, एक पुलिया के ऊपर, हम दुनिया भर की जटिल समस्याओं को हल करने में लग जाते हैं, तो हो जाती है ...
  continue reading
 
Loading …
show series
 
क्या आपने कभी सोचा है कि एक न्यायपूर्ण समाज कैसा दिखता है? आज हम न्यायपूर्ण समाज की दो परिकल्पना को समझेंगे, जॉन रॉल्स और रोबर्ट नोज़िक के दृष्टिकोण से। जॉन रॉल्स करते हैं समानता की पैरवी, जब के नोज़िक रखते हैं स्वतंत्रता का पक्ष। इस पुलियाबाज़ी में हम दोनों पक्षों के तर्क को समझने की कोशिश करेंगे। क्या इसमें कोई समाधान की आशा है? वो तो आप ही सुनिए, …
  continue reading
 
भारत में भवन निर्माण कोड तो कई है, पर क्या वे सभी तर्कसंगत और व्यावहारिक है? समय के साथ जड़ हो गए बिल्डिंग कोड से भारतीय कंपनियों का कितना नुकसान हो रहा है? क्या है इसके दीर्घकालिक परिणाम? आज इस विषय को गहराई से समझेंगे भुवना आनंद और सरगुन कौर के साथ जिन्होंने स्टेट ऑफ़ रेगुलेशन रिपोर्ट में भारतीय फैक्ट्रियों के बिल्डिंग कोड का गहराई से अध्ययन किया ह…
  continue reading
 
हम सभी जानते है कि भारत की राज्य क्षमता यानी की state capacity सीमित है। इसका असर आम भारतीयों के जीवन पर भी होता है। प्राथमिक शिक्षा का उदाहरण लें तो यदि हम यथास्थिति बनाए रखते हैं, तो 2047 तक, हमारे पास अन्य 20 करोड़ बच्चे होंगे जो बुनियादी साक्षरता के बिना प्राथमिक शिक्षा पूरी करेंगे। लेकिन बड़ा सवाल यह है कि राज्य की क्षमता कैसे बढ़ाई जाए? सरकार…
  continue reading
 
इस हफ़्ते पुलियाबाज़ी पर हमारे दो बेंगलुरु निवासी होस्ट ‘कारे मेघा, कारे मेघा’ का आलाप लगाते पाए गए। पानी कब बरसेगा ये तो पता नहीं, पर इस पानी की समस्या में छिपे कुछ पब्लिक पॉलिसी के पाठ प्रणय ने ख़ोज निकाले। जब किसी संसाधन की कमी हो तो उसकी सही कीमत लगाने से उसका सही उपयोग निश्चित किया जा सकता है, ये तो पुलियाबाज़ी के श्रोता जानते ही होंगे। आज की पुलि…
  continue reading
 
आज़ादी के बाद भारत में जो राजनीतिक पार्टियां उभर कर आ रही थी उसमें से एक थी राजाजी द्वारा स्थापित स्वतंत्र पार्टी। उनकी कोशिश थी की आज़ादी के बाद के भारत में कांग्रेस की योजनाबद्ध व्यवस्था के सामने स्वतंत्र आर्थिक नीति के समर्थन में एक प्रतिपक्ष रखा जाये। क्या थी इस स्वतंत्र पार्टी की विचारधारा और उसकी राजनीति? जिस समय देश में समाजवादी विचारधारा का प…
  continue reading
 
हाल ही में सौरभ अपने काम को लेकर अमरीका जाकर आए। तीन अलग अलग शहर एटलांटा, डेट्रॉइट और पालो आल्टो की मुलाकात ली। तो आइये जानते है कि अमेरिका में व्यापार प्रदर्शन कैसे होते है? कौन बचा सकता है एक दिवालिया शहर की कलाकृतियों को? और ऐसे कई अनोखे अवलोकन सौरभ के पिटारे से। This week, we get a peek into the world of manufacturing in the US as Saurabh share…
  continue reading
 
ऐतिहासिक रूप से भारत-अमेरिका संबंध "कभी हां कभी ना" जैसा रहा है। हाल के वर्षों में बदलते भू-राजनीतिक परिदृश्य के साथ इसमें बदलाव आया है, लेकिन कुछ कारणवश हम आज भी अमरीका को थोड़ा संदेह के साथ देखते है। भारत-अमरीका संबंधों के विरुद्ध जो तर्क दिए जाते हैं उनमें कितना दम है? अमेरिका के साथ घनिष्ठ साझेदारी बनाने में भारत को क्या आर्थिक और तकनीकी लाभ होग…
  continue reading
 
हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा बिठाई गयी उच्च स्तरीय समिति ने भारत में समकालिक चुनाव पर अपनी रिपोर्ट पेश की। सरकार एक देश एक चुनाव को लेकर काफ़ी संजीदा है। तो क्या है इस समिति के सुझाव? क्या इनसे समस्या सुलझेगी या और उलझेगी? इसी बात पर सुनिए आज की पुलियाबाज़ी। This week on Puliyabaazi, we discuss the High Level Committee Report on simultaneous electi…
  continue reading
 
भारत में ट्रैफिक की समस्या से तो हम सभी जूझते है, तो क्यों न इसी विषय पर आज एक विशेषज्ञ से बात की जाए? आज हमारे मेहमान हैं IIT-Delhi से जुड़े असिस्टेंट प्रोफ़ेसर राहुल गोयल जो भारतीय रास्तों को सुरक्षित बनाने के विषय पर संशोधन करते हैं। तो आइये जानते हैं उनसे ही कि क्या कारक है जो हमारे रास्तों को असुरक्षित बनाते हैं और उन्हें कैसे ठीक किया जाए। Our …
  continue reading
 
कहते है न कि पब्लिक पॉलिसी में अक्सर पब्लिक ही गायब रहती है। इसलिए हमारी कोशिश रहती है कि किसी तरह लोगों की लोकनीति में रुचि बढ़ाई जाए । पुलियाबाज़ी भी उसी दिशा में एक कदम है। अब इस श्रृंखला में एक और कड़ी जुड़ चुकी है—ख्याति, प्रणय और अनुपम की नयी किताब ‘We, the Citizens’ जो लोकनीति के मुश्किल पाठ चित्रों के द्वारा आसान भाषा में सीखाने की कोशिश करती…
  continue reading
 
ये DPI क्या होता है? टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में क्या नीतियाँ उभर कर आ रही है? इस हफ़्ते पुलियाबाज़ी पर भारत की टेक्नोलॉजी पॉलिसी में एक डुबकी टेक पॉलिसी विशेषज्ञ निखिल पाहवा के साथ। What constitutes Digital Public Infrastructure? How is the policy framework shaping up around DPI? What are the concerns for us as citizens as more and more things in our …
  continue reading
 
किसान आंदोलन सिर्फ भारत तक ही सीमित नहीं है। हाल ही में यूरोप भर के किसान भी अलग अलग मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे है। ऐसा क्यों? क्या है उनकी मांगे? क्या है जो खेती को दुसरे व्यव्यवसायों से अलग बनाता है? Farmers protest is not a phenomenon limited to India. Recently, farmers all across Europe have been protesting for various reasons? What are the p…
  continue reading
 
As election season arrives in India, we thought this was a good time to revisit our conversation about understanding the Indian voter. Listen in to this week’s Puliyabaazi as Rahul Verma, Fellow at Centre for Policy Research, joins us to discuss the changing trends in Indian elections. क्या भारतीय वोटर आर्थिक मुद्दे पर बटा है? क्या भारत में राजनैति…
  continue reading
 
This week on Puliyabaazi, listen in as Saurabh Chandra shares his words of advice about start-ups and entrepreneurship. How to evaluate your start-up idea? What are the ways to raise funding? When not to start-up? Listen in, and if you have any questions, do send them to us! ये स्टार्ट-अप क्या होता है? अपने स्टार्ट-अप आईडिया को कैसे परखा जाए, फंडिं…
  continue reading
 
This week on Puliyabaazi, Pakistani scholar and author Dr. Ayesha Siddiqa joins us to discuss her much acclaimed book Military Inc. We understand the concept of Milbus, how Pakistan’s military economy evolved, and how it affects Pakistan’s politics. Listen in. सुनिए इस हफ़्ते की पुलियाबाज़ी पाकिस्तान के मिलिट्री कारोबार के बारे में स्कॉलर और लेखक आएश…
  continue reading
 
A Republic Day Special Puliyabaazi on the idea of Constitutionalism. How did the idea of the modern Constitution emerge? What is the essence of it? What strengthens it? इस हफ़्ते गणतंत्र दिवस की हमारी परंपरा को जारी रखते हुए एक और पुलियाबाज़ी संविधान पर। संविधानवाद क्या है? क्या इस विचार को हमें पाश्चात्य विचार की तरह देखना चाहिए या एक आधुनिक विचार क…
  continue reading
 
इस हफ़्ते चर्चा भारत की व्यापार नीति पर। कैसे कुछ बड़ी कम्पनियों के फायदे के लिए लगाए जा रहे आयत कर से भारत की महिलाओं को रोज़गार देनेवाली टेक्सटाइल और अपैरल इंडस्ट्री को नुक्सान हो रहा है? This week on Puliyabaazi, we discuss how some flawed trade policies are hurting the Indian textile industry which employs a huge proportion of women. Join us on th…
  continue reading
 
Should India allow Indian citizens to hold dual citizenship? Is this a matter of principle or practicality? What are the pros and cons of allowing dual citizenship? We discuss this and more in this week’s Puliyabaazi. Check out: Dual citizenships to Indians possess challenge: EAM Jaishankar, but there is alternative Has the time come to reconsider …
  continue reading
 
क्या भारत चीन के मैन्युफैक्चरिंग मॉडल की नकल करके विकास कर पायेगा? क्या भारत अपनी जनसंख्या और भारत की सर्विस सेक्टर में बढ़त का फायदा उठाकर एक बेहतर विकास का रास्ता खोज सकता है? इसी विषय पर अर्थशास्त्री रोहित लाम्बा और रघुराम राजन की नयी किताब ‘ब्रेकिंग थी मोल्ड’ पर विस्तार में चर्चा। What should be India’s strategy so that it can grow rich before i…
  continue reading
 
क्या है एक धड़कते ऑनलाइन समाज को बनाने का फ़ॉर्मूला? क्यों बड़ी बड़ी कंपनियाँ इस काम में नाकाम होती नज़र आती है? सफल और स्वस्थ ऑनलाइन समुदाय की चाबी क्या है? इस विषय पर आज की पुलियाबाज़ी। What makes some online communities succeed, while others fail? Why is it so challenging to build online communities that thrive? We discuss the various factors that are…
  continue reading
 
इस हफ़्ते पुलियाबाज़ी पर चर्चा राजनीती में बढ़ते ध्रुवीकरण पर। लोग अक्सर दूसरी राजनीतिक पार्टी के समर्थकों से असहमत ही नहीं होते पर उन्हें नफरत भी करते है। इस प्रकार के तीखे ध्रुवीकरण के कारणों पर चर्चा एक समाजशास्री और डेटा साइंटिस्ट गौरव सूद से। This week, we explore the many aspects of increasing political polarisation with data scientist and indep…
  continue reading
 
इस हफ़्ते पुलियाबाज़ी पर चर्चा रक्तदान और अंगदान जैसे विवादित मुद्दे पर। क्या पैसे के लिए खून बेचना वैध होना चाहिए? क्या इससे भारत में खून की कमी से होती मृत्यु को घटाया जा सकता है? क्या है इसके नैतिक और सामाजिक मायने? आप भी जुड़ये इस पुलियाबाज़ी पर और हमसे साझा करिये अपने विचार। This week, we explore the ethical dilemmas and real life implications of …
  continue reading
 
इस टेक्निकल पुलियाबाज़ी पर सुनिए रेत से चिप बनाती मशीन की बेहद जटिल यांत्रिकी की बारे में IIT दिल्ली से जुड़े असिस्टेंट प्रोफ़ेसर अवनीश पाण्डेय के साथ। Why is it so complicated to manufacture the photolithography machines that are critical to chip manufacturing? This week enjoy this technical Puliyabaazi with Asst. Prof. at IIT-Delhi, Awanish Pandey, …
  continue reading
 
इस हफ़्ते पुलियाबाज़ी पर चर्चा भारत की इजराइल विदेश नीति पर, और प्रणय की इजराइल यात्रा पर आधारित कुछ अवलोकन। This week we dive into the history of how India’s ties with Israel have evolved over time. What has been India’s stance on the Israel-Palestine issue? How has diplomatic ties with Israel strengthened over time? And some observations from Prana…
  continue reading
 
इस हफ़्ते पुलियाबाज़ी पर बातें भारतीय संस्थानों के हाल चाल पर, लेखक सुभाशीष भद्रा के साथ। कैसी होनी चाहिए हमारी संस्थाएँ? उनके कार्यपालन में किस प्रकार पारदर्शिता की कमी है, और इसके क्या परिणाम है हम भारतीयों के जीवन पर। How too much government is curtailing the rights of Indians? Is there enough transparency and oversight over the functioning of Ind…
  continue reading
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका