Dear सार्वजनिक
[search 0]
अधिक
Download the App!
show episodes
 
Artwork

1
DHADKANE MERI SUN

Dr. Rajnish Kaushik

Unsubscribe
Unsubscribe
मासिक+
 
Self composed various aspects of love, various feelings, sensations and colors of love with enchanting and melodious words of Hindi and Urdu language have been presented in a very poetic manner in every episode of this podcast . All the episodes of this podcast are solemnly dedicated to all the lovers just as the cycle of love never ends in the same way these love lyrics episode will move on, move on and move on...
  continue reading
 
Dear Listeners! Welcome to My Podcast "अल्फ़ाज दिल से....️.... By Raghav Writing Solutions" which is organizing by Founder & CEO of Raghav Writing Solutions - Dr Raghav Chauhan. Here You will listen Many Kinds of Stories (Romantic, Thriller, Crime) which has written by Kehkasha and Voice by RJ Priya. So, connect with us and listen our podcast अल्फ़ाज दिल से....️.... By Raghav Writing Solutions.......with RJ Priya & RJ Shezlin... Check out our latest episodes.
  continue reading
 
Loading …
show series
 
तू वो ग़ज़ल है मेरी जिसमें तेरा होना तय है तू वो नज्म है मेरी जिसमें आज भी तेरी मौजूदगी तय है इसलिये नहीं... कि... तू मेरी दस्तरस में है बल्कि इसलिये...कि... तू आज भी मेरी नस - नस में है इसलिए हो चाहे ये कितना ही लंबा सफ़र ना थकेगा ना रुकेगा ये कारवाँ ना छूटेगी ये डगर क्यों कि... तेरा मेरा है प्यार अमर.....।…
  continue reading
 
कभी तेरे नैनों पे लिखा तो कभी नैनों के मोतियों पे लिखा कभी तेरे मासूम चेहरे पे लिखा तो कभी चेहरे की मासूमियत वाली बातों पे लिखा कभी इश्क़- ए -मिजाजी पे लिखा तेरी तो कभी इश्क़ - ए-दगाबाजी पे लिखा कभी ग़ज़ल लिखी कभी गीत लिखा तो कभी खत-ए-मोहब्बत लिखाद्वारा Dr. Rajnish Kaushik
  continue reading
 
मेरी सांसों में रहती है मगर आँखों से बहती है मैं तुझ बिन जी नहीं सकता धड़कने मेरी कहती हैं जो मिल जायेंगे मैं और तुम ज़मी जन्नत बनाऊंगा अमीरी हो या फकीरी हो सभी नखरे उठाऊंगा ज़माने भर की हर रौनक तेरे कदमो में लगाऊंगा कहेंगे लोग पागल जो गुज़र हद से भी जाऊँगा मरे सीने से लग के बस इतना सा ही कह दे तू मैं तेरी हूँ मै तेरी हूँ मैं तेरी हूँ..........…
  continue reading
 
उसने अपने खत में लिखा.... ये कैसा प्यार है तेरा... बिस्तर में सलवटें ही नहीं पड़ती, सलवटें पड़े भी तो कैसे... क्योंकि...तू वहाँ ... मैं यहाँ.... ये कैसा खुदा है मेरा .... धरती प्यास से तड़प रही है मेघ हैं कि बरसने का नाम ही नहीं लेते मेघ बरसे भी तो कैसे.... क्यों कि ... तू वहाँ... मैं यहाँ .... वो अक्सर अपने खत में लिखा करती थी........... रातां बिन…
  continue reading
 
क्या खूब समा था इश्क़ के महीने में - इश्क़ जवां था मौसम के थे नजारे आंखों के थे इशारे बातों में कशिश थी इतनी लहजे में तपिश थी इतनी जिस्म था - आग थी हर छुअन में एक धुआं था हसीना थी कमसिन दीवाना जवां था इश्क़ के महीने में इश्क़ भी जवां था .....ऐसे ही थे एहसास हमारे.....द्वारा Dr. Rajnish Kaushik
  continue reading
 
Dive into the heart of romance this Valentine's Day with "Half Love-Incomplete Dream." A tale of love's complexities and unfulfilled dreams, poetically captured in Dr. Rajnish Kaushik's stirring words: "आधा प्रेम जड़ है अनंत पीड़ा की, जिसमें अधूरे ख्वाब पनपते हैं। चलो छोड़ो मोहब्बत की बातेँ, खुद से लड़ कर खुद ही में सिमटते हैं।" Experience the inte…
  continue reading
 
ये छेड़छाड़ , ये आवारगी , और ये दास्ताँ-ए-मोहब्बत उस रोज़ उस रात की तन्हाई की है दोस्तों,जब हम भी मूड में थे और वो भी........ ......मगर... with full dedication.द्वारा Dr. Rajnish Kaushik
  continue reading
 
Embark on a Soulful Journey with 'Those Moments'! Listen now on Spotify, Amazon, and JioSaavn! Capturing the essence of unforgettable moments, this episode on #Dhadkane MeriSun podcast by Dr. Rajnish Kaushik is a must-listen! Join us for a heartfelt experience filled with soulful music, emotions, and cherished memories.…
  continue reading
 
उल्फत की बातेँ जन्मों के वादे वो रस्में वो कसमें और जन्नत सी रातें कितने जवां और कितने थे पक्के पत्थर की मानिंद तेरे इरादे फिर भी तूने जुल्म ये ढाया क्यूँ बेवफा मुझे इतना रुलाया मोहब्बत थी या फिर आवारगी थी कैसी वो तेरी दीवानगी थी कैसी वो तेरी दीवानगी थी........द्वारा Dr. Rajnish Kaushik
  continue reading
 
तुम जो धड़कती थी सीने में जिंदगी बनकर.....मेरे ज़िस्म मेरे शरीर में मेरी रूह बनकर.....मेरे दिल के हर हिस्से में दौड़ते रक्त प्रवाह की मानिंद..... कहीं तुम्हें कोई दर्द ना हो मेरी वज़ह से तुम्हें कोई आघात ना हो...मेरे प्रेम की निरंतरता उसकी एकाग्रता भंग ना हो नीरसता का एक अंश भी घर ना कर पाए हमारे प्रेम के अहसासों में.... शायद इसीलिए......तुम्हारी व…
  continue reading
 
अब लफ्जों में हैं उसके खामोशियां अब रही ना वो पहले सी नजदीकियां आती नहीं मुझको अब हिचकियाँ जाती नहीं मन से क्यूं सिसकियाँ याद आती हैं उसकी वो सरगोशियां कहता था उसको मैं "मासूम" तब उसकी मासूमियत ये क्या हो गया वो जो मुझसे मिला मेरी जां हो गया मोहब्बत भरी दास्ताँ हो गया संग मेरे चला अंग भी वो लगा रफ्ता रफ़्ता मेरी जाने जां हो गया वो मासूम इश्क़ वो मा…
  continue reading
 
अनुभवी लोग कहते हैं कि मोहब्बत की गांठ भले ही कच्ची डोर से क्यों ना बंधी हो मगर अनंत प्रेम की कड़ियों से जुड़ी होती है अनंत से अनंत तक आपके साथ खड़ी होती है कल भी आज भी.. ...... सांसों के साथ भी... सांसों के बाद भीद्वारा Dr. Rajnish Kaushik
  continue reading
 
जवानी जब से बहकी थी उसी का नाम लेती थी मोहब्बत प्यास है उसकी यही पैगाम देती थी मैं मजनूं था मैं रांझा था वो लैला हीर जैसी थी मेरी चाहत के ज़ज्बो को मेरा ईमान कहती थी मगर अब.... जो समझती थी इशारों को इशारों ही इशारों में भुलाके उन नज़ारो को मेरा अब दिल दुखाती है ना कहती है ना सुनती है बड़ी खामोश रहती है मेरे इश्क़-ए- बहारा में वो तीर-ए-ग़म चलाती है …
  continue reading
 
मैं आज भी वहीं हूँ मेरी चाहते और मेरा इश्क़ भी वहीं ठहरा हुआ है उसी मोड़ उसी राह पर जहाँ जुदा हुए थे हम.....बस...मैं ही कुछ पत्थर सा हो चुका हूँ और पत्थरों से टकराता हूँ मंजिलों की तलाश में हर रोज हर लम्हा और टूट कर बिखर जाता हूँ हर रोज हर लम्हा....कभी वक़्त मिले और उन्हीं राहों पर चलने की हूक उठे तेरे मन में...तो कभी आ...आ कभी और रख मेरे दिल पे हा…
  continue reading
 
तू कहती थी तेरी ही हूँ मैं तू कहती थी तेरी रहूंगी बगावत भी कर लूँगी जग से तेरी होने को सब कुछ सहूंगी समंदर की तरहा तू रहना मैं नदिया सी संग संग बहूँगी दर्द तूने दिया मर मिटा मैं लोग कहते हैं तू बेगुनाह थी आखिरी सांस तक तुझको चाहूँ तू क्या जाने तू मेरा खुदा थी बेपनाह इश्क़ करता था तुझसे मेरे जीने की तू ही वज़ह थी…
  continue reading
 
कुछ तेरी कुछ मेरी बातेँ होती थीं ...याद है ना तुझे...कुछ ऐसी भी रातें होती थीं ... रातों के वो हसीन लम्हे जिनमें होती थीं...कुछ .....बदमाशियां तेरी और कुछ .....गुस्ताखियां मेरीद्वारा Dr. Rajnish Kaushik
  continue reading
 
Neeli jheel ka aqs , raton ki haseen chandni , khwabon ki zamee , wafaon ki haseen waadiyan , jis taraf bhi nazar jaye har uss taraf bepanah husn me machalti qatil adayen ---- kiya kuchh nahi tha usme --- apne masoom lahje me prem ki kisi devi se kam nahi thi vo --------- tabhi to --- vo zawan raten jo uske husn - e - bagwan me guzrin , jab yadon k…
  continue reading
 
Bhoola nahi hoon aaj taK Holi ka vo faag Badan ranga tha chahat me Man me ishq ki aag Masti aisi mujhe chadhi Ragad diya gulal Khula nimantran de rahe the Gore gore gaal -----------jogeera saara ra raद्वारा Dr. Rajnish Kaushik
  continue reading
 
मेरे इश्क़ का तू दरिया सागर मैं चाहतों का चाहें आये तूफ़ाँ कितने तेरा प्यार राहतों सा तू ही ज़ख्म तू ही मरहम तू ही दर्द की दवा है सासों में तेरी खुशबू आँखों में तू बसा है कहती है दुनिया सारी मुझे तेरा ही नशा है मुझे तेरा ही नशा हैद्वारा Dr. Rajnish Kaushik
  continue reading
 
उल्फत की बातेँ जन्मों के वादे वो रस्में वो कसमें और जन्नत सी रातें कितने जवां और कितने थे पक्के पत्थर की मानिंद तेरे इरादे फिर भी तूने जुल्म ये ढाया क्यूँ बेवफा मुझे इतना रुलाया मोहब्बत थी या फिर आवारगी थी कैसी वो तेरी दीवानगी थी कैसी वो तेरी दीवानगी थी........
  continue reading
 
Tu ret pr likhi ibarat thi kabhi Ab to pattharon taq pe likh diya maine Dam hai to Mita ke dikha Kiya aandhi kiya toofan Ab to baarishon taq se Kah diya maine Ek baar teri yaadon ke babasta Jashn-e-mohabbat ko anjaam diya Sare vaadon sari kasmon sari rasmon ko bhi anjaam diya Sabke sab aaye pr Tu nahi aayee Rah rah ke teri yaaden aati rahi Dhadkane…
  continue reading
 
Prem ka seedha sambandh sparsh se hai---sparsh koi bhi ho--- jismani ya mansik ---vah aahat hai prem ki Kisi ko choone ya sochne se hame jo aanand aata hai vah aanand hi prem hai ---mohabbat hai ishq hai Aur yahi vah aanand bhi hai jo hame hamare prem ki pahli khabar deta hai Balki yah kahna bemani nahi hoga ki sparsh hi prem ki bhasha hai Kishi ke…
  continue reading
 
Mai jab aakash jitni anant unchaaiyon pe tha ---tab jakar tumne bataya ki ----prem nahi hai Shayad isliye ki --- tumhe unchaaiya pasand thi aur mujhe tum Tum zid thi meri Pr mai tumhari nahi Mai to aaj bhi tumhari halki si aahat pr hi chaunk padta hoo aise---- RET PR CHAND KI TASVEER HO JAISE
  continue reading
 
Dear Listeners! Gangster Love एक लव स्टोरी है, जिसके मुख्य पात्र हैं सुनहरा अली और आरूष राणा। एक ओर सुनहरा एक नेक दिल और अच्छी लड़की होती है, वहीं दूसरी ओर आरूष राणा कॉन्ट्रेक्ट किलर, स्मगलर और अय्याशी होता है। आरुष राणा, सुनहरा अली की ज़िन्दगी ,,,, रातो रात बदल देता है ...उसे एक इज्ज़तदार लड़की से एक कोठे वाली बना देता है....और फिर एक दिन सुनहरा क…
  continue reading
 
Dear Listeners! Gangster Love एक लव स्टोरी है, जिसके मुख्य पात्र हैं सुनहरा अली और आरूष राणा। एक ओर सुनहरा एक नेक दिल और अच्छी लड़की होती है, वहीं दूसरी ओर आरूष राणा कॉन्ट्रेक्ट किलर, स्मगलर और अय्याशी होता है। आरुष राणा, सुनहरा अली की ज़िन्दगी ,,,, रातो रात बदल देता है ...उसे एक इज्ज़तदार लड़की से एक कोठे वाली बना देता है....और फिर एक दिन सुनहरा क…
  continue reading
 
कमबख्त कैसा आशिक था दिल और मुल्क की सरहदों को एक समझ बैठा ये भी नहीं जान पाया कि दो मुल्कों की सरहदें ज़ज्बात-ए-मोहब्बत नहीं समझती... समझे भी आखिर क्यों क्यूँ कि सरहद का मतलब ही बंटवारा होता है,,,, ...मगर सरहदें चाहे कितनी हों,कैसी भी हों...... .......... ..कतरा - कतरा बहती रहती हो तुम हर वक्त - हर लम्हा मेरी नब्ज मे नब्ज रुक भी गयी कभी - तो क्या फ…
  continue reading
 
Dear Listeners! Gangster Love एक लव स्टोरी है, जिसके मुख्य पात्र हैं सुनहरा अली और आरूष राणा। एक ओर सुनहरा एक नेक दिल और अच्छी लड़की होती है, वहीं दूसरी ओर आरूष राणा कॉन्ट्रेक्ट किलर, स्मगलर और अय्याशी होता है। आरुष राणा, सुनहरा अली की ज़िन्दगी ,,,, रातो रात बदल देता है ...उसे एक इज्ज़तदार लड़की से एक कोठे वाली बना देता है....और फिर एक दिन सुनहरा क…
  continue reading
 
Dear Listeners! Gangster Love एक लव स्टोरी है, जिसके मुख्य पात्र हैं सुनहरा अली और आरूष राणा। एक ओर सुनहरा एक नेक दिल और अच्छी लड़की होती है, वहीं दूसरी ओर आरूष राणा कॉन्ट्रेक्ट किलर, स्मगलर और अय्याशी होता है। आरुष राणा, सुनहरा अली की ज़िन्दगी ,,,, रातो रात बदल देता है ...उसे एक इज्ज़तदार लड़की से एक कोठे वाली बना देता है....और फिर एक दिन सुनहरा क…
  continue reading
 
जब तक है जवानी खूँ में तेरे रग रग में मोहब्बत बसती हो प्यार भी हो तकरार भी हो बस गोवा जैसी मस्ती हो
  continue reading
 
Vo mere shauk ka aakhiri jaam thi Piyaas uski mujhe hr subha sham thi Jaga karti thi sang vo mere raat bhar Darmiyan ishq ke kitni masoom thi Vaade karti thi pakke harek baat pr Hum chale the jahan vo kathin thi dagar Dil do the magar Pr the hum safar Mil jate agar Zindagi chhanv thi Zindagi chhanv thi…
  continue reading
 
Mana ki use meri mohabbat dikhti nahi hai.... Mana ki meri aawaj us tak pahunchti nahi hai... Mai yah bhi manta hoo ki uski nigahen mujhe khojti bhi nahi hai... Magar mujhe vishwas hai ki koi to hai uske aur mere darmiyan jo uske dil pr kabhi kabhi dastak jaroor deta hoga... Kabhi Mai to kabhi Mera prem bankar... Kabhi to ahsaas hoga Kabhi to uski …
  continue reading
 
My dear Masoom...kaisi ho ...kaisi ho tum.. Kiya tumhe yaad hain milan ke vo pal, vo din,vo shaame aur vo raaten...ya bhool chuki ho - vaise mujhe to pahle se hi ehsaas tha ki tum ek din mujhe chhod hi dogi ...aur fhir ek din aakhirkar tumne chhod hi diya aur ab bhool bhi gai ho......magar nahi gai tum mere dil se,meri yaadon se,mere zahan se ...ma…
  continue reading
 
Mere jism me dil tha ki nahi, saanse chal rahin thee ki nahi, mai khud bhi vahan tha ki nahi Iska ahsas mujhe tab hua jab husan-e-yaara ke labon ne Mere labon ko choom liya ---fir kiya tha Maine usse kaha---- Dhadkane dil ki ab thum rahin hain meri Garm saanse bhi ab jum rahin hain meri Na satao labon se chhoo ke yoon tum Khwahisen vasl ki ab badh …
  continue reading
 
Kambakhat Kaun peeta hai tan ko jalane ke liye... Ye to...Shauk - e - insa...hai gum ko bhulane ke liye Uski yaadon ko bhulane ke liye Kiyon ki tazurbekar kahte hain ki sharab har marz ki dawa hoti hai dil toota ho ya mohabbat roothi ho Ya ho koi bhi gum... sabhi ka ilaaj bade saleeke se karti hai .....jo kabhi sharab jaisi dikhti thi .....aaj bhi …
  continue reading
 
नगमा जो जिंदगी का लिख रहा था मैं जिंदगी समझा जिसे उसे लिख रहा हूँ आज तक
  continue reading
 
Jab usne baat baat pe chhal karna shuru kiya Farebee mashooq ki taraha pal pal badalna shuru kiya Tab... Ham bhi apni mohabbat se mukar gaye Magar mohabbat Kam nahi hui Vo... jhoonthi , chhaliya, Farebee Meri zindagi se to chali gai Magar... yaadon se na gai Mere ahsaason se na gai Mere zazbaaton se na gai Mere khwabon se na gai Mere khwabon se na …
  continue reading
 
अनुभवी लोग कहते हैं कि मोहब्बत की गांठ भले ही कच्ची डोर से क्यों ना बंधी हो मगर अनंत प्रेम की कडियों से जुड़ी होती है अनंत से अनंत तक आपके साथ खड़ी होती है कल भी आज भी........ .....सांसों के साथ भी...सांसों के बाद भी
  continue reading
 
वह रिश्ता जो मेरी इबादतों का परिणाम था, वह रिश्ता जो मेरी कोशिशों का अंजाम था , झूठे इक़रार और एतबार के अग्निकुण्ड में स्वाहा हो गया...शायद इसीलिए वह दिल जो जो सिर्फ उसी के लिए धड़कता था, धड़कना भूल गया........दिल ही तो था...पत्थर थोड़ी था...टूट गया
  continue reading
 
Kiya uske sang guzare vo lamhe.... Vo mahakti subaha Vo bahakti shaamen Vo bikhrati raaten Vo hothon ki narmiyan Vo saanso ki garmiyan Vo baahon ki mastiyan Uske zism ko choo kr Sulag kr rah gai vo sardiyan Vo badmashiyan Aur gustakhiyan Kiya Bhool sakte ho kabhi.....
  continue reading
 
तेरे आंसू की खातिर मैं बिकता रहा दर्द कितना सहा तुझको दिखता रहा तूने मेरी मोहब्बत की तौहीन की ज़ख्म ऐसे दिए के मैं रिसता रहा ना समझा तुझे ना तेरी चाहते नाम " मासूम " तेरा मैं लिखता रहा तूने ठुकरा दिया प्यार मेरा सनम मेरे ख्वाबों फिर भी तू आती रही साँस आती रही...साँस जाती रही धड़कने मेरी तुझको बुलाती रहीं .....क्योंकि... तू लम्हा नहीं ....जिन्दगी थी…
  continue reading
 
उसने अपने खत में लिखा.... ये कैसा प्यार है तेरा... बिस्तर में सलवटें ही नहीं पड़ती, सलवटें पड़े भी तो कैसे...क्योंकि...तू वहाँ ...मैं यहाँ....ये कैसा खुदा है मेरा ....धरती प्यास से तड़प रही है मेघ हैं कि बरसने का नाम ही नहीं लेते मेघ बरसे भी तो कैसे....क्यों कि ...तू वहाँ...मैं यहाँ ....वो अक्सर अपने खत में लिखा करती थी.......... रातां बिन यारा तेर…
  continue reading
 
संग-ए-मर मर सा वो बदन खिलते होंठों का वो चमन आँखों में था तेरी सुरूर मुझको था तुझपे गुरूर इश्क़ का तेरे फितूर वो तेरी बातों का ख्याल वो तेरे चेहरे का नूर वो तेरे आगोश की गर्मी इश्क़ का तेरे फितूर
  continue reading
 
इश्क़ अधूरा मैं भी अधूरा जीवन मेरा हुआ ना पूरा उसने अपनी दुनिया बसाई दुनिया समझा मैंने जिसको भिगो गया वो बादल बनकर छत समझा था मैंने जिसको
  continue reading
 
तू तो अंजान थी मेरे ईमान से मेरे अरमाँ भी तब सब हैरान थे मेरी बाहों में जब तू सिमटने लगी हम खुद से बगावत करने लगे जब जाना तुझे तू है मेरा खुदा हम तेरी इबादत करने लगे उस रात की तन्हाई में चाहत की गहराई में जब चढ़ने लगीं मस्तियाँ प्यार की हम दोनों शरारत करने लगे जब जाना तुझे तू है मेरा ख़ुदा हम तेरी इबादत करने लगे…
  continue reading
 
मै तो घुलने लगा खुशबु-ए-यार में यार मेरा हुआ मेरे ऐतबार में सांसे थम सी गईं बर्फ सी जम गईं हम तुझसे नजाकत करने लगे जब जाना तुझे तू है मेरा खुदा हम तेरी इबादत करने लगे ......उस रात की तन्हाई में चाहत की गहराई में जब चढ़ने लगीं मस्तियाँ प्यार की हम दोनों शरारत करने लगे जब जाना तुझे तू है मेरा खुदा हम तेरी इबादत करने लगे…
  continue reading
 
Dekh teri wafa...dil se nikli dua Jism se rooh tak...kuchh hua-kuchh hua Kho na jaye kahin...piyar mera kabhi Hum teri hifajat karne lage Uss rat ki tanhai me Chahat ki gahrai me Jab chadhne lagi...mastiyan piyar ki Hum dono shararat karne lage Jab jana tujhe...tu hai mera khuda Hum teri ibadat karne lage…
  continue reading
 
Uss raat vo dariya - e - mohabbat me doobi hui.... Husan - e - shabab se chahten chhalakti hui.... Savan ki baarishen bhi ho gai thi benaqab.... Vo jab aayi uss raat mere pass... Bhigi zulfon se pani jhatakti hui.... Husn - e - shabab se chahten chhalakti hui..............
  continue reading
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका