Aviation सार्वजनिक
[search 0]
अधिक

Download the App!

show episodes
 
This Hindi Podcast brings to you in-depth conversations on politics, public policy, technology, philosophy and pretty much everything that is interesting. Presented by tech entrepreneur Saurabh Chandra, public policy researcher Pranay Kotasthane, and writer-cartoonist Khyati Pathak, the show features conversations with experts in a casual yet thoughtful manner. जब महफ़िल ख़त्म होते-होते दरवाज़े के बाहर, एक पुलिया के ऊपर, हम दुनिया भर की जटिल समस्याओं को हल करने में लग जाते हैं, तो हो जाती है ...
 
Loading …
show series
 
How is the story of Indian Aviation related to the making of modern India? What role did the aeroplane play in securing India’s sovereignty as an independent state? In this Puliyabaazi, we discuss the history of Indian Aviation, under what circumstances was the Indian Air Force established and what it reveals about the process of decolonisation wit…
 
Are public libraries still relevant? Should we revive public libraries in India? If yes, who should do it? We discuss India’s first public library movement and much more in this short Puliyabaazi. क्या पुस्तकालय आज भी प्रासंगिक है? आख़िर सार्वजनिक पुस्तकालयों की ज़रूरत क्यों है? सार्वजनिक पुस्तकालय सिर्फ पुस्तकालय का काम करते है कि कुछ और भी। इस “एक …
 
This week on Puliyabaazi, we deep dive into the world of Public Policy in India with Prof. Ajay Shah and his book ‘In Service of the Republic’. What are the frameworks that can help us utilise our limited state capacity effectively? And how do we contribute towards strengthening our state capacity? We discuss this and much more, so listen in. India…
 
What is the financial health of India’s local municipal bodies? What are the constraints that are affecting their effectiveness in providing good governance? In this episode of Puliyabaazi we discuss the recent report by RBI on Municipal Finance. कैसा है हमारी शहरी सरकारों का वित्तीय हाल? क्यों वो हमारी आम ज़रूरत की सुविधाएँ पहुँचाने में नाकाम हो रह…
 
भारत की “First Past The Post” निर्वाचन प्रणाली पर टीका टिप्पणी तो अक्सर सुनने को मिलती है। क्या “Proportional Representation” इसका विकल्प हो सकता है? या फिर उसमें भी ख़ामियाँ हो सकती है? क्या ऐसी कोई निर्वाचन प्रणाली है जिस में कोई ख़ामियाँ ही ना हो? इसी विषय पर “एक सवाल, कई जवाब” सीरीज़ का यह अंक। Would Proportional Representation system work better …
 
भारत में ९० के दशक में चाचा चौधरी से लेकर नागराज और सुपर कमांडो ध्रुव जैसे कई स्वदेशी कॉमिक पात्र घरेलु नाम रह चुके है। पर क्या कॉमिक्स और एनिमेशन सिर्फ बच्चों के पढ़ने या देखने की चीज़ है या बड़े भी इसका लुत्फ़ उठा सकते है? इस मज़ेदार इंडस्ट्री में नया क्या हो रहा है ये समझने के लिए हमने बात की कार्टूनिस्ट सुमित कुमार से, जो बकरमैक्स नामक एक कॉमिक्स और…
 
राज्यों के बीच निवेश आकर्षित करने के लिए मुक़ाबला कैसा होना चाहिए? इसके क्या फायदे है और क्या नुकसान? क्या निवेश के बदले में दी जाने वाली तगड़ी टैक्स छूट वाज़िब है ? इस बार “एक सवाल, कई जवाब” के इस अंक में हमने बात की कॉम्पिटिटिव फेडरलिस्म यानी कि स्पर्धात्मक संघवाद पर। In this episode, we discuss frameworks to think about competitive federalism. For …
 
US और चीन के बीच का रिश्ता खट्टा मीठा सा रहा है. कई मामलो में वे सबसे अच्छे दोस्त भी रहे है और कई मुद्दों में उन्हें एक दुसरे के विपरीत भी खड़े देखा है. दोनों ही देश superpowers है तोह कही न कही उनसे ये बर्ताव अपेक्षित भी है. अमेरिका-चीन संबंधों का भविष्य क्या है? क्या यह चिप युद्ध कभी खत्म होगा? ऐसे और ऐसे और भी भी बहुत से विषयों पर, सुनिए इस हफ्ते…
 
ऐसे समय में, जहां बढ़ती कीमतें एक चिंताजनक विषय हैं, पानी जैसी बुनियादी वस्तु की कीमत क्या होनी चाहिए? और वास्तव में पानी की कीमत कितनी है? ऐसे मुद्दों पर सुनिए सौरभ, प्रणय और ख्याति के साथ इस हफ्ते की पुलियाबाजी। ये हमारी नई कोशिश "एक सवाल, कई जवाब" का एक और अंक है। इस बार का सवाल है- "पानी की असली क़ीमत जानना ज़रूरी क्यों है?" In times, where inc…
 
With DALL-E, a machine learning tool to create images from text having gone open access last week, we discuss the implications of AI for art and artists with cartoonist and writer Khyati Pathak. Check her work at thescribblebee.com Puliyabaazi is on these platforms: Twitter: https://twitter.com/puliyabaazi Instagram: https://www.instagram.com/puliy…
 
हम अक़्सर कहते है कि समाज, सरकार, और बाज़ार के बीच तालमेल बढ़ाने की ज़रूरत है। इस संतुलन को कैसे समझा जाए? समाज को किस तरह से बदलाव का भागीदार बनाया जाए? आप और हम क्या भूमिका अदा कर सकते हैं? इन्हीं कुछ सवालों पर चर्चा लेखिका और philanthropist रोहिणी निलेकणी के साथ। उनकी नई किताब Samaaj, Sarkaar, Bazaar - A Citizen-First Approach इस विषय पर गहन चिं…
 
प्रधानमंत्री ने जब से डिजिटल इंडिया का ख्वाब पूरे देश को दिखाया है, तब से UPI के ज़रिये payments का होना आम बात हो चुकी है. हाल ही में सुनने में आया था की सरकार हर UPI के द्वारा हुई payment पर एक Extra Fee लागू करने का सोच रही है. क्या हो सकती है ये fee? क्या इससे UPI के लोकप्रियता पे फर्क पड़ेगा? ऐसे ही कुछ विषयो पर सुनिए आज की पुलियाबाज़ी. ये हमारी …
 
कहते हैं मुफ्त का सामान सबको पसंद आता है, पर शायद प्रधानमंत्री जी को नहीं. हाल ही में उनके "रेवड़ी" वाले कमेंट पर कुछ चिंगारी भड़की थी. अब ये इशारा पंजाब और दिल्ली की सरकार को था? क्या ये निशाना सोच समझ के साधा गया था? या बस ऐसे ही प्रधानमंत्री जी रेवड़ी खाना चाहते थे? ऐसे ही कुछ विषयों पर सुनिए सौरभ और प्रणय की पुलियाबाज़ी ये हमारी नई कोशिश "एक सवाल, …
 
कहते हैं हर नीति अच्छी राजनीति नहीं होती। शायद ऐसा ही कुछ हुआ दिल्ली की excise नीति के साथ। इसी विषय पर सुनिए सौरभ और प्रणय की पुलियाबाज़ी। ये हमारी नई कोशिश "एक सवाल, कई जवाब" का एक और अंक है। इस बार का सवाल है- "दिल्ली की Excise नीति से हमें क्या सबक मिलता है?" It is often said that a good policy need not prove to be good politics. Perhaps somethi…
 
भरत ने चीन-ताइवान मुद्दे पर अभी तक आगे आ कर कुछ ठोस नहीं कहा है। माना जा रहा है कि अगर ये मुद्दा और आग पकड़ता है तो हमें शायद एक और "यूक्रेन-रूस" देखने मिल सकता है।इस विषय पर भारत का रवैया कैसा होना चाहिए... इसी पर है हमारी आज की पुलियाबाज़ी। ये हमारी नई कोशिश "एक सवाल, कई जवाब" का एक और अंक है। इस बार का सवाल है- "ताईवान मुद्दे पर भारत का रवैया क्या…
 
भारत के श्रम कानूनों को कैसे बेहतर बनाया जाए, इसी विषय पर चर्चा भूवना आनंद के साथ। In this episode, Bhuvana Anand, co-founder and director of Trayas, explains how well-meaning laws often create barriers to employment. She also discusses laws that specifically exclude women’s employment. We discuss some reform trajectories. Read more: State of Discr…
 
हाल ही में खबर आई थी कि 2021 में 1 लाख 60 हज़ार भारतीयों ने नागरिकता त्याग दी। देखा जाए तो ये कहानी पहली बार नहीं दोहराई जा रही। एमिग्रशन एक सत्य है और ऐसे विषय पर सौरभ और प्रणय की पुलियाबाज़ी तो बनती है। ये हमारी नई कोशिश "एक सवाल, कई जवाब" का एक और अंक है। इस बार का सवाल है- "क्या एमिग्रशन से भारत का नुक़सान हो रहा है?" Recently there was news that …
 
कई संस्थाएं ऐसी है जो इस गणतंत्र को और मज़बूत कर सकती है। क्या हो सकती है ऐसी संस्थाएं? कैसे हो सकता हमारा देश और बहतर? ऐसी ही कुछ विषयों पर सुनिए प्रणय और सौरभ की पुलियाबाज़ी। ये हमारी नई कोशिश "एक सवाल, कई जवाब" का एक और अंक है। इस बार का सवाल है- "सरकार 2.0 कैसी हो?" We should always thrive to be better. There are many institutions which can furth…
 
हाल ही में पंजाब ने अपना बजट पेश किया, और उसी के साथ एक "white paper" भी। इस बजट के चर्चा में रहने के कई कारण थे। एक ये भी, कि पिछले कुछ समय में पंजाब ने आमदनी की सूची में ख़ुद को उन्नीसवें स्थान पर गिरते हुए देखा है। ये हमारी नई कोशिश "एक सवाल, कई जवाब" का एक और अंक है। इस बार का सवाल है- "पंजाब अव्वल नम्बर से उन्नीसवें पर कैसे आगया?" Recently, the…
 
सोशल मीडिया का प्रभाव कितना ज़्यादा है, ये अब कोई छुपी हुई सी बात नहीं... टेबल पर खाना बाद में आता है और सब उसकी तस्वीर लेने के लिए फ़ोन पहले से तैयार रखते हैं। कहा जाता है कि लोग अब तस्वीरों यादों के लिए नहीं, "Likes" के लिए खिंचवाते हैं। कब हुआ सोशल मीडिया इतना ज़रूरी? क्यों हुआ ऐसा? क्या प्रभाव है सोशल मीडिया का हमारी आज की ज़िंदगी में?ऐसी ही कुछ वि…
 
अग्निपथ योजना पर हाल ही में देश में काफ़ी बेचैनी और अशांति बनी हुई है। इस योजना के अंतर्गत देश के नागरिकों को 3 वर्ष के लिए सेना में भर्ती होने का मौका मिलेगा। इस योजना पर गहराई में पुलियाबाज़ी पहले भी हुई है और शायद आगे भी होती रहेगी। आज की पुलियाबाज़ी भी इस विषय पर आधारित है। ये हमारी नई कोशिश "एक सवाल, कई जवाब" का एक और अंक है। इस बार का सवाल है- "…
 
मीडिया को लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ भी माना जाता है। हर स्तम्भ का अपना विशेष कार्य होता है और कुछ विशेष ज़िम्मेदारियाँ भी। इसमें कुछ आश्चर्य की बात नहीं अगर एक स्तम्भ से दूसरे स्तम्भ के चलन पर प्रभाव पड़े पर वो प्रभाव अगर सही चलन में बाधा बन जाए, तो चिंताजनक बात हो सकती है। इस बार की पुलियाबाज़ी इसी विषय पर संवाद आरम्भ करती है। ये हमारी नई कोशिश "एक सवा…
 
आर्थिक कूटनीति के बारे में अगर बात की जाए तो कहा जा सकता है कि वह और कुछ नहीं बस व्यापार बढ़ाने, निवेश को बढ़ावा देने और बहुपक्षीय व्यापार समझौतों, आदि पर सहयोग करके देश की अर्थव्यवस्था के विकास के लिए सरकारी साधनों का उपयोग करना ही होता है। इसका उपयोग विदेश नीति के उद्देश्यों को पूरा एवं बढ़ावा देने के लिए भी किया जाता है। इस बार की पुलियाबाज़ी इसी वि…
 
There is a lot of speculation over the number of lives lost due to COVID-19 in India. The government-reported estimates vary significantly from those estimated by the World Health Organisation (WHO). Estimating this number well is important for designing public policy measures to combat future pandemics. So, in this episode, we spoke with Mihir Mah…
 
मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र लंबे समय से भारत की अर्थव्यवस्था की कमजोर कड़ी रहा है। इस क्षेत्र की चुनौतियों और अवसरों को समझने के लिए, हमने किसी ऐसे व्यक्ति से बात की, जिसने भारत में एक मैन्युफैक्चरिंग कंपनी का निर्माण, संचालन और सफलतापूर्वक निकास किया है। हमारे साथ जुड़ रहीं हैं हेमा हट्टांगडी, कॉनज़र्व सिस्टम्स की प्रबंध निदेशक और सीईओ - एक ऊर्जा मीटर…
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका

Google login Twitter login Classic login