show episodes
 
"अम्बे तू है जगदम्बे काली" माता की विख्यात आरती है। इसके गायन से माँ दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त होता है। माँ के विभिन रूपों की स्तुति आप इस आरती के माध्यम से कर सकते है। आइये सुनते है माँ की पावन आरती।
 
श्री हरि विष्णु के सातवे अवतार मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम की चालीसा का पाठ करने से सभी भक्तो की समस्त समस्याएं धीरे धीरे समाप्त हो जाती है। राम चालीसा का नित्य पाठ करने से व्यक्ति का मन शांत होता है और उसमें ज्ञान - विवेक का विकास होता है। तो चलिए सुनते है रघुकुलनंदन प्रभु श्री राम जी की चालीसा।
 
S
Sanatan Satya

1
Sanatan Satya

Sanatan Satya

Unsubscribe
Unsubscribe
मासिक+
 
धर्म,दर्शन,ज्योतिष,समाज,राजनीती और मानवीय संवेदनाओ का वैज्ञानिक,आध्यात्मिक और व्यवहारिक विश्लेषण.
 
भगवान राम के अनन्य सेवक श्री हनुमानजी अपने भक्तों पर आने वाले सभी संकटों को हर लेते हैं। तभी उनको संकट मोचक भी कहा जाता है। प्रत्येक भक्त को हनुमान जी की पूजा करने के बाद अंत में रोज उनकी आरती करनी चाहिए। कहा जाता है कि मंगलवार को हनुमान जी की आरती करने से हनुमान जी अत्यंत खुश होते हैं। उनकी पावन आरती करने से सभी प्रकार की नकारात्मक शक्तियां दूर हो जाती हैं और घर में सुख - समृद्धि आती है।
 
ॐ महालक्मी नमो नमः मंत्र के जाप करने से लक्ष्मी माता प्रसन्न होती है और भक्तो पर अपनी कृपा दृष्टि बनाये रखती है। इस मंत्र का अनुवाद है: "ओम। हम श्री महा विष्णु की पत्नी, महान देवी श्री लक्ष्मी का ध्यान करें। वह तेजोमय महा लक्ष्मी देवी हमारे मन को समझ से प्रेरित और प्रकाशित करें।" नियमित रूप से इस मंत्र के पवित्र संस्कृत शब्दों को सुनने से भक्तो को सुख समृदि की प्राप्ति होती है। आइये सुनते है महालक्मी जी के चमत्कारिन मंत्र को।
 
हनुमान चालीसा की सैंतीसवी चौपाई “जै जै जै हनुमान गोसाईं। कृपा करहु गुरुदेव की नाई।।” में तुलसीदास जी कहते है "हे स्वामी हनुमानजी। आपकी जय हो, जय हो, जय हो। आप मुझ पर कृपालु श्री गुरुजी के समान कृपा कीजिए। तुलसीदास जी यहाँ केहना चाहते है की जीवन में और कोई योग्य गुरु न मिले तो हनुमान जी को गुरु और हनुमान चालीसा को ही मंत्र बना लीजिए।
 
"जैसा की नाम से स्पष्ट होता है, बजरंग बाण एक बाण के सामान काम करने वाला पाठ है । इसके अंतर्गत हनुमान जी के बल, बूढी व अनेक गुणों का बखान करते हुए हनुमना जी की सौगंध दी जाती है किस प्रकार श्री राम के कार्यो को पूर्ण किया था, उसी प्रकार आपको मेरे कार्या को भी सफल करना होगा। मंगलवार के दिन चमत्कारी बजरंग बाण का पाठ करना बहुत लाभकारी होता है। जिस घर में बजरंग बाण का नियमित पाठ होता है, वहां दुर्भाग्य, भूत प्रेत का प्रकोप और असाध्य शारीरिक कष्ट नहीं होते। "
 
आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ कहा जाता है कि आरती के बिना पूजा अधूरी मानी जाती है। आरती के बाद ही पूजा का पूर्ण फल प्राप्त होता है। कुंज बिहारीजी की आरती भी एक ऐसे पावन आरती है जो शंख, घंटी और करतल बजाते हुए परिवार के साथ भक्ति के साथ गाई जाती है | भगवान श्री कृष्ण के साथ देवी राधा का यह आरती गीत वातावरण को आनंदित करता है। आइये सुनते है आरती कुंजबिहारी की।
 
गणेश जी की पूजा और आरती के बिना कोई भी पूजा, अनुष्ठान पूर्ण नहीं होते। पूजा किसी भी देवी-देवता की क्यों ना हो, गणपति जी की आरती के बिना पूजा सफल नहीं मानी जाती है। गणेश जी की पूजा करने से दाम्पत्य जीवन में सुख और सौभाग्य आता है और घर में समृद्धि बढ़ती है। खास कर के बुधवार को उनकी पूजा करने से गणेश जी जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं। तो आइये सुनते है उनकी पावन आरती।
 
गुरुवार का दिन साईं बाबा के भक्तों के लिए खास दिन होता है। मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान साईं के सामने साईं मंत्र जाप करने से सौभाग्य प्राप्त होता है। अगर साई भक्त उनके मंत्र का १०८ बार जाप करते है तो साई बाबा उन्हें हर कष्ट और दुःख से बचा लेते है। चलिए करते है साई बाबा के चमत्कारी मंत्र "ॐ साई नमो नमः" का १०८ बार जाप।
 
सनातन धर्म में पूजा-पाठ के दौरान मंत्रों के उच्चारण पर विशेष बल दिया जाता है। भगवान शिव की पूजा में कोई विशेष नियम नहीं होते। बल्कि भोले नाथ तो सिर्फ अपने भक्तो के द्वारा किये गए उनके मंत्र के उच्चारण से ही प्रसन हो जाते है। अगर भक्‍त सच्‍चे मन से इनका नाम भी पुकार ले तो भोले भंडारी उसकी हर मनोकामना पूरी कर देते है। इसलिए आइये और सुने शिवे जी की पावन आरती।
 
स्कंद पुराण में वर्णित एक कथा के अनुसार बिना आरती के राम जी की पूजा को संपूर्ण नहीं माना जाता। राम जी की आरती सभी आरतीयो में से पावन मानी जाती है। कहा जाता है कि राजा राम चंद्र भगवान की आरती सुनने मात्र से सभी समस्याओं का समाधान हो जाता है। आइये सुने आरती राम जी की।
 
गुरुवार के दिन साईं भक्त साईंबाबा की कृपा पाने के लिए अनेक पूजा उपाय, स्तुति का पाठ या मंत्रों का जप भी करते हैं। गुरुवार के दिन यदि साईं बाबा के इन मंत्रों का 108 बार जाप किया जाए तो जीवन में खुशियां आती हैं और हर प्रकार के कष्ट और बाधाओं से मुक्ति मिलती है। उनके मंत्र जप से ईर्ष्या, द्वेष, स्वार्थ, कलह आदि सरे बुरे भाव दूर हो जाते है। आइये सुने साई बाबा के विशेष मंत्र को।
 
विवेचना

1
विवेचना

BBC Hindi Radio

Unsubscribe
Unsubscribe
साप्ताहिक
 
विवेचना: व्यक्तियों, विषयों या घटनाओं की गहरी पड़ताल करने वाला कार्यक्रम. रेहान फ़ज़ल इसे हर शुक्रवार को प्रस्तुत करते हैं
 
ॐ नमः शिवाय भगवन शिव के सबसे अधिक जाप किये जाने वाले मंत्रो में से एक है। ये मंत्र भगवन शिव को समर्पित है जिन्हे महादेव के नाम से भी जाना जाता है। ॐ को भ्रमांड की ध्वनि माना जाता है. इसका अर्थ है प्रेम और शान्ति। नमः और शिवाय का एक साथ अर्थ है पांच तत्व - पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश। शिव मंत्र के उपचारण से इंसान नकारात्मकता को दूर कर सकता है और इंद्रियो पर नियंत्रणद करना सिखाता है।
 
गणेश जी के मंत्र का जाप करने से सभी भक्त अपने दुखों से मुक्ति पा सकते है। हिन्दू धार्मिक मान्यता के अनुसार गणेश जी को एक ऐसे देवता के रूप में पूजा जाता है जो अपने भक्तों के सभी दुखों को हर लेते हैं। इसलिए गणेश जी को विघ्नहर्ता यानी की सभी विघ्नों को हरने वाला भी कहा गया है। हिन्दू धर्म को मानने वाले सभी लोग किसी भी शुभ कार्य को शुरु करने से पहले गणेश जी की पूजा और उनके मंत्र का उच्चारण ज़रूर करते हैं।
 
सनातन धर्म में ॐ को बहुत ही प्रभावशाली माना गया है। ॐ का उच्चारण करते समय तीन अक्षरों की ध्वनि निकलती है। ये तीन अक्षर क्रमशः अ+उ+म् हैं। इसमें 'अ' वर्ण 'सृष्टि' का घोतक है 'उ' वर्ण 'स्थिति' दर्शाता है जबकि 'म्' 'लय' का सूचक है। इन तीनों अक्षरों में त्रिदेव यानी (ब्रह्मा,विष्णु,महेश) का साक्षात वास माना जाता है। ॐ के जाप को अनिष्टों का समूल नाश करने वाला माना गया है। एहि नहीं, ॐ के उच्चारण से शारीरिक और मानसिक रूप से शांति भी प्राप्त होती है।
 
P
Pankaj Solanki

1
Pankaj Solanki

Pankaj ngvs

Unsubscribe
Unsubscribe
मासिक
 
Founder ~ New Green Valley School _ Ramgarha , Satrana , Nasrullaganj ( M.P. ) working for education. थक कर ना बैठ ऐ मंज़िल के मुसाफिर, मंज़िल भी मिलेगी और सपना 🇮🇳 पुरा होने पर मजा भी आयेगा ||
 
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार गायत्री मंत्र का जाप करने से व्यक्ति के अंदर सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। गायत्री मंत्र का जाप तीन बार किया जा सकता है। पहला समय है सूर्योदय से ठीक पहले, जिसे सूर्योदय के बाद तक करना चाहिए। दूसरा समय है दोपहर का और तीसरा समय है सूर्यास्त से ठीक पहले और सूर्यास्त के बाद तक करना चाहिए। कहते हैं कि गायत्री मंत्र के जाप से दुख और दरिद्रता का नाश होता है, मन शांत और एकाग्र रहता है और मुखमंडल पर चमक आता है।
 
सत्यनारायण भगवान की कथा लोक में प्रचलित है। हिंदू धर्मावलंबियो (धर्मावलम्बियों) के बीच सबसे प्रतिष्ठित व्रत कथा के रूप में भगवान विष्णु के सत्य स्वरूप की सत्यनारायण व्रत कथा है। कुछ लोग मनौती पूरी होने पर, कुछ अन्य नियमित रूप से इस कथा का आयोजन करते हैं। सत्यनारायण व्रत कथा के दो भाग हैं, व्रत-पूजा एवं कथा। सत्यनारायण व्रतकथा स्कंदपुराण के रेवाखंड (रेवाखण्ड) से संकलित की गई है।
 
सत्यनारायण भगवान की कथा लोक में प्रचलित है। हिंदू धर्मावलंबियो (धर्मावलम्बियों) के बीच सबसे प्रतिष्ठित व्रत कथा के रूप में भगवान विष्णु के सत्य स्वरूप की सत्यनारायण व्रत कथा है। कुछ लोग मनौती पूरी होने पर, कुछ अन्य नियमित रूप से इस कथा का आयोजन करते हैं। सत्यनारायण व्रत कथा के दो भाग हैं, व्रत-पूजा एवं कथा। सत्यनारायण व्रतकथा स्कंदपुराण के रेवाखंड (रेवाखण्ड) से संकलित की गई है।
 
सत्यनारायण भगवान की कथा लोक में प्रचलित है। हिंदू धर्मावलंबियो (धर्मावलम्बियों) के बीच सबसे प्रतिष्ठित व्रत कथा के रूप में भगवान विष्णु के सत्य स्वरूप की सत्यनारायण व्रत कथा है। कुछ लोग मनौती पूरी होने पर, कुछ अन्य नियमित रूप से इस कथा का आयोजन करते हैं। सत्यनारायण व्रत कथा के दो भाग हैं, व्रत-पूजा एवं कथा। सत्यनारायण व्रतकथा स्कंदपुराण के रेवाखंड (रेवाखण्ड) से संकलित की गई है।
 
सत्यनारायण भगवान की कथा लोक में प्रचलित है। हिंदू धर्मावलंबियो (धर्मावलम्बियों) के बीच सबसे प्रतिष्ठित व्रत कथा के रूप में भगवान विष्णु के सत्य स्वरूप की सत्यनारायण व्रत कथा है। कुछ लोग मनौती पूरी होने पर, कुछ अन्य नियमित रूप से इस कथा का आयोजन करते हैं। सत्यनारायण व्रत कथा के दो भाग हैं, व्रत-पूजा एवं कथा। सत्यनारायण व्रतकथा स्कंदपुराण के रेवाखंड (रेवाखण्ड) से संकलित की गई है।
 
लक्ष्मी जी को धन की देवी माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि जिस घर में लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है उस घर में बरकत का वास होता है। लक्ष्मी जी की आरती व पूजा करने से सुख-समृद्धि प्राप्त होती है। कहते हैं कि अगर धन की देवी लक्ष्मी की आरती करके पूजा की जाए तो वो प्रसन्न हो जाती हैं और अपने भक्तों को सुख-समृद्धि का आर्शीवाद देती हैं। लक्ष्मी जी की आरती और चालीसा पाठ कर आप मां की आराधना कर सकते हैं। यह आरती करने से विशेष फल प्राप्त होता है।
 
सत्यनारायण भगवान की कथा लोक में प्रचलित है। हिंदू धर्मावलंबियो (धर्मावलम्बियों) के बीच सबसे प्रतिष्ठित व्रत कथा के रूप में भगवान विष्णु के सत्य स्वरूप की सत्यनारायण व्रत कथा है। कुछ लोग मनौती पूरी होने पर, कुछ अन्य नियमित रूप से इस कथा का आयोजन करते हैं। सत्यनारायण व्रत कथा के दो भाग हैं, व्रत-पूजा एवं कथा। सत्यनारायण व्रतकथा स्कंदपुराण के रेवाखंड (रेवाखण्ड) से संकलित की गई है। Click on this link to start your own podcast - https://studio.hubhopper.com/?utm_source=host_feed_programme&utm_med ...
 
Gita , krishna and success stories , ekadashi. "समय ⏲️को भी समय⏰ लगता है, समय ⏱️ बदलने में। इसलिए अपनेआप को समय दें,इस आपके ही चैनल के माध्यम से।" "श्रीमद्भगवद्गीता" के वजह से आपके जीवन में सफलता आए और यह चैनल उसका हिस्सा बनें इसमें मेरा सौभाग्य है। आपकी सफलता के लिए मंगल कामना FIRST QUIZE 2021 :- https://forms.gle/HDJ8YKqd7WFr9XuE8 Subscribe my youtube channel-- https://www.youtube.com/channel/UCLhT51Flg0sV8TKM5Mbj5Cg
 
https://linktr.ee/Joshuto, Logo https://Monishry.tumblr.com मेरा अनुभव इच्छुक लोगों के साथ बाँटने के लिए मेरी वेब साईट HTTPS://Philosia.in की अंग्रेज़ी पोस्ट को भी हिंदी में इस पाड्कैस्ट के माध्यम से आप तक पहुँचाने का प्रयत्न करूँगा। ध्यान का और विशेषकर awareness meditation याने सहज ध्यान जो बुद्ध और कबीर ने सुझाया था। अपना काम करते हुए अपनी जागरूकता हम क्या कर रहे हैं, और कौन कर रहा है इस पर बनाए रखना। यही सहज ध्यान है। इस यात्रा पर निकलना ही हर मनुष्य का स्वधर्म है। चाहे सामूहिक धर्म वह इस ...
 
The purpose of the Om Gurudev Namo channel is to protect the priceless heritage of our sages and saints for the coming generation. In this present world, when we have a shortage of time for reading our spiritual texts, we are using a medium of short storytelling, which seems to be most effective in this modern age. आद्यात्मिक कथाएं। सनातन धर्म। संत मत। साखी साग्रह। संत कबीर। महाऋषि वेदव्यास। महाभारत। रामयण। भगवत गीता। ऋषि मुनि। साधु। गुरु। Hindi Spiritual Stories | Santana Dharma | Hinduism ...
 
श्रीमद_भगवत_गीता_सार-_अध्याय_Shrimad_Bhagawad_Geeta_With_Narration_Chapter_Shailendra_Bharti
 
जब युधिष्ठिर कौरवों के साथ जुए में अपना सब कुछ हारकर अपने भाइयों और द्रौपदी के साथ वनवास का समय काट रहे थे, तब एक दिन ऋषि बृहदश्व वहाँ पधारे। युधिष्ठिर ने ऋषि का यथोचित सत्कार करने के बाद उनसे कहा,"महाराज! मुझसे ज्यादा अभागा कौन होगा इस संसार में जिसने अपना सब कुछ जुए में गवाँ दिया और अब यहाँ अपने परिवार के साथ वन में भटक रहा है।" इस पर महर्षि बृहदश्व ने कहा,"धर्मराज! ऐसा नहीं है। मैं आपको राजा नल कि कहानी सुनाता हूँ।" महर्षि बृहदश्व ने युधिष्ठिर को राजा नल और दमयन्ती के प्रेम और वियोग की जो ...
 
H
Holi Special

1
Holi Special

Hubhopper

Unsubscribe
Unsubscribe
मासिक
 
होली (Holi) वसंत ऋतु में मनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण भारतीय और नेपाली लोगों का त्यौहार है। यह पर्व हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। होली रंगों का तथा हँसी-खुशी का त्योहार है। यह भारत का एक प्रमुख और प्रसिद्ध त्योहार है, जो आज विश्वभर में मनाया जाने लगा है। रंगों का त्यौहार कहा जाने वाला यह पर्व पारंपरिक रूप से दो दिन मनाया जाता है। यह प्रमुखता से भारत तथा नेपाल में मनाया जाता है। यह त्यौहार कई अन्य देशों जिनमें अल्पसंख्यक हिन्दू लोग रहते हैं वहाँ भी धूम-धाम ...
 
।। सायंकालीन सन्त-स्तुति ।। सब सन्तन्ह की बड़ि बलिहारी । उनकी स्तुति केहि विधि कीजै , मोरी मति अति नीच अनाड़ी ।। सब ।1। दुख-भंजन भव-फंदन-गंजन , ज्ञान-ध्यान-निधि जग-उपकारी । विन्दु-ध्यान-विधि नाद-ध्यान-विधि , सरल-सरल जग में परचारी ।। सब ।2। धनि ऋषि सन्तन्ह धन्य बुद्ध जी , शंकर रामानन्द धन्य अघारी । धन्य हैं साहब सन्त कबीर जी , धनि नानक गुरु महिमा भारी ।। सब ।3। गोस्वामी श्री तुलसि दास जी , तुलसी साहब अति उपकारी । दादू सुन्दर सूर श्वपच रवि , जगजीवन पलटू भयहारी ।। सब ।4। सतगुरु देवी अरु जे भये ...
 
Loading …
show series
 
मध्य युग के समुद्र गुप्त कहे जाने वाले हेमू विक्रमादित्य के जीवन रेहान फ़ज़ल की विवेचनाद्वारा BBC Hindi Radio
 
विवेचना में रेहान फ़ज़ल नज़र डाल रहे हैं चंद्रशेखर आजाद के रोमांचक जीवन परद्वारा BBC Hindi Radio
 
इमरजेंसी की 47वीं बरसी पर रेहान फ़ज़ल याद कर रहे हैं उस पूरे प्रकरण को विवेचना में.द्वारा BBC Hindi Radio
 
जैसा की नाम से स्पष्ट होता है, बजरंग बाण एक बाण के सामान काम करने वाला पाठ है । इसके अंतर्गत हनुमान जी के बल, बूढी व अनेक गुणों का बखान करते हुए हनुमना जी की सौगंध दी जाती है किस प्रकार श्री राम के कार्यो को पूर्ण किया था, उसी प्रकार आपको मेरे कार्या को भी सफल करना होगा। मंगलवार के दिन चमत्कारी बजरंग बाण का पाठ करना बहुत लाभकारी होता है। जिस घर में…
 
आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥ कहा जाता है कि आरती के बिना पूजा अधूरी मानी जाती है। आरती के बाद ही पूजा का पूर्ण फल प्राप्त होता है। कुंज बिहारीजी की आरती भी एक ऐसे पावन आरती है जो शंख, घंटी और करतल बजाते हुए परिवार के साथ भक्ति के साथ गाई जाती है | भगवान श्री कृष्ण के साथ देवी राधा का यह आरती गीत वातावरण को आनंदित करता है। आइये स…
 
भगवान राम के अनन्य सेवक श्री हनुमानजी अपने भक्तों पर आने वाले सभी संकटों को हर लेते हैं। तभी उनको संकट मोचक भी कहा जाता है। प्रत्येक भक्त को हनुमान जी की पूजा करने के बाद अंत में रोज उनकी आरती करनी चाहिए। कहा जाता है कि मंगलवार को हनुमान जी की आरती करने से हनुमान जी अत्यंत खुश होते हैं। उनकी पावन आरती करने से सभी प्रकार की नकारात्मक शक्तियां दूर हो…
 
मेरा आपकी कृपा से, सब काम हो रहा है। करते हो तुम कन्हैया, मेरा नाम हो रहा है। आइये सुनते है कृष्ण जी का प्रसिद्ध भजन जिसे गा कर मिलती है मन को ख़ुशी।द्वारा Hubhopper
 
अधरं मधुरं वदनं मधुरं, नयनं मधुरं हसितं मधुरम्। हृदयं मधुरं गमनं मधुरं, मधुराधिपतेरखिलं मधुरम्॥द्वारा Hubhopper
 
ॐ महालक्मी नमो नमः मंत्र के जाप करने से लक्ष्मी माता प्रसन्न होती है और भक्तो पर अपनी कृपा दृष्टि बनाये रखती है। इस मंत्र का अनुवाद है: "ओम। हम श्री महा विष्णु की पत्नी, महान देवी श्री लक्ष्मी का ध्यान करें। वह तेजोमय महा लक्ष्मी देवी हमारे मन को समझ से प्रेरित और प्रकाशित करें।" नियमित रूप से इस मंत्र के पवित्र संस्कृत शब्दों को सुनने से भक्तो को …
 
गुरुवार का दिन साईं बाबा के भक्तों के लिए खास दिन होता है। मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान साईं के सामने साईं मंत्र जाप करने से सौभाग्य प्राप्त होता है। अगर साई भक्त उनके मंत्र का १०८ बार जाप करते है तो साई बाबा उन्हें हर कष्ट और दुःख से बचा लेते है। चलिए करते है साई बाबा के चमत्कारी मंत्र "ॐ साई नमो नमः" का १०८ बार जाप।…
 
श्री हरि विष्णु के सातवे अवतार मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम की चालीसा का पाठ करने से सभी भक्तो की समस्त समस्याएं धीरे धीरे समाप्त हो जाती है। राम चालीसा का नित्य पाठ करने से व्यक्ति का मन शांत होता है और उसमें ज्ञान - विवेक का विकास होता है। तो चलिए सुनते है रघुकुलनंदन प्रभु श्री राम जी की चालीसा।द्वारा Hubhopper
 
अम्बे तू है जगदम्बे काली माता की विख्यात आरती है। इसके गायन से माँ दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त होता है। माँ के विभिन रूपों की स्तुति आप इस आरती के माध्यम से कर सकते है। आइये सुनत है माँ की पावन आरती।द्वारा Hubhopper
 
गणेश जी की पूजा और आरती के बिना कोई भी पूजा, अनुष्ठान पूर्ण नहीं होते। पूजा किसी भी देवी-देवता की क्यों ना हो, गणपति जी की आरती के बिना पूजा सफल नहीं मानी जाती है। गणेश जी की पूजा करने से दाम्पत्य जीवन में सुख और सौभाग्य आता है और घर में समृद्धि बढ़ती है। खास कर के बुधवार को उनकी पूजा करने से गणेश जी जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं। तो आइये सुनते है उनकी…
 
हनुमान चालीसा की सैंतीसवी चौपाई “जै जै जै हनुमान गोसाईं। कृपा करहु गुरुदेव की नाई।।” में तुलसीदास जी कहते है "हे स्वामी हनुमानजी। आपकी जय हो, जय हो, जय हो। आप मुझ पर कृपालु श्री गुरुजी के समान कृपा कीजिए। तुलसीदास जी यहाँ केहना चाहते है की जीवन में और कोई योग्य गुरु न मिले तो हनुमान जी को गुरु और हनुमान चालीसा को ही मंत्र बना लीजिए।…
 
रशीद किदवई की हाल में प्रकाशित क़िताब पर रेहान फ़ज़ल की विवेचनाद्वारा BBC Hindi Radio
 
डगमग डगमग डोले नैया पार लगावो तो जानूँ खेवैया चंचल चित्त को मोह ने घेरा, पग-पग पर है पाप का डेरा, लाज रखो तो लाज रखैया पार लगावो तो जानूँ खेवैया छाया चारों ओर अँधेरा, तुम बिन कौन सहारा मेरा, हाथ पकड़ कर बंसी बजैया पार लगावो तो जानूँ खेवैया भक्तों ने तुमको मनाया भजन से, मैं तो रिझाऊँ तुम्हें आँसुवन से, गिरतों को आ के उठावो कन्हैया पार लगावो तो जानूँ …
 
तृतीय वर्ष समापन नागपुर प.पु. सरसंघचालक श्री मोहनजी भागवत
 
ये बिनती रघुबीर गुसांई, और आस बिस्वास भरोसो, हरो जीव जड़ताई, चहौं न कुमति सुगति संपति कछु, रिधि सिधि बिपुल बड़ाई, हेतू रहित अनुराग राम पद बढै अनुदिन अधिकाई, कुटील करम लै जाहिं मोहिं जहं जहं अपनी बरिआई, तहं तहं जनि छिन छोह छांडियो कमठ-अंड की नाईं, या जग में जहं लगि या तनु की प्रीति प्रतीति सगाई, ते सब तुलसी दास प्रभु ही सों होहिं सिमिटि इक ठाईं, Lis…
 
चितचोरन छबि रघुबीर की। बसी रहति निसि बासर हिय में बिहरनि सरजू तीर की । चितचोरन छबि रघुबीर की... उर मणि माल पीत पट राजत चलनि मस्त गज गीर की । चितचोरन छबि रघुबीर की... सिया अलि लखि अवध छैल छबि सुधि नहीं भूषण चीर की । चितचोरन छबि रघुबीर की... Listen to Bhajan sung by Dr. Uma Shrivastava by clicking here.…
 
ऑपरेशन ब्लू स्टार में सेना के घुसने से पहले उन्होंने स्वर्ण मंदिर की रक्षा की योजना बनाई.द्वारा BBC Hindi Radio
 
ऐसो को उदार जग माहीं । बिनु सेवा जो द्रवै दीन पर, राम सरस कोउ नाहीं ॥ जो गति जोग बिराग जतन करि, नहिं पावत मुनि ज्ञानी । सो गति देत गीध सबरी कहँ, प्रभु न बहुत जिय जानी ॥ जो संपति दस सीस अरप करि, रावण सिव पहँ लीन्हीं । सो संपदा विभीषण कहँ अति सकुच-सहित हरि दीन्हीं ॥ तुलसीदास सब भांति सकल सुख जो चाहसि मन मेरो । तो भजु राम, काम सब पूरन करहि कृपानिधि ते…
 
नाथ मेरो कहा बिगरेगो जायेगी लाज तुम्हारी भूमि बिहीन पाण्डव सुत डोले, जब ते धरमसुत हारे रही है ना पैज प्रबल पारथ की, कि भीम गदा महि डारी, नाथ मेरो कहा बिगरेगो ... शूर समूह भूप सब बैठे, बड़े बड़े प्रणधारी, भीष्म द्रोण कर्ण दुशासन, जिन्ह मोपे आपत डारी, नाथ मेरो कहा बिगरेगो ... तुम तो दीनानाथ कहावत, मैं अति दीन दुखारी, जैसे जल बिन मीन जो तड़पै, सोई गति भ…
 
Click here to listen to the bhajan sung by Dr. Uma Shrivastava भगवान मेरी नैया उस पार लगा देना । अब तक तो निभाया है, आगे भी निभा देना ॥ दल बल के साथ माया, घेरे जो मुझको आ कर । तो देखते न रहना, झट आ के बचा लेना ॥ भगवान मेरी नैया उस पार लगा देना । संभव है झंझटों में मैं तुमको भूल जाऊं । पर नाथ कहीं तुम भी मुझको ना भुला देना ॥ भगवान मेरी नैया उस पार ल…
 
किसकी शरण में जाऊं अशरण शरण तुम्हीं हो ॥ गज ग्राह से छुड़ाया प्रह्लाद को बचाया। द्रौपदी का पट बढ़ाया निर्बल के बल तुम्हीं हो ॥ अति दीन था सुदामा आया तुम्हारे धामा। धनपति उसे बनाया निर्धन के धन तुम्हीं हो ॥ तारा सदन कसाई अजामिल की गति बनाई। गणिका सुपुर पठाई पातक हरण तुम्हीं हो ॥ मुझको तो हे बिहारी आशा है बस तुम्हारी। काहे सुरति बिसारी मेरे तो एक तुम…
 
अबकी टेक हमारी, लाज राखो गिरिधारी। जैसी लाज रखी पारथ की, भारत जुद्ध मंझारी। सारथि होके रथ को हांक्यो, चक्र-सुदर्शन-धारी। भगत की टेक न टारी। अबकी टेक हमारी… जैसी लाज रखी द्रौपदि की, होन्हिं न दीन्हिं उघारी। खैंचत खैंचत दोऊ भुज थाके, दु:शासन पचि हारी। चीर बढ़ायो मुरारी । अबकी टेक हमारी… सूरदास की लज्जा राखो, अब को है रखवारी ? राधे राधे श्रीवर-प्यारी …
 
जो भजे हरि को सदा सो परम पद पायेगा .. देह के माला तिलक और भस्म नहिं कुछ काम के . प्रेम भक्ति के बिना नहिं नाथ के मन भायेगा .. जो भजे हरि को सदा सो परम पद पायेगा .. दिल का दर्पण साफ कर और दूर कर अभिमान को . खाक हो गुरु के चरण की फिर जनम नहीं पायेगा .. जो भजे हरि को सदा सो परम पद पायेगा .. छोड़ दुनिया के मज़े और बैठ कर एकांत में . ध्यान धर हरि के चरण…
 
सुनि कान्हा तेरी बांसुरी, बांसुरी तेरी जादू भरी॥ सारा गोकुल लगा झूमने, क्या अजब मोहिनी छा गयी, मुग्ध यमुना थिरकने लगी, तान बंसी की तड़पा गयी, छवि मन में बसी सांवरी। सुनि कान्हा तेरी बांसुरी बांसुरी तेरी जादू भरी हौले से कोई धुन छेड़ के, तेरी मुरली तो चुप हो गयी, सात सुर भंवर में कहीं, मेरे मन की तरी खो गयी, मैं तो जैसे हुई बावरी। सुनि कान्हा तेरी ब…
 
म्हाणे चाकर राखो जी, गिरधारी ... चाकर रहस्यूँ बाग लगास्यूँ नित उठ दरशन पास्यूँ। वृन्दावन की कुञ्ज गलिन में गोविन्द लीला गास्यूँ। म्हाणे चाकर राखो जी, गिरधारी ... ऊँचे ऊँचे महल बनाऊँ बिच बिच राखूँ क्यारी। साँवरिया के दरशन पाऊँ पहर कुसुम्बी साड़ी। म्हाणे चाकर राखो जी, गिरधारी ... मीराँ के प्रभु गहर गम्भीरा हृदय धरो री धीरा। आधी रात प्रभु दरशन दीन्हे …
 
Click here to listen to bhajan in the voice of Dr. Uma Shrivastav यदि नाथ का नाम दयानिधि है, तो दया भी करेंगे कभी न कभी । दुखहारी हरी, दुखिया जन के, दुख क्लेश हरेगें कभी न कभी । जिस अंग की शोभा सुहावनी है, जिस श्यामल रंग में मोहनी है । उस रूप सुधा से स्नेहियों के, दृग प्याले भरेगें कभी न कभी । जहां गीध निषाद का आदर है, जहां व्याध अजामिल का घर है । …
 
मंगल मूरति राम दुलारे, आन पड़ा अब तेरे द्वारे, हे बजरंगबली हनुमान, हे महावीर करो कल्याण, हे महावीर करो कल्याण ॥ तीनों लोक तेरा उजियारा, दुखियों का तूने काज सँवारा, हे जगवंदन केसरीनंदन, कष्ट हरो हे कृपानिधान ॥ मंगल मूरति राम दुलारे… तेरे द्वारे जो भी आया, खाली नहीं कोई लौटाया, दुर्गम काज बनावन हारे, मंगलमय दीजो वरदान ॥ मंगल मूरति राम दुलारे… तेरा सु…
 
गोविंद कबहुं मिलै पिया मेरा॥ चरण-कंवल को हंस-हंस देखूं राखूं नैणां नेरा। गोविंद, राखूं नैणां नेरा। गोविंद कबहुं मिलै पिया मेरा॥ निरखणकूं मोहि चाव घणेरो कब देखूं मुख तेरा। गोविंद, कब देखूं मुख तेरा। गोविंद कबहुं मिलै पिया मेरा॥ व्याकुल प्राण धरत नहिं धीरज मिल तूं मीत सबेरा। गोविंद, मिल तूं मीत सबेरा। गोविंद कबहुं मिलै पिया मेरा॥ मीरा के प्रभु गिरधर …
 
रघुवर तुमको मेरी लाज । सदा सदा मैं शरण तिहारी, तुम हो गरीब निवाज़ ॥ पतित उधारण विरद तिहारो, श्रवनन सुनी आवाज । तुमको मेरी लाज, रघुवर तुमको मेरी लाज … हौँ तो पतित पुरातन कहिए, पार उतारो जहाज ॥ तुलसीदास पर किरपा कीजै, भगति दान देहु आज ॥ तुमको मेरी लाज, रघुवर तुमको मेरी लाज … अघ खंडन दुःख भन्जन जन के, यही तिहारो काज । तुमको मेरी लाज, रघुवर तुमको मेरी …
 
Click here to listen to the bhajan sung by Dr. Uma Shrivastava अब सौंप दिया इस जीवन का, सब भार तुम्हारे हाथों में. उद्धार पतन अब मेरा है, भगवान तुम्हारे हाथों में. अब सौंप दिया इस जीवन का… हम तुमको कभी नहीं भजते, फिर भी तुम हमें नहीं तजते. अपकार हमारे हाथों में, उपकार तुम्हारे हाथों में. अब सौंप दिया इस जीवन का… हम में तुम में है भेद यही, हम नर हैं…
 
Click here to listen to the bhajan by Dr. Uma Shrivastav यही हरि भक्त कहते हैं, यही सद्-ग्रन्थ गाते हैं । कि जाने कौन से गुण पर दयानिधि रीझ जाते हैं ॥ नहीं स्वीकार करते हैं निमंत्रण नृप सुयोधन का । विदुर के घर पहुंचकर भोग छिलकों का लगाते हैं ॥ कि जाने कौन से गुण पर दयानिधि रीझ जाते हैं । यही हरि भक्त कहते हैं, यही सद्-ग्रन्थ गाते हैं ॥ न आये मधुपुर…
 
प्रबल प्रेम के पाले पड़ कर, प्रभु को नियम बदलते देखा । उनका मान भले टल जाए, भक्त का मान न टलते देखा ॥ जिनकी केवल कृपा दृष्टि से, सकल सृष्टि को पलते देखा । उनको गोकुल के गोरस पर, सौ-सौ बार मचलते देखा ॥ प्रबल प्रेम के पाले पड़ कर… जिनके चरण कमल कमला के, करतल से न निकलते देखा । उनको बृज करील कुञ्जों में, कंटक पथ पर चलते देखा ॥ प्रबल प्रेम के पाले पड़ …
 
अब तो माधव मोहे उबार | दिवस बीते रैन बीती, बार बार पुकार || नाव है मझधार भगवान्, तीर कैसे पाए, घिरी है घनघोर बदली पार कौन लगाये | काम क्रोध समेत तृष्णा, रही पल छिन घेर, नाथ दीनानाथ कृष्ण मत लगाओ देर | दौड़ कर आये बचाने द्रौपदी की लाज, द्वार तेरा छोड़ के किस द्वार जाऊं आज | Listen to Bhajan sung by Dr. Uma Shrivastava by clicking here.…
 
नमो अंजनिनंदनं वायुपूतम् सदा मंगलाकर श्रीरामदूतम् । महावीर वीरेश त्रिकाल वेशम् घनानन्द निर्द्वन्द हर्तां कलेशम् । नमो अंजनिनंदनं वायुपूतम् सदा मंगलाकर श्रीरामदूतम् । संजीवन जड़ी लाय नागेश काजे गयी मूर्च्छना रामभ्राता निवाजे। सकल दीन जन के हरो दुःख स्वामी नमो वायुपुत्रं नमामि नमामि। नमो अंजनि नंदनं वायुपूतम् सदा मंगलागार श्री राम दूतम् । Listen to B…
 
रघुवर तेरो ही दास कहाऊँ तेरो नाम जपूँ निसि वासर तेरो ही गुण गाऊँ रघुवर तेरो ही दास कहाऊँ तुम ही मेरे प्राण जीवन धन तुम तजि अनत न जाऊँ तुम्हरे चरण कमल को भज कर रतन हरि सुख पाऊँ रघुवर तेरो ही दास कहाऊँ Listen to Bhajan sung by Dr. Uma Shrivastava by clicking here.द्वारा Shri Ram Parivar
 
साधो, मन का मान त्यागो। काम, क्रोध, संगत दुर्जन की, इनसे अहि निशि भागो, साधो, मन का मान त्यागो… सु:ख-दुःख दोऊ सम करि जानो, और मान अपमाना, हर्ष-शोक से रहै अतीता, तीनों तत्व पहचाना, साधो, मन का मान त्यागो… अस्तुति निंदा दोऊ त्यागो, जो है परमपद पाना, जन नानक यह खेल कठिन है, सद्गुरु के गुन गाना, साधो, मन का मान त्यागो… alternate अस्तुति निंदा दोऊ त्याग…
 
श्याम आये नैनों में बन गयी मैं साँवरी शीश मुकुट बंसी अधर रेशम का पीताम्बर पहने है वनमाल, सखी सलोनो श्याम सुन्दर कमलों से चरणों पर जाऊँ मैं वारि री मैं तो आज फूल बनूँ धूप बनूँ दीप बनूँ गाते गाते गीत सखी आरती का दीप बनूँ आज चढ़ूँ पूजा में बन के एक पाँखुड़ी Listen to Bhajan sung by Dr. Uma Shrivastava by clicking here.…
 
तू दयालु, दीन हौं, तू दानि, हौं भिखारी। हौं प्रसिद्ध पातकी, तू पाप-पुंज-हारी॥ नाथ तू अनाथ को, अनाथ कौन मोसो। मो समान आरत नहिं, आरतिहर तोसो॥ ब्रह्म तू, हौं जीव, तू है ठाकुर, हौं चेरो। तात-मात, गुरु-सखा, तू सब विधि हितु मेरो॥ तोहिं मोहिं नाते अनेक, मानियै जो भावै। ज्यों त्यों तुलसी कृपालु! चरन-सरन पावै॥ Listen to Bhajan sung by Dr. Uma Shrivastava…
 
कान्हा तोरी जोहत रह गई बाट । जोहत जोहत एक पग ठानी, कालिंदी के घाट, कान्हा तोरी जोहत रह गई बाट । झूठी प्रीत करी मनमोहन, या कपटी की बात, कान्हा तोरी जोहत रह गई बाट । मीरा के प्रभु गिरघर नागर, दे गियो बृज को चाठ, कान्हा तोरी जोहत रह गई बाट । Listen to Bhajan sung by Dr. Uma Shrivastava by clicking here.…
 
Listen to the Holi `Ram Janki ki Hori` sung by Shri Vibhu Varma राम-जानकी की होरी (२) जनकपुर देखन चलो री, राम-जानकी की होरी… कौशल भूषण इत रघुनन्दन, उत मिथिलेश किशोरी, (२) सखा राम के, सखी सिया की, (२) कैसा ये फाग रचो री, जुगल छवि आज लखो री, राम जानकी की होरी… लपक झपक सीता ने लक्ष्मण, पकड़ लिये बरजोरी, (२) कहां गये वो धनुष बाण अब, (२) बेंदी माथे धरो …
 
Listen to this Holi `Holi aayii re kaanhaa brij ke basiya' in the voice of Dr. Uma Shrivastava होलीआई रे कान्हा बृज के बसिया होलीआई रे कान्हा… आज बिरज में धूम मची है, सब मिल खेलें होली झांझ मृदङ्ग मंजीरा बाजे, नाचे छोरा छोरी ऐसी धूम मची बृज में रसिया होलीआई रे कान्हा… अपने अपने घर से निकसी, कोई श्यामल कोई गोरी, किसी के हाथ गुलाल पिटारी कोई मारे पिच…
 
अरुण शौरी की किताब 'द कमिश्नर ऑफ़ लॉस्ट कॉजेज़' में भागलपुर ब्लाइंडिंग केस की चर्चा है.द्वारा BBC Hindi Radio
 
5 साल में शेरशाह सूरी नें अपनी अमिट छाप छोड़ी जिसकी वजह से उन्हें आज तक याद किया जाता है.द्वारा BBC Hindi Radio
 
एम जे अकबर की किताब 'दुलाली साहब एंड द ब्लैक ज़मींदार' अंग्रेज़ों के अत्याचार की कहानी हैद्वारा BBC Hindi Radio
 
''श्री मन नारायण नारायण हरि हरि'' भजन में हरी भक्त भगवन विष्णु के एक बार दर्शन की अभिलाषा व्यक्त कर रहे है। आइये सुने ये पावन भज।द्वारा Hubhopper
 
स्कंद पुराण में वर्णित एक कथा के अनुसार बिना आरती के राम जी की पूजा को संपूर्ण नहीं माना जाता। राम जी की आरती सभी आरतीयो में से पावन मानी जाती है। कहा जाता है कि राजा राम चंद्र भगवान की आरती सुनने मात्र से सभी समस्याओं का समाधान हो जाता है। आइये सुने आरती राम जी की।द्वारा Hubhopper
 
गुरुवार के दिन साईं भक्त साईंबाबा की कृपा पाने के लिए अनेक पूजा उपाय, स्तुति का पाठ या मंत्रों का जप भी करते हैं। गुरुवार के दिन यदि साईं बाबा के इन मंत्रों का 108 बार जाप किया जाए तो जीवन में खुशियां आती हैं और हर प्रकार के कष्ट और बाधाओं से मुक्ति मिलती है। उनके मंत्र जप से ईर्ष्या, द्वेष, स्वार्थ, कलह आदि सरे बुरे भाव दूर हो जाते है। आइये सुने स…
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका

Google login Twitter login Classic login