show episodes
 
सनातन धर्म में ॐ को बहुत ही प्रभावशाली माना गया है। ॐ का उच्चारण करते समय तीन अक्षरों की ध्वनि निकलती है। ये तीन अक्षर क्रमशः अ+उ+म् हैं। इसमें 'अ' वर्ण 'सृष्टि' का घोतक है 'उ' वर्ण 'स्थिति' दर्शाता है जबकि 'म्' 'लय' का सूचक है। इन तीनों अक्षरों में त्रिदेव यानी (ब्रह्मा,विष्णु,महेश) का साक्षात वास माना जाता है। ॐ के जाप को अनिष्टों का समूल नाश करने वाला माना गया है। एहि नहीं, ॐ के उच्चारण से शारीरिक और मानसिक रूप से शांति भी प्राप्त होती है।
 
Loading …
show series
 
लक्ष्मी की सोच, उसे अनर्थ के होने की अनुभूति कराने लगती है| सुनिए की क्या उसकी सोच सच तो नहीं हो जाएगी|
 
परम पूज्य गुरुदेव श्री श्री रविशंकर जी द्वारा प्रदत्त नित्य दिन के ज्ञानसूत्र
 
यह एक नाटक है जिसमें पाँच दृश्य है| पहला दृश्य हमें बताता है कि कमला को एक फिरंगन बहू से कितनी दिक्कत है|
 
परम पूज्य गुरुदेव श्री श्री रविशंकर जी द्वारा प्रदत्त नित्य दिन के ज्ञानसूत्र
 
परम पूज्य गुरुदेव श्री श्री रविशंकर जी द्वारा प्रदत्त नित्य दिन के ज्ञानसूत्र
 
परम पूज्य गुरुदेव श्री श्री रविशंकर जी द्वारा प्रदत्त नित्य दिन के ज्ञानसूत्र
 
श्रावण का सोमवार अपने में ही एक मनोकामना होता है| जिसमें कई लड़कियां वर-दान मांगने अपने आराध्य के पास पहुंचती है| तो सुनिए उसकी एक मनमोहक कहानी|
 
परम पूज्य गुरुदेव श्री श्री रविशंकर जी द्वारा प्रदत्त नित्य दिन के ज्ञानसूत्र
 
पहली मुलाक़ात में प्रेम हो जाना भी बहुत बड़ी चीज़ है| तो सुनिए प्रेरणा की उसके राजकुमार से पहली मुलाक़ात|
 
परम पूज्य गुरुदेव श्री श्री रविशंकर जी द्वारा प्रदत्त नित्य दिन के ज्ञानसूत्र
 
परम पूज्य गुरुदेव श्री श्री रविशंकर जी द्वारा प्रदत्त नित्य दिन के ज्ञानसूत्र
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका

Google login Twitter login Classic login