अभिषेक सार्वजनिक
[search 0]
अधिक

Download the App!

show episodes
 
नमस्कार दोस्तों , Anchor Fm के Talk to the Heart में आपका स्वागत है , मैं कुमार अभिषेक एक वौइस् ओवर आर्टिस्ट , अपनी आवाज़ के द्वारा , भिन्न भिन्न विषयो के साथ आपके सामने प्रस्तुत हो रहा हूँ , मैं कुछ मोटिवेशनल , कुछ हास्य ड्रामा, देश ,संस्कृति तो कुछ हिंदी पुराने गीतों को भी प्रस्तुत करता रहता हूँ और कुछ नामी -अनामी कवियों की कविताओं को विविध अंदाज़ में प्रस्तुत करने का प्रयास करता रहता हूँ । आशा करता हूँ , मैं अपने इस प्रयास में आपके सहयोग से सफल हो पावूंगा। धन्यवाद् Hello friends , Welcome t ...
 
Loading …
show series
 
सुकरात और आइना | Sukrat Aur Aieena | Talk to the Heart में आपका हार्दिक स्वागत है। व्यक्तित्व का निखार बाहर से नहीं भीतर से होता है। पर आजकल हम सब बाहर ही अपना सारा ध्यान केंद्रित किये रहते है। इसके कारण ही हमारी वैयक्तिक चेतना विकसित नहीं हो पाती है। और हम वैश्विक चेतना में जीते रहते है। --- This episode is sponsored by · Anchor: The easiest way t…
 
कभी कभी आदमी उसके दिन को बुरा बना लेता है। Kabhi Kabhi Admi Uske Din Ko Bura Banaa Leta Hai .मनुष्य स्वभाव से ही भविष्य दृष्ट्रा रहा है , वो आजकी नहीं कल की चिंता में डूबा रहता है। पर वो ये भी तो जनता की चिंता से काम संवरते नहीं बिगते है। जब आपकी सोच नकारत्मकता के चिंतन से घिर जाएगी तो वो सही परिणाम कैसे दे सकती है। ये बात अच्छी तरह से समझनी होगी। …
 
हमारा व्यक्तित्व | व्यक्तित्व का निखार बाहर से नहीं भीतर से होता है। पर आजकल हम सब बाहर ही अपना सारा ध्यान केंद्रित किये रहते है। इसके कारण ही हमारी वैयक्तिक चेतना विकसित नहीं हो पाती है। और हम वैश्विक चेतना में जीते रहते है। हमारा व्यक्तित्व जिसके अंतर्गत हम कुछ जीवनउपयोगी बाते करेंगे। सुनते रहे। धन्यवाद | Our personality | Personality flourishes …
 
पल पल दिल के पास नगमे सुहाने | PAL PAL DIL KE PAS |इस कार्यक्रम के अंतर्गत कुछ सुहाने नग्मों का सफर तय करने की कोशिश की है। जो मुझे अच्छे लगे कुछ गिनेचुने फूलो की लड़ियाँ आपके सामने मेरी आवाज़ में पेश करने का एक प्रयास। आशा करता हूँ आप इसे सराहेंगे। धन्यवाद | Under this program, some pleasant efforts have been made to travel. What I like is an attemp…
 
आखिरी सफर | पिछले एपिसोड में हमने देखा की सार्थक कुछ उखड़ा उखड़ा सा कुछ खोया खोया सा रहता था। उसका मन कही नहीं लग रहा था। और बार बार वो अपने आपको कोसता रहता था। जैसे उसने अमृता को हमेशा के लिए खो दिया था। अब आगे देखते है क्या होता है। In the last episode, we saw that there was something meaningful, uprooted and some lost, lost and lost. His mind coul…
 
आखिरी सफ़र| Last Ride | इस कहानी के प्रस्तुतकर्ता है प्रतिलिपि , लेखक है आकाशदीप | पति-पत्नी का संबंध एक ऐसा अटूट संबंध है जिस संबंध पर तन, मन, धन सबकुछ न्यौछार हो जाता है। यह संबंध है प्रेम का, ये संबंध है उस रिश्ते का जिसे हम दिल और आत्मा से स्वीकार करते हैं। यह वो संबंध है जिसके लिए हम अपने जीवन का सबकुछ एक-दूसरे पर न्यौछावर कर देते हैं।ये कहानी…
 
सेल्स में कैसे पाए सफलता | SALES MEI KESE PAYE SAFALTA | सेल्स में सफलता आपको ज़रूरत पैदा करनी होगी। आपको लोगो की ज़रूरत बनानी होगी। आपको कुछ ऐसा करना होगा। जिससे लोग आपके प्रोडक्ट्स में इंटरेस्ट दिखाए। तभी आप सेल्स में मास्टर बन पाएंगे। बातों को बढ़ा-चढ़ाकर मत बोलें या न ही ज्यादा झूठ बोलें। प्रोडक्ट की पोजीशनिंग धारणा बनाने के बारे में है, धोखे से …
 
क्या मधुबाला हीरोइन बन पाई | Kyaa Madhubala Heroin Ban Paiee | एक ऐसी लड़की की कहानी जो अभिनेत्री बनने के सपने लेकर मुंबई तो आती है। पर फिर शुरू होती है संघर्ष की कहानी। The story of a girl who comes to Mumbai with dreams of becoming an actress. But then the story of struggle begins --- This episode is sponsored by · Anchor: The easiest way to make …
 
लवमंत्र : यह कैसा प्यार है | LOVE Mantra | प्यार, रोमांस ये मानवीय भावनाओं का नाम है, अब यह समय बदल गया है, आज के युवा एक जीवन जीते हैं जो वे चाहते हैं, हालांकि, हर कोई इस तरह की छेड़खानी वाले जीवन को नहीं मानता है। लेकिन अधिकांश युवा बिना किसी बाध्यता के मुक्त जीवन चाहते हैं, यह वैसा ही होना चाहिए जैसा वे चाहते हैं, वे हर मामले को इसी तरह चाहते है…
 
सकारात्मक सोच की कहानी |सफलता का रहस्य | नमस्कार दोस्तों , हम सब एक विचार सागर में रहते है। इसलिए दुसरो के विचार भी हमारे दिमाग पर असर करते है। पर कुछ लोगो का जीवन एक कंवल की भांति होता है , वो दुसरो का मार्गदर्शन करते रहते है। जिसके द्वारा हमारा जीवन उत्साहित होता रहता है। आप जीवन में किसी भी चीज को पाना चाहते हो, तो उसे आपका बेइंतहा चाहना जरुरी ह…
 
लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती | Lehron Se Dar Kar Nauka Paar Nahi Hoti | राष्ट्रीय कवि सोहनलाल द्विवेदी की रचना में जीवन की सफलता का रहस्य छुपा है। मनुष्य को सिख मिलती है , की छोटी सी ठोकर से गिर जाए तो फिरसे उठकर आगे चलना ही जीवन है , रुकना तो मौत है। " बैठ जाता हूँ मिट्टी पे अक्सर " एक अनामी कवि की रचना है।जो हमें निरभिमान होकर जीवन रहने की सि…
 
Hello Dear Listenrs आप की आँखों में कुछ महके हुए से राज़ है | Apki Ankho Mei Kuchh Mehke Huve Se Raaj Hai आज आपके सामने १९७८ में बनी एक रोमांटिक पर पारिवारिक हिंदी फिल्म "घर" का खूबसूरत गीत प्रस्तुत कर रहा हु। फेमल की आवाज़ दे रही है श्रीमती संध्या अटकुरी Director - Release date: 9 February 1978 (India) Director: Manik Chatterjee | Music director: R.…
 
कोई कितने ही फल तोड़े, पेड़ को तो बस फलते ही जाना है। इस छोटी सी प्रेरक कहानी में, किसी पेड़ से फल तोड़ कर उसे बेझार छोड़ देना स्वार्थी मनुष्य स्वाभाव का एक उदाहरण है। किसी के उपकार को हम थैंक यू भले ना कहे , पर उसके दिल को ठेस तो ना पहुचाये , ये दुनिया भावना के अभावो में जीने लगी है। इसी लिए लोगो को कदम कदम पर चोंट मिलती है। क्यों की हमारी सुख व्यवस्था…
 
पैरों के निशान | foot prints (An Inspirational Short Story) जो, परम तत्व परमात्मा में अपनी श्रद्धा रखते है , उनके जीवन का एक एक क्षण अमूल्य बन जाता है। वो जिस जिस कार्य को करते है, वो कार्य एक संवेदना की नमी लिए रहता है , उसमे एक प्रकार से धड़कता जीवन होता है। इसमें एक कड़वा सच भी है। उस व्यक्तित्व को अमूल्य रत्न के भांति कई परीक्षाओ से गुज़रना पड़ता ह…
 
Hello Dear Listeners, आशा करता हूँ आप सभी ठीक होंगे। आज मैं आपलोगो के लिए लेकर आया हूँ। कुछ ऐसी बातें जो सभी के जीवन से जुडी है। इस प्यार को क्या नाम दें: आज के युवाओं की नजर में प्यार क्या है? इस शीर्षक के अंतर्गत श्रीमती कमला बडोनीजी की रचना को सुनते है। मै कुमार अभिषेक Anchor fm के Talk To The Heart में आपका हार्दिक स्वागत करता हु। सुनते रहे। To…
 
रिश्तों में बोझ या बोझिल रिश्ते- क्यों और क्या हैं कारण?| Burden or burdensome relationships in relationships - why and what are the reasons? रिश्ते जीने का संबल, जीने का सबब, एक सहारा या यूं कहें कि एक साथ… रिश्तों को शब्दों के दायरे में परिभाषित नहींकिया जा सकता, उन्हें तो सिर्फ़ भावनाओं में महसूस किया जा सकता है. लेकिन बात आजकल के रिश्तों की करे…
 
हम जिस स्वतंत्र भारत में रहते है , वो आजभी स्वतंत्र नहीं है , यहां कई जयचंद है , कई औरंगजेब है , और कई फिरंगी भी है। जबतक ये मानस इस धर्म भूमि पर है , तबतक नाही हिन्दू राष्ट्र , वैदिक, अथवा सनातन धर्म की कोरी कल्पना साकार हो पायेगी । जागरण आवश्यक है , आज ही हमे उठना होगा और कुचलनि होगी मुग़ल सोच को , अंग्रजी सोच को, घर घर से सरदार पटेल , भगत सिंह , …
 
मेरी है ज़िन्दगी | Meri Hai Zindagi A Beautiful Poem from Kamal Deora इंसान का जीवन कभी धुप - कभी छाँव है , कभी सुख तो कभी दुःख इसमें यदि हम केवल सुख ही चाहे और दुःख का अस्वीकार करे तो ये सम्भव नहीं। आइये सुनते है ये सुंदर सी कविता जिसे लिखी है। कमल डेरोराजी ने। The life of a human being is sometimes a shade of joy, sometimes happiness and sometimes…
 
बातों बातों में प्यार हो जायेगा। BATON BATON MEIN PYAAR HO JAYEGA | You will fall in love with things. | is a 1979 Indian romantic comedy film, produced and directed by Basu Chatterjee. The film stars Amol Palekar and Tina Munim in leading roles. David, Pearl Padamsee, Asrani and Ranjit Choudhary appear in supporting roles. | A Beautiful Romantic S…
 
Hello Listenrs Friends, में आज आपके सामने एक खूबसूरत गीत लेकर आया हूँ। कहीं ना जा आज कहीं मत जा | Kahin Na Ja Aaj Kahin Mat Ja Phir Mile Na | Bade Dilwala - 1983 | Late Rishi Kapoor & Teena Munim performed great character in the movie. Kishor Kumar & Lata Mangeskar Has been Sung this song Covered by Sanglot Sandhya and kumarABHISHEK | Please Listen…
 
इंसान का चेहरा उसके दिल का आईना होता है. जो दिल में है वो चेहरे पर नुमाया हुए बग़ैर नहीं रह पाता. और अगर उस चेहरे पर मुस्कुराहट आ जाए तो कहने ही क्या. किसी ने ख़ूब कहा है 'मुस्कुराहट चेहरे का नूर है.' कभी-कभी इंसान का दर्द भी मुस्कुराहट बन कर चेहरे पर आ जाता है, तो कभी यही मुस्कुराहट किसी की खुशी की वजह बन जाती है. एक बच्चे की मुस्कुराहट हमारी सारी…
 
अपने हिस्से का दिया जलाना होगा। Have to burn your lamp इस दिवाली के पुण्य पर्व पर कुछ कविता के द्वारा दीपावली के पर्व को मनाये, आइये हम जीवन के अर्थ को कुछ इस प्रकार से रोशन करे। Celebrate the festival of Diwali with some poetry on the auspicious festival of this Diwali, let us illuminate the meaning of life in this way. --- This episode is sponsor…
 
श्री गुरु गोविंदसिंहजी महाराज - सवा लाख से एक लड़ाऊँ चिड़ियों सों मैं बाज तड़ऊँ तबे गोबिंदसिंह नाम कहाऊँ – गुरु गोविंद सिंह, ख़ालसा मेरो रूप है ख़ास, ख़ालसा में हो करो निवास । गुरु गोविंद सिंह ने धर्म एवं समाज की रक्षा हेतु ही ख़ालसा पंथ की स्थापना की । --- This episode is sponsored by · Anchor: The easiest way to make a podcast. https://anchor.fm/…
 
Osho Ne Kaha Tha . ओशो ने कहा था। आदमी की चिंता यही है कि जहा कुछ भी नहीं ठहरता, वहां वह ठहराने का आदमी आग्रह करता है। अगर मुझे यश है, तो मैं सोचता हूं मेरा यश ठहर जाए। अगर मेरे पास धन है, तो मैं सोचता हूं मेरे पास धन ठहर जाए। अगर मेरे पास जो भी है, मैं चाहता हूं वह ठहर जाए। अगर मुझे कोई प्रेम करता है, तो मैं चाहता हूं यह प्रेम चिर हो जाए। सभी प्रे…
 
क्या हुआ इक बात पर बरसो का याराना गया - अमित कुमार जी का गया "तेरी कसम " फिल्म का ये इमोशनल गीत है। मैंने केवल एक प्रयास किया है अपने स्वर में ढालने का। आशा करता हूँ मेरा ये छोटा सा प्रयास आपको पसंद आएगा। धन्यवाद्। Barso Ka Yarana Gaya on Kya Hua Hua Ek Baat - Amit Kumar Ji's Gaya "Teri Kasam" is an emotional song from the film. I have made only on…
 
Talk to Hear ---In this section you can listen POEMS JUST A FEELINGS.... I am kumar ABHISHEK a Voice over Artist always try to gift you something thrilled and soft touch audiable audio clips, today presenting some great poets creations at this platform --- This episode is sponsored by · Anchor: The easiest way to make a podcast. https://anchor.fm/a…
 
Baat Ek Raat ki - Old Film Song.... Singer - Hemant kumar, Covered by kumarABHISHEK | https://youtu.be/vqidoSB8nAY --- This episode is sponsored by · Anchor: The easiest way to make a podcast. https://anchor.fm/app--- Send in a voice message: https://anchor.fm/kumar-abhishek/messageSupport this podcast: https://anchor.fm/kumar-abhishek/support…
 
सतीश बाबू के कहने पर बाबुलालजी लड़की वालो के लड़का देखने के लिए बुलाते है, इसी समय पंडितजी का बखेड़ा होता है। उनकी लड़की पर बाँझ होने का आरोप आता है। फिर क्या हुआ। देखि अंतिम कड़ी / --- This episode is sponsored by · Anchor: The easiest way to make a podcast. https://anchor.fm/app--- Send in a voice message: https://anchor.fm/kumar-abhishek/messageSuppo…
 
एक दिन तुम बहुत बड़े बनोगे एक दिन | Ek Din Tum Bahut Bade Banoge Ek Din | Artists: Hemlata, Shailendra Singh Movie: Ankhiyon Ke Jharokhon Se Released: 1978 College competitors Lily and Arun gradually fall in love and soon, both their parents approve of their relationship. However, their lives turn upside down when she is diagnosed with leukaemia. --…
 
गुफ्तगू प्यार की | Love talk दो दिलो की बातें कुछ नोकझोंक तो कुछ प्यार की बातें यहाँ प्रस्तुत की गई है। वौइस् ओवर है श्री कुमार अभिषेक Two words of heart, some noises and some things of love are presented here. Mr. Kumar Abhishek is voice over --- This episode is sponsored by · Anchor: The easiest way to make a podcast. https://anchor.fm/app--- Sen…
 
एक प्रेरक कहानी जो जीवन को एक सच्ची राह बताती है। इ कहानी अमेरिका के एक धनाढ्य व्यक्ति की है जिसने अपने जीवन में केवल पैसे को ही महत्व दिया व्यक्ति या अन्य को नहीं। अंत में उसे लगा की धन से भी अधिक बहुत कुछ इस जीवन में था , है पर उसे मैंने कभी नहीं चाहा। A motivational story that tells life a true path. This story is about a wealthy American man wh…
 
https://youtu.be/VbeW0CV7oD4 | Comedy Act | कॉमेडी नाटक |मुंशी इतवारीलाल और बाज़ बहु |Part-2 | पिछली बार हमने देखा के सतीश बाबू अपनी कूटनीति से बाबुलालजी को फंसा लेते है , और बाबुलालजी अपने लड़के का दूसरा विवाह कराने के लिए राजी हो जाते है , अब आगे देखते है , सुनते है। --- This episode is sponsored by · Anchor: The easiest way to make a podcast. http…
 
हास्य नाटक | comedy act | मुंशी इतवारीलाल और बाज़ बहु बाबूलाल: (बड़बड़ाते हुए) एक हजार एक सौ मरतबा समझा गया, पर वाह रे तिरिया! कान पर जूं नहीं रेंगती। सतीश: (आवाज लगाकर) क्या बात है बाबूलालजी, सुबह जल्दी लालटेन हो रहे हो! बैठक में आने वाले या अंदर ही भाषण देते रहते हैं। बबलू: (पास आते हुए) आया सतीश बबलू! भाषण नहीं दे रहा हूँ। अपने कर्म को रो रहा हूँ…
 
किस्सा 81 - 1971 की जंग से पहले सेनाध्यक्षों ने अहंकार पर हासिल की जीतद्वारा अभिषेक
 
किस्सा 80 - शास्त्री जी ने फिर कभी नहीं किया राजभवनों का रूखद्वारा अभिषेक
 
किस्सा 79 - जब ‘बाबा बर्फानी’ की यात्रा में मरते-मरते बचें नेहरू जीद्वारा अभिषेक
 
किस्सा 78 - जब प्रयत्नपूर्वक भूला दिया गया ‘एका आंदोलन’द्वारा अभिषेक
 
किस्सा 77 - जब हाजिरजवाब अटल ने निकाली इंदिरा के ‘दंभ’ की हवाद्वारा अभिषेक
 
किस्सा 76 - इंग्लैंड में सुझा था पाकिस्तान का ‘कुविचार’द्वारा अभिषेक
 
किस्सा 75 - जब भरी सभा में ‘दिनकर’ बोले ‘जनता आलसी है’!द्वारा अभिषेक
 
किस्सा 74 - ओबामा को आज भी प्रिय है हमारे ‘हनुमान जी’द्वारा अभिषेक
 
किस्सा 73 - जब सीरियाई राजदूत ने भारतीय विधाओं का किया अध्ययनद्वारा अभिषेक
 
किस्सा 72 - जब भारतीय पत्रकारों ने माउंटबेटन को निडरता से दिया जवाबद्वारा अभिषेक
 
किस्सा 71 - जब अमरिकी मदद ने किया भारतीय विदेशनीति का बड़ा ‘नुकसान’द्वारा अभिषेक
 
किस्सा 70 - जहां कर्फ्यू का नियम आजतक बना हुआ है लोगों के जीवनशैली का हिस्साद्वारा अभिषेक
 
किस्सा 69 - जब रंगभेद के दंश से हुआ ‘गांधीजी’ का सामनाद्वारा अभिषेक
 
किस्सा 68 - जब टोडरमल ने सुझाया नाप का पैमाना ‘जरीब’द्वारा अभिषेक
 
किस्सा 67 - जब ठेठ ग्रामीण जनजीवन देखकर मंत्रमुग्ध हुए ‘डॉ. कलाम’द्वारा अभिषेक
 
किस्सा 66 - जब ‘कालापानी’ मुझे नहीं तोड पाई तो ये भूख क्या तोडेंगीद्वारा अभिषेक
 
Loading …

त्वरित संदर्भ मार्गदर्शिका

Google login Twitter login Classic login